Thursday, October 29, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
निकिता मर्डर केस की जांच के लिए DCP की देखरेख में SIT का गठनप्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांस में चर्च में हुए हमले की निंदा कीग्रेटर नोएडा वेस्ट: गौर सिटी-2 में अज्ञात युवक ने की फायरिंग, सोसाइटी में हड़कंपनिकिता के दोषियों को मिलेगी कड़ी से कड़ी सजा : ओमप्रकाश धनखड़गठबंधन का हमने एक साल पूरा किया:मनोहर लाल, हरियाणा के मुख्यमंत्रीकेरलः गोल्ड स्मगलिंग केस में ED की कार्रवाई, मुख्यमंत्री के पूर्व प्रधान सचिव शिवशंकरन गिरफ्तारदिल्लीः हिंदूराव हॉस्पिटल के डॉक्टर्स की हड़ताल खत्म, बकाया वेतन के भुगतान की थी मांगISRO सात नवंबर को लॉन्च करेगा EOS-01 सैटेलाइट, बादलों के बीच भी पृथ्वी पर रखी जा सकेगी नजर
Haryana

किसान अन्नदाता है, जो पूरे देश के लोगों का पेट भरता है : अभय सिंह चौटाला

September 19, 2020 07:00 PM

इनेलो नेता एवं विधायक अभय चौटाला ने अपने तीसरे चरण के बरोदा हलके के दौरे में से रविवार का दौरा रद्द कर दिया है। अभय चौटाला ने 20 सितंबर को किसान संगठनों द्वारा किसानों पर किए गए लाठीचार्ज एवं झूठे मुकदमों और कृषि अध्यादेश के विरोध में हरियाणा बंद का समर्थन करते हुए यह दौरा रद्द किया है। अब यह दौरा 22 सितंबर को रखा गया है। किसान अन्नदाता है, जो पूरे देश के लोगों का पेट भरता है और भाजपा सरकार उन्ही के गले काटने पर तुली है। इनेलो पार्टी द्वारा किसान आंदोलन के समर्थन में प्रदेश के हर जिले में पार्टी पदाधिकारियों की जिम्मेवारी लगा दी गई है। उन्होंने कहा कि जब तक भाजपा सरकार किसानों पर लगे झूठे मुकदमे वापिस नहीं लेती और इन तीनों अध्यादेशों पर रोक नहीं लगाती तब तक किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर ये लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि इनेलो 24 सितंबर से पहले चरण में चौदह जिलों में धरना प्रदर्शन करेगी और उपायुक्त को प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपेगी।
उन्होनें कहा कि भाजपा गठबंधन सरकार प्रदेश को बर्बाद करने पर तुली है। प्रदेश में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। इससे बड़ी विडंबना क्या होगी के किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बारे में सरकार के मंत्री एकमत नहीं हैं। एक मंत्री लाठी चार्ज की घटना की जांच की मांग कर रहा है जबकि इसी सरकार के  गृह मंत्री ने दोबारा से दोहराया है कि लाठीचार्ज हुआ ही नहीं, जांच किस बात की।
इनेलो नेता ने कहा कि देश में आज अगर कोई असली किसानों का नेता है तो वो सरदार प्रकाश सिंह बादल हैं। भाजपा का सरकार में सहयोगी होते हुए भी उनके पुत्र सुखबीर बादल नें लोकसभा में इन अध्यादेशों का जम कर विरोध किया और पुत्रवधू नें केबिनेट मंत्री से इस्तीफा दे दिया।

 
Have something to say? Post your comment