Friday, January 28, 2022
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा में कोरोनो के चलते नई गाइडलाइंस जारी की गईअंबाला कैंट में 22 एकड़ भूमि में बन रहा शहीद स्मारक संभवतः अपनी तरह का पहला स्मारक होगा- अनिल विजहरियाणा सरकार ने प्रदेश के सरकारी कॉलेजों के प्राचार्यों के लिए भी ऑनलाइन ट्रांसफर पॉलिसी लागू करने का निर्णय लिया गुणवत्ता पूर्ण प्रशिक्षण से बिजली विभाग के अधिकारियों के लिए आधुनिक ज्ञान का केंद्र बना एचपीटीआई : पी. के. दासआईएमटी खरखौदा में औद्योगिक प्लाटों की ई-नीलामी के मामले में विघ्न डालने वाले लोगों को दंडित किया जाएगा:विकास गुप्ताएचटेट परीक्षा-2021 का परिणाम घोषित-बोर्डकिसान की लागत का डेढ़ गुना मोदी सरकार ने MSP के जरिए दिया- नड्डा PMO की शाम को रेल अधिकारियों संग अहम बैठक, भर्ती विवाद पर मंथन
Dharam Karam

गंगा जन्मोत्सव पर विशेष

April 30, 2020 07:00 AM

गंगा जयंती हिन्दुओं का एक प्रमुख पर्व है. वैशाख शुक्ल सप्तमी के पावन दिन गंगा जी की उत्पत्ति हुई इस कारण इस पवित्र तिथि को गंगा जयंती के रूप में मनाया जाता है. गंगा जयंती के शुभ अवसर पर गंगा जी में स्नान करने से सात्त्विकता और पुण्यलाभ प्राप्त होता है. वैशाख शुक्ल सप्तमी का दिन संपूर्ण भारत में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया जाता है यह तिथि पवित्र नदी गंगा के पृथ्वी पर आने का पर्व है गंगा जयंती. स्कन्दपुराण, वाल्मीकि रामायण आदि ग्रंथों में गंगा जन्म की कथा वर्णित है.भारत की अनेक धार्मिक अवधारणाओं में गंगा नदी को देवी के रूप में दर्शाया गया है. अनेक पवित्र तीर्थस्थल गंगा नदी के किनारे पर बसे हुये हैं. गंगा नदी को भारत की पवित्र नदियों में सबसे पवित्र नदी के रूप में पूजा जाता है. मान्यता है कि गंगा में स्नान करने से मनुष्य के समस्त पापों का नाश होता है. लोग गंगा के किनारे ही प्राण विसर्जन या अंतिम संस्कार की इच्छा रखते हैं तथा मृत्यु पश्चात गंगा में अपनी राख विसर्जित करना मोक्ष प्राप्ति के लिये आवश्यक समझते हैं. लोग गंगा घाटों पर पूजा अर्चना करते हैं और ध्यान लगाते हैं. गंगाजल को पवित्र समझा जाता है तथा समस्त संस्कारों में उसका होना आवश्यक माना गया है. गंगाजल को अमृत समान माना गया है. अनेक पर्वों और उत्सवों का गंगा से सीधा संबंध है मकर संक्राति, कुंभ और गंगा दशहरा के समय गंगा में स्नान, दान एवं दर्शन करना महत्त्वपूर्ण समझा माना गया है. गंगा पर अनेक प्रसिद्ध मेलों का आयोजन किया जाता है. गंगा तीर्थ स्थल सम्पूर्ण भारत में सांस्कृतिक एकता स्थापित करता है गंगा जी के अनेक भक्ति ग्रंथ लिखे गए हैं जिनमें श्रीगंगासहस्रनामस्तोत्रम एवं गंगा आरती बहुत लोकप्रिय हैं.

गंगा जन्म कथा

गंगा नदी हिंदुओं की आस्था का केंद्र है और अनेक धर्म ग्रंथों में गंगा के महत्व का वर्णन प्राप्त होता है गंगा नदी के साथ अनेक पौराणिक कथाएँ जुड़ी हुई हैं जो गंगा जी के संपूर्ण अर्थ को परिभाषित करने में सहायक है. इसमें एक कथा अनुसार गंगा का जन्म भगवान विष्णु के पैर के पसीनों की बूँदों से हुआ गंगा के जन्म की कथाओं में अतिरिक्त अन्य कथाएँ भी हैं. जिसके अनुसार गंगा का जन्म ब्रह्मदेव के कमंडल से हुआ.एक मान्यता है कि वामन रूप में राक्षस बलि से संसार को मुक्त कराने के बाद ब्रह्मदेव ने भगवान विष्णु के चरण धोए और इस जल को अपने कमंडल में भर लिया और एक अन्य कथा अनुसार जब भगवान शिव ने नारद मुनि, ब्रह्मदेव तथा भगवान विष्णु के समक्ष गाना गाया तो इस संगीत के प्रभाव से भगवान विष्णु का पसीना बहकर निकलने लगा जिसे ब्रह्मा जी ने उसे अपने कमंडल में भर लिया और इसी कमंडल के जल से गंगा का जन्म हुआ था.

गंगा जयंती महत्व

शास्त्रों के अनुसार बैशाख मास शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को ही गंगा स्वर्ग लोक से शिव शंकर की जटाओं में पहुंची थी इसलिए इस दिन को गंगा जयंती और गंगा सप्तमी के रूप में मनाया जाता है. जिस दिन गंगा जी की उत्पत्ति हुई वह दिन गंगा जयंती (वैशाख शुक्ल सप्तमी) और जिस दिन गंगाजी पृथ्वी पर अवतरित हुई वह दिन 'गंगा दशहरा' (ज्येष्ठ शुक्ल दशमी) के नाम से जाना जाता है इस दिन मां गंगा का पूजन किया जाता है. गंगा जयंती के दिन गंगा पूजन एवं स्नान से रिद्धि-सिद्धि, यश-सम्मान की प्राप्ति होती है तथा समस्त पापों का क्षय होता है. मान्यता है कि इस दिन गंगा पूजन से मांगलिक दोष से ग्रसित जातकों को विशेष लाभ प्राप्त होता है. विधिविधान से गंगा पूजन करना अमोघ फलदायक होता है.पुराणों के अनुसार गंगा विष्णु के अँगूठे से निकली हैं, जिसका पृथ्वी पर अवतरण भगीरथ के प्रयास से कपिल मुनि के शाप द्वारा भस्मीकृत हुए राजा सगर के 60,000 पुत्रों की अस्थियों का उद्धार करने के लिए हुआ था तब उनके उद्धार के लिए राजा सगर के वंशज भगीरथ ने घोर तपस्या कर माता गंगा को प्रसन्न किया और धरती पर लेकर आए। गंगा के स्पर्श से ही सगर के 60 हजार पुत्रों का उद्धार संभव हो सका। इसी कारण गंगा का दूसरा नाम भागीरथी हुआ।

 
Have something to say? Post your comment
More Dharam Karam News
अगले 6 महीने के लिए बंद हुए केदारनाथ के कपाट, शीतकालीन प्रवास पर बाबा आज से पांच दिनों के लिए खुलेगा केरल का सबरीमाला मंदिर कोरोना नियमों का पालन करते हुए निकाली जा रही जगन्नाथ यात्रा भक्तों के लिए खुले श्री माता मनसा देवी के द्वार! नए नियमों के साथ मिली दर्शनों की अनुमति केदारनाथ में जमकर बर्फबारी, 17 मई को खुलने हैं मंदिर के कपाट उत्तराखंड सरकार ने कोविड को देखते हुए इस साल चार धाम यात्रा की रद्द उत्तराखंड: कुंभ का आखिरी शाही स्नान, सुरक्षा के किए गए पुख्ता इंतजाम कोरोना को देखते हुए अमरनाथ वार्षिक यात्रा के रजिस्ट्रेशन अस्थायी तौर पर रोके गए कुंभ मेला: महाशिवरात्रि के मौके पर हरिद्वार में पहला शाही स्नान आज वाराणसीः महाशिवरात्रि पर उमड़े श्रद्धालु, काशी विश्वनाथ मंदिर के बाहर दर्शनार्थियों की लंबी कतार