Wednesday, October 20, 2021
Follow us on
BREAKING NEWS
आज उत्तराखंड जाएंगे गृह मंत्री अमित शाह, बाढ़ की स्थिति की करेंगे समीक्षाउत्तराखंड में केदारनाथ यात्रा को हरी झंडी, फिर हुई शुरूजम्मू-कश्मीर: पुंछ में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरूकुशीनगर यूपी का तीसरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बना, 26 नवंबर से दिल्ली से शुरू होगी यहां के लिए फ्लाइटहर साल 5 लाख रुपये तक कैशलेस मेडिकल सुविधा ले सकेंगे नंबरदार – दुष्यंत चौटालाजन समस्याओं का हल राज से होता है, इस्तीफा देने से नहीं – डॉ. अजय चौटालास्वास्थ्य विभाग के अधिकारी डेंगू की रोकथाम के लिए आवश्यक कदम उठाएं- स्वास्थ्य मंत्रीमंडियों में भीग रही है किसान की फसल, तमाशबीन बनी देख रही सरकार- हुड्डा
National

पहले अधिकारी बनो, फिर अधिकार लो !

October 02, 2021 07:53 PM
डॉ कमलेश कली 
आज महात्मा गांधी जी के जन्म दिवस पर उनके प्रखर चिंतन , उनके योगदान तथा उनके विचारों की आज भी कितनी जरूरत है, कितनी प्रासांगिकता है,इस पर खूब चिंतन मनन होगा, सेमिनार और गोष्ठियों का आयोजन होगा आदि आदि। गांधी जी ने गीता के अनासक्त योग को जीवन में उतारा। उन्होंने राजनीति को अपना धर्म मान कर जीवन जीने की प्रेरणा सर्व शास्त्र शिरोमणि गीता से ली और सच्चे कर्मयोगी बन कर जीवन के अन्तिम श्वास तक काम करते रहे। उन्होंने अपने कर्तव्यों पर ध्यान दिया न कि अधिकारों पर, जबकि आज हम सभी अधिकारों की बात पहले सोचते और करते हैं। आज कुछ ऐसी दशा है मनुष्य की ,कि हर क्षेत्र में,हर व्यवस्था में और हर बात में अधिकार पाने की  कोशिश की जा रही है, अधिकार तो लेकर रहेंगे ,किंतु कर्तव्य की ओर शायद ही किसी का ध्यान हो। अपनी मांगों को लेकर इतने प्रदर्शन होते हैं,पर कर्तव्यों के लिए नहीं। आदमी आदमी पर , वस्तुओं पर इतना हक जमा लेता है, मानों उसने अपने हाथों से रचा हो, आज यही जीवन में बढ़ते क्रोध तनाव और  का कारण है।    निस्संदेह अधिकार और कर्तव्य अन्योन्याश्रित है,पर कर्तव्य पालन के बिना अधिकार से  आज नहीं तो कल हाथ धो बैठते हैं।चार चोर एक गाय कहीं से चुरा  लाए। उन्होंने आपस में निर्णय किया कि एक एक दिन बारी बारी से सभी गाय को दुहेंगे भी और चारा भी खिलाएंगे। पहले दिन वाले चोर ने गाय का दूध तो दूह लिया लेकिन चारा नहीं खिलाया सोचा दूसरे दिन वाला चोर तो खिलायेगा ही। ऐसे ही चारों दिन चारों चोरो ने दूध तो निकाला,पर चारा तो गाय को एक ने भी नहीं खिलाया, आखिर गाय सिकुड़ती सिकुड़ती मर गई। कर्तव्य निष्ठा के अभाव में अधिकारों की रक्षा कैसे की जा सकती है। कर्तव्य निष्ठ व्यक्ति यह नहीं पूछता कि उसे क्या मिला,वह यह पूछता है कि उसने क्या किया? कर्तव्य परायणता में महान नैतिक बल छिपा होता है अंग्रेजी में एक प्रसिद्ध कहावत है "पहले अधिकारी बनो, फिर अधिकार लो"अर्थात फर्स्ट  डिसर्व देन डिज़ायर । गांधी जी ने तो कर्तव्य को इस तरह से परिभाषित किया था "बुराई से असहयोग करना मनुष्य का पवित्र कर्तव्य है"  आओ  इस गांधी जयंती पर हम भी यह सोचें कि अपने अपने कार्य क्षेत्र पर हम अधिकारों से पहले कर्तव्य की बात करेंगे , कर्तव्यनिष्ठ बनेंगे।
 
Have something to say? Post your comment
More National News
कुशीनगर यूपी का तीसरा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बना, 26 नवंबर से दिल्ली से शुरू होगी यहां के लिए फ्लाइट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले गृह मंत्री अमित शाह, पीएम आवास पहुंचकर की मुलाकात महाराष्ट्रः कल्याण की आधारवाड़ी जेल में 20 कैदी कोरोना पॉजिटिव, ठाणे के अस्पताल में भर्ती केरलः भारी बारिश से तबाह कोट्टायम पहुंची NDRF की टीम, शुरू किया रेस्क्यू ऑपरेशन सीएम भूपेश बघेल ने जशपुर घटना में मारे गए शख्स के परिवार को 50 लाख मुआवजा देने का किया ऐलान जेईई एडवांस का रिजल्ट जारी, मृदुल अग्रवाल ऑल इंडिया टॉपर पीएम मोदी ने देश को दी 7 नई डिफेंस कंपनियों की सौगात, पिस्टल से फाइटर प्लेन तक बनाएंगी NIA के डीजी जम्मू-कश्मीर के लिए रवाना, आतंक के खिलाफ हो रहे ऑपरेशन की समीक्षा करेंगे MP: गरबा पंडालों में गैर हिंदुओं के प्रवेश पर रोक की मांग, विहिप ने लगाए पोस्टर प्रियंका गांधी, दीपेंदर हुड्डा और भूपेश बघेल वाराणसी के लिए रवाना