Monday, September 21, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
मनोहर लाल ने कपास और बारीक धान पर मार्किट फीस और ग्रामीण शुल्क को 2-2 प्रतिशत से कम करके आधा-आधा प्रतिशत करने की घोषणा कीअगले 72 घंटे में कांग्रेस के नेता, महासचिव, इंचार्ज और दूसरे प्रमुख नेतागण प्रेस वार्ताओं के माध्यम से हर स्टेट हैडक्वार्टर तक जाकर मोदी सरकार की ढोल की पोल खोलेंगेआढ़ती एसोसिएशन व राइस मिलर्स से बैठक के बाद डिप्टी सीएम ने दी जानकारीएमएसपी वृद्धि की घोषणा से किसानों में पैदा किया भ्रम टूटा : धनखड़कृषि बिल के विरोध के बीच रबी फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, तोमर ने बताई नई कीमतपंजाब के कांग्रेस सांसदों ने लोकसभा में कृषि मंत्री के बयान से नाराज होकर पेपर फेंकेलोकसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने रबी फसलों की नई एमएसपी का किया ऐलानअम्बाला: 3 अध्यादेशों के खिलाफ इनैलो 24 को सौंपेगी ज्ञापन शीशपाल जंधेड़ी
Haryana

प्रदेश में ‘ई-संजीवनी ओपीडी’ के नाम से स्टे होम ओपीडी की शुरुआत की गई :अनिल विज

September 15, 2020 06:10 PM

हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज ने कहा कि प्रदेश में ‘ई-संजीवनी ओपीडी’ के नाम से स्टे होम ओपीडी की शुरुआत की गई है। इससे राज्य के मरीज स्वयं को ई-संजीवनी पर पंजीकृत कर नि:शुल्क ऑनलाइन चिकित्सक परामर्श ले सकते हैं।

        स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी से उत्पन्न परिस्थितियों के फलस्वरूप अन्य बीमारियों के मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था, इसके दृष्टिगत केन्द्र सरकार ने ई-संजीवनी ओपीडी की शुरुआत की है। इसी सेवा को हरियाणा में भी शुरू कर दिया गया है,जिसके तहत अभी तक करीब एक हजार से अधिक मरीजों ने इससे लाभ उठाया है। राज्य के सभी मरीजों को यह सुविधा पूरी तरह से फ्री दी जा रही है। इसके लिए मरीजों को ई-संजीवनी ओपीडी ऐप को अपने मोबाइल में डाउनलोड करना होगा,जिसके बाद टोकन नम्बर जनरेट होगा।

श्री विज ने बताया कि सरकार ने प्रत्येक मरीज को उनके घर पर ही चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए कृतसंकल्प है। इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु राज्य का कोई भी मरीज अपने स्थान से ही वीडियो कॉल या लाइव चैट के माध्यम से चिकित्सक के साथ जुड़ सकता है। इसके लिए लैपटॉप, डेस्कटॉप या एंड्रॉइड स्मार्ट फोन का उपयोग कर डॉक्टर से ऑनलाइन परामर्श प्राप्त करने की सुविधा होगी। इस प्लेटफॉर्म पर मरीज अपनी सभी रिपोर्ट को अपलोड कर डॉक्टर से बीमारी और उसके उपचार संबंधी जानकारी ले सकता है। इसके बाद डॉक्टर अपने मरीज को लैब टेस्ट या दवाई की पर्ची भी ऑनलाइन उपलब्ध करवाएगा,जो चिकित्सा के लिए हरियाणा की सभी अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए मान्य होगी।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण लोगों को कई प्रकार की शारीरिक एवं मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए इन दिक्कतों से संबंधित यदि समय पर काउंसलिंग व उपचार न किया जाए तो बीमारी बढऩे की सम्भावना बनी रहती है, जिनको दूर करने में स्टे होम ओपीडी की महत्वपूर्ण भूमिका रहेगी। उन्होंने कहा कि मरीजों के लिए यह सुविधा प्रत्येक सोमवार से शनिवार को सुबह 10.00से 1.00 बजे तथा सांय 3.00 से 5.00बजे तक रहेगी। इसके लिए चिकित्सकों एवं मनोवैज्ञानिकों की एक योग्य टीम कार्य कर रही है।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
अन्नदाताओं के खिलाफ षड्यंत्र रच भाजपा ने देश की आत्मा पर किया प्रहार :दीपा,हरियाणा महासचिव महिला कांग्रेस मनोहर लाल ने कपास और बारीक धान पर मार्किट फीस और ग्रामीण शुल्क को 2-2 प्रतिशत से कम करके आधा-आधा प्रतिशत करने की घोषणा की अगले 72 घंटे में कांग्रेस के नेता, महासचिव, इंचार्ज और दूसरे प्रमुख नेतागण प्रेस वार्ताओं के माध्यम से हर स्टेट हैडक्वार्टर तक जाकर मोदी सरकार की ढोल की पोल खोलेंगे आढ़ती एसोसिएशन व राइस मिलर्स से बैठक के बाद डिप्टी सीएम ने दी जानकारी
एमएसपी वृद्धि की घोषणा से किसानों में पैदा किया भ्रम टूटा : धनखड़
अम्बाला: 3 अध्यादेशों के खिलाफ इनैलो 24 को सौंपेगी ज्ञापन शीशपाल जंधेड़ी
पंजाब के गवर्नर खुद मेमोरेंडम लेने के लिए पहुंचे, आम आदमी पार्टी के विधायकों के धरने के बाद खुद गवर्नर ने लिया संज्ञान
रेवाड़ी:ये तीनों विधेयक पूरी तरह किसान हित में हैं:डॉ० बनवारी लाल
हजारों युवा लेंगे सीएम मनोहर के साथ इंकलाब का संकल्प, देंगे अपनी राय
हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग ने उच्च-जोखिम वाले क्षेत्रों में उप- राष्ट्रीय टीकाकरण (एसएनआईडी) पल्स पोलियो अभियान 2020-21 के पहले दौर की शुरुआत की