Wednesday, January 19, 2022
Follow us on
BREAKING NEWS
दिल्ली के सदर बाजार में Odd-Even नियम मानने को कारोबारी तैयार नहींअपर्णा यादव बीजेपी में शामिल, पीएम मोदी की तारीफ कीयूपी चुनाव: SP-RLD गठबंधन ने छपरौली में उम्मीदवार बदला, नई लिस्ट जारीबीजेपी की चुनाव समिति की बैठक आज, पंजाब चुनाव के उम्मीदवारों पर होगी चर्चाINS रणवीर में धमाका, तीन जवान शहीद, जांच के दिए गए आदेशमहामारी अलर्ट सुरक्षित हरियाणा के तहत संशोधित गाइडलाइन 28 जनवरी की सुबह 5 बजे तक लागू रहेगी,अब जिम और स्पा 50% कैपिसिटी के साथ ऑपरेट होंगे और शराब की दुकानें रात 10 बजे तक ही खुलेंगीहरियाणा के युवाओं को रोजगार देने के लिए बनाया कानून - दुष्यंत चौटाला भगवंत मान होंगे पंजाब में AAP के सीएम फेस, अरविंद केजरीवाल ने किया ऐलान
National

प्रकृति का गणित - मुक्त हाथों से बांटों बढ़ता ही जायेगा !

June 26, 2021 09:39 AM

डॉ कमलेश कली

प्रकृति का गणित भी कुछ अलग तरह का है, बांटने से, दूसरों के साथ शेयर करने से घटता नहीं अपितु बढ़ता है।यह रहस्य जिसको समझ में आ जाता है, वह अपना सब कुछ बांटे बिना रह ही नहीं सकता। धर्म और परमार्थ में दान का बहुत महत्व बताया गया है,पर दान का अर्थ केवल वस्तु या स्थूल धन तक ही सीमित नहीं, अपितु जो कुछ भी हमारे पास है उसे दूसरों के साथ बांटने से है।जीसस का प्रसिद्ध वचन है जो देगा उसे और मिलेगा, जो बांटेंगा वह और पाने का हकदार बन जाता है। गुरु नानक देव जी ने किरत करो और वडं छको को धर्म का सार बताते हुए लंगर की प्रथा शुरू की।लंगर  का मूलमंत्र है दिल से सेवा, इस प्रसंग में एक गरीब व्यक्ति उनके पास आया और उनसे कहने लगा कि वह तो बहुत गरीब है, किसी की क्या सेवा कर सकता है। गुरु जी ने सहज भाव से कहा कि तुम गरीब हो, क्योंकि तुमने देना नहीं सीखा।उस व्यक्ति ने पूछा कि मेरे पास देने को कुछ भी तो नहीं है तो उन्होंने समझाया कि तुम्हारा चेहरा मुस्कान बिखेर सकता है, तुम्हारा मुंह भगवान की महिमा कर सकता है, दूसरों को सुकून का अहसास दिलाने के लिए मीठे दो बोल बोल सकता है, तुम्हारे हाथ किसी के हाथ पकड़ कर उसकी सहायता कर सकते हैं और तुम कहते हो कि तुम्हारे पास देने के लिए कुछ नहीं है।सच है कि आत्मा की गरीबी सब से बड़ी गरीबी है, पाने का हक उसे है, जो देना जानते हैं।दान को पुण्य माना गया है जबकि लोभ को पाप का बाप कहा जाता है।जो जिस के पास है उसे बांट देने से ही बढ़ता  है।नदी अपने जल को जब तक बांटती चलती है अर्थात बहती रहती है तो स्वच्छ और निर्मल रहती है, जहां नदी रुक जाती है,अटक जाती है, वहीं उसका अस्तित्व ही खत्म हो जाता है, पानी खड़ा रहने से सड़ने लगता है। इसलिए उदारता को महानता की विशेषता माना जाता है, बुद्ध ने उदारता को पहला अध्यात्मिक गुण माना है,उदार वही हो सकता है जिसे भरोसा है कि आज जो मेरे पास है उसे लुटा देने से, बांट देने से खुटने वाला नहीं है । इस जगत में  अपना क्या है ,न कुछ साथ लाए हैं न ही लेकर जाना है, बांटना ही जीवन जीने का तरीका है, फिर जो है उसे बांटों, जरुरी नहीं कि धन या वस्तु ही बांटे, जो आसानी से दे सकते हो, जो तुम्हारे पास है उसे मुक्त हाथों से बांटों।

 
Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली के सदर बाजार में Odd-Even नियम मानने को कारोबारी तैयार नहीं अपर्णा यादव बीजेपी में शामिल, पीएम मोदी की तारीफ की बीजेपी की चुनाव समिति की बैठक आज, पंजाब चुनाव के उम्मीदवारों पर होगी चर्चा
INS रणवीर में धमाका, तीन जवान शहीद, जांच के दिए गए आदेश
पीएम मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाराणसी में बीजेपी कार्यकर्ताओं से करेंगे संवाद Corona In India: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 2.38 लाख केस नारायण राणे के बेटे नितेश राणे की अग्रिम जमानत की अर्जी बॉम्बे HC ने की खारिज
चुनाव आयोग ने 22 जनवरी तक मतदान वाले राज्यों में चुनावी रैलियों और रोड शो पर रोक बढ़ा दी है.
जलपाईगुड़ी ट्रेन हादसा: राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने ममता बनर्जी से बात की जलपाईगुड़ी रेल हादसे में 3 की मौत कई घायल, मौके पर पहुंची 51 एंबुलेंस, राहत कार्य जारी