Tuesday, September 22, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
अन्नदाताओं के खिलाफ षड्यंत्र रचकर भाजपा ने देश की आत्मा पर किया प्रहार :दीपा,हरियाणा महासचिव महिला कांग्रेस मनोहर लाल ने कपास और बारीक धान पर मार्किट फीस और ग्रामीण शुल्क को 2-2 प्रतिशत से कम करके आधा-आधा प्रतिशत करने की घोषणा कीअगले 72 घंटे में कांग्रेस के नेता, महासचिव, इंचार्ज और दूसरे प्रमुख नेतागण प्रेस वार्ताओं के माध्यम से हर स्टेट हैडक्वार्टर तक जाकर मोदी सरकार की ढोल की पोल खोलेंगेआढ़ती एसोसिएशन व राइस मिलर्स से बैठक के बाद डिप्टी सीएम ने दी जानकारीएमएसपी वृद्धि की घोषणा से किसानों में पैदा किया भ्रम टूटा : धनखड़कृषि बिल के विरोध के बीच रबी फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, तोमर ने बताई नई कीमतपंजाब के कांग्रेस सांसदों ने लोकसभा में कृषि मंत्री के बयान से नाराज होकर पेपर फेंकेलोकसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने रबी फसलों की नई एमएसपी का किया ऐलान
Dharam Karam

कोरोना महामारी को देखते हुए खुद ही कर लें गणेशजी की स्‍थापना, पढ़ें गणेश जी की आरती और कथा

August 22, 2020 10:41 AM

भारत के हर कोने में गणेशोत्सव की धूम कल से शुरु हो जाएगी। साल गणेश चतुर्थी 22 अगस्त से लेकर 1 सितंबर तक चलेगी। हालांकि कोरोना की वजह से इस साल बप्पा का आगमन थोड़ा-फीका पड़ गया है। 10 दिन चलने वाले इस त्यौहार में पूजा-पाठ का विशेष महत्व है। हालांकि इस दौरान चांद को देखने और तुलसी का इस्तेमाल वर्जित माना जाता है।

 गणेश चतुर्थी को क्यों कहते हैं डंडा चौथ?
पौराणिक कथाओं के अनुसार, ऋद्धि-सिद्धि व बुद्धि के दाता भगवान गणेश की शिक्षा का शुरांम्भ भी इसी दिन से हुआ था। इसी दिन से विद्याध्ययन की शुरूआत होती है। कुछ देशों में तो बच्चे डंडे बजाकर खेल भी खेलते हैं, जिससे डंडा चौथ उत्सव के नाम से जाना जाता है।


गणेश चतुर्थी का शुभ मुहूर्त:
मध्यान्ह गणेश पूजन मुहूर्त - 10:46 सुबह से 1:57 दोपहर तक
इस समय न देखें चांद - 8:47 रात से 9:22 रात तक
चतुर्थी तिथि आरंभ - 21 अगस्त की रात 11:02 बजे से।
चतुर्थी तिथि समाप्त - 22 अगस्त की रात 7:56 बजे तक।
गणेश विसर्जन - मंगलवार 1 सितंबर 2020


गणेश जी की मूर्ति कहां स्थापित करें
आप घर के मंदिर या देव स्थान में गणेश प्रतिमा स्थापित कर सकते हैं। पूजा स्थल की अच्छी तरह साफ-सफाई करके चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाएं और चावल रखें। इसके बाद मूर्ति स्थापना करके दूर्वा, गंगाजल और पान के पत्ते स्नान करें। भगवान गणेश को पीले वस्त्र या मोली बांधें। इसके बाद भगवान को रोली-तिलक, फल-फूल, प्रसाद चढ़ाए और आरती करके पूजा करें। 

 

ध्यान में रखें यह बात
"ऊं गं गणपतये नम: मंत्र" का जाप करना ना भूलें। ध्यान रखें कि सुबह शाम भगवान गणेश की पूजा करने के साथ उन्हें दिन में 3 बार भोग लगाएं। भगवान गणेश को मोदक का प्रसाद जरूर लगाएं।
बप्पा को क्या क्या चढ़ाएं
पूजा करते समय भगवान गणेश को 5 दूर्वा, चंदन, मौली, चावल, केसर, हल्दी, लौंग चढ़ाना शुभ माना जाता है। इसके अलावा बप्पा को 21 लड्डूओं या पंचमेवा का भोग लगाकर गरीब लोगों में बांट दें। भगवान आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करेंगे।
जरूरी बात
भगवान गणेश को जो दूर्वा चढ़ा रहे हैं उसे रोजाना बदलें। इसके साथ ही उनके चरणों में 5 हरी इलायची और 5 कमलगट्टे रखें। पूजा खत्म होने के बाद लाल कपड़े में कमलगट्टे बांधकर तिजोरी में रख दें और इलायची को प्रसाद के साथ बांट दें। इससे आपकी सभी परेशानियां दूर होंगी।

Have something to say? Post your comment
More Dharam Karam News
आज से वैष्णो देवी मंदिर की यात्रा शुरू, कोरोना महामारी के कारण पांच महीने से थी बंद
आ गए बांके बिहारी, मथुरा से द्वारका तक दिखी जन्माष्टमी की धूम
रात 12 बजे प्रकट होंगे नंदलाला; ब्रज में धूम, श्रीकृष्ण जन्म स्थान पर की गई राधा और कृष्ण की आरती
खुल गया वैष्णो देवी का दरबार, दर्शन के लिए करना होगा इन नियमों का पालन
प्रयागराजः गुरु पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई डुबकी, की पूजा-अर्चना टल सकती है 8 जून से शुरू होने वाली वैष्णो देवी यात्रा 8 जून से बिहार में खुलेंगे 4500 धार्मिक स्थल, महावीर मंदिर के लिए होगी ऑनलाइन बुकिंग
गंगा जन्मोत्सव पर विशेष
अवन्तिकायां विहितावतारं मुक्तिप्रदानाय च सज्जनानाम्। अकालमृत्यो: परिरक्षणार्थं वन्दे महाकालमहासुरेशम्। अमरनाथ यात्रा रद्द करने का फैसला वापस लिया गया, 23 जून से होनी है शुरू