Saturday, October 24, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
कांग्रेस को रेप से लेना-देना नहीं, सिर्फ भाजपा शाषित राज्यों का विरोध करना मकसद-अनिल विजहरियाणा सरकार ने 6 डीएसपी स्तर के पुलिस अधिकारियों को सचिव RTA किया नियुक्तहरियाणा सरकार ने बड़ी संख्या में नायब तहसीलदारों के किये तबादलेफसलों को हर हाल में एमएसपी पर ही खरीदा जाएगा:दुष्यंत चौटालाहरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने प्रदेशवासियों को दशहरा पर्व की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं दीहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दशहरा पर्व के अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दीमुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात कर हिसार के विधायक डॉ. कमल गुप्ता ने एक प्रस्ताव सौंपाअनिल विज ने जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती पर साधा निशाना,सही मायनों में महबूबा मुफ़्ती अपनी रिटायरमेंट घोषित कर रहीं है
Dharam Karam

गंगा जन्मोत्सव पर विशेष

April 30, 2020 07:00 AM

गंगा जयंती हिन्दुओं का एक प्रमुख पर्व है. वैशाख शुक्ल सप्तमी के पावन दिन गंगा जी की उत्पत्ति हुई इस कारण इस पवित्र तिथि को गंगा जयंती के रूप में मनाया जाता है. गंगा जयंती के शुभ अवसर पर गंगा जी में स्नान करने से सात्त्विकता और पुण्यलाभ प्राप्त होता है. वैशाख शुक्ल सप्तमी का दिन संपूर्ण भारत में श्रद्धा व उत्साह के साथ मनाया जाता है यह तिथि पवित्र नदी गंगा के पृथ्वी पर आने का पर्व है गंगा जयंती. स्कन्दपुराण, वाल्मीकि रामायण आदि ग्रंथों में गंगा जन्म की कथा वर्णित है.भारत की अनेक धार्मिक अवधारणाओं में गंगा नदी को देवी के रूप में दर्शाया गया है. अनेक पवित्र तीर्थस्थल गंगा नदी के किनारे पर बसे हुये हैं. गंगा नदी को भारत की पवित्र नदियों में सबसे पवित्र नदी के रूप में पूजा जाता है. मान्यता है कि गंगा में स्नान करने से मनुष्य के समस्त पापों का नाश होता है. लोग गंगा के किनारे ही प्राण विसर्जन या अंतिम संस्कार की इच्छा रखते हैं तथा मृत्यु पश्चात गंगा में अपनी राख विसर्जित करना मोक्ष प्राप्ति के लिये आवश्यक समझते हैं. लोग गंगा घाटों पर पूजा अर्चना करते हैं और ध्यान लगाते हैं. गंगाजल को पवित्र समझा जाता है तथा समस्त संस्कारों में उसका होना आवश्यक माना गया है. गंगाजल को अमृत समान माना गया है. अनेक पर्वों और उत्सवों का गंगा से सीधा संबंध है मकर संक्राति, कुंभ और गंगा दशहरा के समय गंगा में स्नान, दान एवं दर्शन करना महत्त्वपूर्ण समझा माना गया है. गंगा पर अनेक प्रसिद्ध मेलों का आयोजन किया जाता है. गंगा तीर्थ स्थल सम्पूर्ण भारत में सांस्कृतिक एकता स्थापित करता है गंगा जी के अनेक भक्ति ग्रंथ लिखे गए हैं जिनमें श्रीगंगासहस्रनामस्तोत्रम एवं गंगा आरती बहुत लोकप्रिय हैं.

गंगा जन्म कथा

गंगा नदी हिंदुओं की आस्था का केंद्र है और अनेक धर्म ग्रंथों में गंगा के महत्व का वर्णन प्राप्त होता है गंगा नदी के साथ अनेक पौराणिक कथाएँ जुड़ी हुई हैं जो गंगा जी के संपूर्ण अर्थ को परिभाषित करने में सहायक है. इसमें एक कथा अनुसार गंगा का जन्म भगवान विष्णु के पैर के पसीनों की बूँदों से हुआ गंगा के जन्म की कथाओं में अतिरिक्त अन्य कथाएँ भी हैं. जिसके अनुसार गंगा का जन्म ब्रह्मदेव के कमंडल से हुआ.एक मान्यता है कि वामन रूप में राक्षस बलि से संसार को मुक्त कराने के बाद ब्रह्मदेव ने भगवान विष्णु के चरण धोए और इस जल को अपने कमंडल में भर लिया और एक अन्य कथा अनुसार जब भगवान शिव ने नारद मुनि, ब्रह्मदेव तथा भगवान विष्णु के समक्ष गाना गाया तो इस संगीत के प्रभाव से भगवान विष्णु का पसीना बहकर निकलने लगा जिसे ब्रह्मा जी ने उसे अपने कमंडल में भर लिया और इसी कमंडल के जल से गंगा का जन्म हुआ था.

गंगा जयंती महत्व

शास्त्रों के अनुसार बैशाख मास शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को ही गंगा स्वर्ग लोक से शिव शंकर की जटाओं में पहुंची थी इसलिए इस दिन को गंगा जयंती और गंगा सप्तमी के रूप में मनाया जाता है. जिस दिन गंगा जी की उत्पत्ति हुई वह दिन गंगा जयंती (वैशाख शुक्ल सप्तमी) और जिस दिन गंगाजी पृथ्वी पर अवतरित हुई वह दिन 'गंगा दशहरा' (ज्येष्ठ शुक्ल दशमी) के नाम से जाना जाता है इस दिन मां गंगा का पूजन किया जाता है. गंगा जयंती के दिन गंगा पूजन एवं स्नान से रिद्धि-सिद्धि, यश-सम्मान की प्राप्ति होती है तथा समस्त पापों का क्षय होता है. मान्यता है कि इस दिन गंगा पूजन से मांगलिक दोष से ग्रसित जातकों को विशेष लाभ प्राप्त होता है. विधिविधान से गंगा पूजन करना अमोघ फलदायक होता है.पुराणों के अनुसार गंगा विष्णु के अँगूठे से निकली हैं, जिसका पृथ्वी पर अवतरण भगीरथ के प्रयास से कपिल मुनि के शाप द्वारा भस्मीकृत हुए राजा सगर के 60,000 पुत्रों की अस्थियों का उद्धार करने के लिए हुआ था तब उनके उद्धार के लिए राजा सगर के वंशज भगीरथ ने घोर तपस्या कर माता गंगा को प्रसन्न किया और धरती पर लेकर आए। गंगा के स्पर्श से ही सगर के 60 हजार पुत्रों का उद्धार संभव हो सका। इसी कारण गंगा का दूसरा नाम भागीरथी हुआ।

 
Have something to say? Post your comment
More Dharam Karam News
जम्मू-कश्मीर: नवरात्रि के पहले दिन माता वैष्णो देवी मंदिर में पहुंचे श्रद्धालु जम्मू- 15 अक्टूबर से 7000 लोग कर सकेंगे वैष्णो देवी के दर्शन वैष्णो देवी की यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ाकर 7 हजार की गई मनुष्य अपने उद्धार और अधोगति के लिए स्वयं ही जिम्मेदार है ! जीवन की बगिया महकें - संबंधों को सहेजने और संभालने की जरूरत
कोरोना महामारी को देखते हुए खुद ही कर लें गणेशजी की स्‍थापना, पढ़ें गणेश जी की आरती और कथा
आज से वैष्णो देवी मंदिर की यात्रा शुरू, कोरोना महामारी के कारण पांच महीने से थी बंद
आ गए बांके बिहारी, मथुरा से द्वारका तक दिखी जन्माष्टमी की धूम
रात 12 बजे प्रकट होंगे नंदलाला; ब्रज में धूम, श्रीकृष्ण जन्म स्थान पर की गई राधा और कृष्ण की आरती
खुल गया वैष्णो देवी का दरबार, दर्शन के लिए करना होगा इन नियमों का पालन