Saturday, July 11, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने करनाल में "हर सर हेलमेट" अभियान का शुभारम्भ कियाहरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की दसवीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले सभी छात्रों को हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने हार्दिक शुभकामनाएं दीविकास दुबे की पत्नी ऋचा के भाई राजू खुल्लर को भी रिहा करेगी STFकोरोना के उपचार के लिए Itolizumab का हो सकेगा इस्तेमाल, DCI ने दी मंजूरीकानपुरः गैंगस्टर विकास दुबे के गांव में तैनात की गई RAFदिल्ली के राज्य विश्वविद्यालयों की परीक्षा रद्द, पास किए जाएंगे सभी छात्रः मनीष सिसोदियाजम्मू कश्मीरः कुपवाड़ा के नौशेरा सेक्टर में LOC पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकी ढेरगैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति की जांच शुरू, ED ने मांगे आपराधिक गतिविधियों और सहयोगियों के विवरण
Bachon Ke Liye

जाली इनपुट टैक्स क्लेम में बायर को भी होगी जेल

January 14, 2020 06:39 AM

COURTESY NBT JAN 14
[ दीपशिखा सिकरवार | नई दिल्ली ]

बजट में सरकार इनपुट टैक्स क्रेडिट के जाली क्लेम को गुड्स और सर्विसेज प्राप्त करने वालों के लिए भी एक गैर जमानती अपराध बना सकती है। इसके लिए गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) कानून को कड़ा किया जाएगा। टैक्स चोरी को रोकने के लक्ष्य के तहत ऐसे क्लेम करने वाले CXO, डायरेक्टर्स और कर्मचारियों को भी दंडित करने का प्रावधान किया जा सकता है। एक सरकारी अधिकारी ने बताया, 'इनपुट टैक्स क्रेडिट के फ्रॉड को रोकने के लिए कानून में संशोधन करने का प्रस्ताव दिया गया है।' 5 करोड़ रुपये की लिमिट जमानती अपराध के लिए लागू होगी। इससे अधिक रकम से जुड़ा अपराध गैर जमानती होगा। यह कड़ा प्रावधान गुड्स और सर्विसेज के सप्लायर्स के लिए पहले से लागू है। लेकिन इसका दायरा बढ़ाकर इसमें इस तरह के फ्रॉड से जुड़े बायर्स को भी शामिल करने का प्रस्ताव है। GST एक्ट के सेक्शन 122 और 132 में प्रस्तावित संशोधनों को लॉ कमेटी और GST काउंसिल से स्वीकृति मिल गई है। मौजूदा प्रावधानों में ऐसी टैक्स चोरी से निपटने के लिए विशेष उपाय नहीं हैं। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि सरकार का मानना है कि इस तरह के जाली क्लेम से फायदा लेने वालों को समान तौर पर दंडित किया जाना चाहिए

Have something to say? Post your comment