Thursday, October 29, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
निकिता मर्डर केस की जांच के लिए DCP की देखरेख में SIT का गठनप्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांस में चर्च में हुए हमले की निंदा कीग्रेटर नोएडा वेस्ट: गौर सिटी-2 में अज्ञात युवक ने की फायरिंग, सोसाइटी में हड़कंपनिकिता के दोषियों को मिलेगी कड़ी से कड़ी सजा : ओमप्रकाश धनखड़गठबंधन का हमने एक साल पूरा किया:मनोहर लाल, हरियाणा के मुख्यमंत्रीकेरलः गोल्ड स्मगलिंग केस में ED की कार्रवाई, मुख्यमंत्री के पूर्व प्रधान सचिव शिवशंकरन गिरफ्तारदिल्लीः हिंदूराव हॉस्पिटल के डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म, बकाया वेतन के भुगतान की थी मांगISRO सात नवंबर को लॉन्च करेगा EOS-01 सैटेलाइट, बादलों के बीच भी पृथ्वी पर रखी जा सकेगी नजर
Haryana

हरियाणा के मुख्यमंत्रीl मनोहर लाल ने किसानों से आंदोलन छोडक़र बातचीत के लिए आगे आने की अपील की

September 19, 2020 09:49 PM

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज यहां जारी एक अपील में किसानों के हितों की सुरक्षा के प्रति हरियाणा सरकार की सतत् प्रतिबद्धता को पुन: स्पश्ट करते हुए कहा कि जहां लोकतंत्र में सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है वहीं प्रदेष में शांति व्यवस्था बनाए रखना सरकार का परम कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि तीनों अध्यादेश पूरी तरह किसान हित में हैं और यह दुख की बात है कि विपक्षी दल अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए भोले-भाले किसानों को बरगला और भटका रहे हैं।

उन्होंने स्वयं किसान पुत्र होने के नाते सभी किसान भाइयों से दीनबंधु चौ. छोटूराम जी की उस बात को याद करने की भी अपील की जिसमें उन्होंने किसानों को अपना दुश्मन पहचानने का आह्वान किया था। उन्होंने कहा कि इस समय जो लोग केंद्र सरकार के अध्यादेशों को लेकर भ्रम फैला रहे हैं वे किसानों के असली दुश्मन हैं और अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए किसानों की शक्ति का दुरूपयोग करना चाहते हैं।

उन्होंने किसान संगठनों से अनुरोध किया कि वे कल के कार्यक्रम के दौरान यह सुनिश्चित करें कि नागरिकों तथा यात्रियों को कम से कम असुविधा हो। विशेषकर अस्पताल जा रहे मरीज, गर्भवती महिला, आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करने वाले वाहनों के रास्ते में कोई रूकावट न आए।

        उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में प्रदर्शन करना हर किसी का अधिकार है। लेकिन आंदोलन का शांतिपूर्ण होना एवं कानून-व्यवस्था बने रहना भी जरूरी है। उन्होंने किसानों को सचेत करते हुए यह भी कहा कि कई बार आंदोलन की आड़ में असमाजिक तत्व अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए हिंसा फैला देते हैं जिससे आंदोलन बदनाम होते हैं। इसलिए शरारती तत्वों से सावधान रहना बहुत जरूरी है।

मुख्यमंत्री ने विश्वास दिलाया कि हरियाणा का मुख्यमंत्री होने से पहले किसान होने के नाते उनके लिए किसान हित सर्वोपरि हैं। उन्होंने कहा कि यदि केंद्र सरकार के अध्यादेशों में किसान के हित को जरा सी भी आंच आती होती तो वे इनका विरोध करने वाले पहले व्यक्ति होते।

उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्षी नेता बार-बार किसान की फसल भविष्य में समर्थन मूल्य पर न बिकने का झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि हरियाणा में उनके कार्यकाल में हर सीजन में फसल का दाना-दाना समर्थन मूल्य पर खरीदा गया है और सरकार आगे भी एक-एक दाना खरीदने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

विपक्षी नेताओं द्वारा केंद्र के अध्यादेशों से भविष्य में मण्डियां बंद हो जाने की आशंका का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने संकल्प व्यक्त किया कि मण्डी व्यवस्था पहले की तरह जारी ही नहीं रहेगी बल्कि पहले से भी अधिक मजबूत की जाएगी ताकि किसानों को फसल बेचने के लिए किसी भी असुविधा का सामना न करना पड़े।

 
Have something to say? Post your comment