Thursday, August 13, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
आज पीएम मोदी भारतीय इतिहास में चौथे सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले प्रधानमंत्री बनेहरियाणा पुलिस के तीन अधिकारी होंगे केंद्रीय गृह मंत्री पदक से सम्मानित हरियाणा पुलिस प्रत्येक जिले में स्थापित करेगी साइबर रिस्पांस सेंटर साइबर क्राइम को रोकने में मिलेगी मददअम्बाला;स्वतंत्रता दिवस समारोह में हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष ज्ञान चन्द गुप्ता होंगे मुख्य अतिथिकोरोना महामारी/लॉकडाउन के बीच हरियाणा प्रदेश में कई घोटालों को अंजाम दिया गया:कुमारी सैलजाUP: गाजियाबाद में 31 अगस्त तक लगाई गई धारा-144राजस्थान: बीजेपी नेता गुलाबचंद कटारिया बोले- बहुत जल्द गिरने वाली है गहलोत सरकारजयपुर: शाम 5 बजे अपने समर्थक विधायकों के साथ सीएम गहलोत से मिलने जाएंगे सचिन पायलट
Dharam Karam

2020 का पहला चंद्र ग्रहण आज रात 10 बजकर 39 मिनट से शुरू होगा

January 10, 2020 03:45 PM

प्रस्तुति:वीरेश शर्मा

चंडीगढ़: साल 2020 का पहला चंद्र ग्रहण आज लगने जा रहा है|चंद्र ग्रहण की शुरुवात शुक्रवार रात 10 बजकर 39 मिनट से होगी और 4 घंटे 1 मिनट की अवधि के साथ यह 11 जनवरी के तड़के 02:40 मिनट तक रहेगा।चंद्र ग्रहण का असर भारत समेत भारत समेत एशिया के सभी देश यूरोप, नॉर्थ अमेरिका, आस्ट्रेलिया और अफ्रीका के कई हिस्सों में दिखेगा|

ग्रहण के समय क्‍या करें क्‍या ना करें……

मान्यता है कि चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर के बाहर नहीं निकलना चाहिए।ग्रहण के दौरान कोई भी नए काम को शुरु करने की मनाही होती है।इस दौरान खाना बनाने और खाने से बचना चाहिए।चंद्र ग्रहण के दौरान प्रकृति ज्यादा संवेदनशील हो जाती है|यही कारण है कि ग्रहण के दौरान नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव अधिक होता है, इसलिए इस दौरान ईश्वर का ध्यान भजन करना चाहिए।हालांकि, पूजा-पाठ मंदिर के कपाट आदि खोलने से बचना चाहिए|इस दौरान पेड़, पौधों और पत्तों को तोड़ना नहीं चाहिए|

यह ग्रहण पूर्ण ग्रहण न होकर एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा…..

इस बार का चंद्र ग्रहण पूर्ण ग्रहण न होकर एक उपच्छाया ग्रहण होगा, जो पूर्ण चंद्र ग्रहण से काफी धुंधला होता है|शास्त्रों में उपच्छाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण के रुप में नहीं माना जाता है| इसलिए आज पूर्णिमा तिथि के पर्व और त्योहार मनाए जा सकेंगे|ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार उपच्छाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण की श्रेणी में नहीं रखा जाता है और यही वजह कि बाकी ग्रहणों की तरह इस चंद्र ग्रहण में सूतक काल नहीं लगेगा| सूतक काल ना लगने के कारण ना ही आज मंदिरों के कपाट बंद किए जाएंगे और ना ही पूजा-पाठ वर्जित होगी| इसलिए इस दिन आप सामान्य दिन की तरह ही सभी काम कर सकते हैं|

क्या चंद्र ग्रहण पूर्णिमा के दिन ही पड़ता है?

चंद्रग्रहण हमेशा पूर्णिमा की रात में ही होता है|लेकिन हर पूर्णिमा को चंद्र ग्रहण नहीं पड़ता है|इसका कारण है कि पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा की कक्षा का झुके होना| यह झुकाव तकरीबन 5 डिग्री है इसलिए हर बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश नहीं करता है|उसके ऊपर या नीचे से निकल जाता है|

कैसे लगता है चंद्र ग्रहण…..

जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है और अपने उपग्रह चंद्रमा को अपनी छाया से ढक लेती है तब चंद्र ग्रहण लगता है।सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाने की कारण सूर्य की पूरी रोशनी चंद्रमा पर नहीं पड़ती है|तब चंद्रग्रहण पड़ता है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सरल रेखा में होते हैं तो चंद्रग्रहण की स्थिति बनती है|एक साल में अधिकतम तीन बार पृथ्वी के उपछाया से चंद्रमा गुजरता है, तभी चंद्रग्रहण लगता है| सूर्यग्रहण की तरह ही चंद्रग्रहण भी आंशिक और पूर्ण हो सकता है|चंद्र ग्रहण का हमारे मन मस्तिष्क पर काफी प्रभाव पड़ता है|ग्रहण का प्रभाव एक पक्ष तक यानी 15 दिन तक रहता है|चंद्रमा जल का कारक है इसलिए चंद्रग्रहण के दौरान पृथ्वी पर जलीय आपदा या भूकम्प भी आ सकता है|

2020 में कुल 4 चंद्र ग्रहण…….जिसमे से एक आज पड़ेगा…..

इस साल 2020 में कुल 4 चंद्र ग्रहण लगने वाले हैं, जिसमें पहला चंद्र ग्रहण शुक्रवार यानि आज लगेगा। इसके अलावा इस वर्ष दो सूर्य ग्रहण लगेंगे।पहला ग्रहण: 10-11 जनवरी, चंद्र ग्रहण, दूसरा ग्रहण: 5 जून, चंद्र ग्रहण, तीसरा ग्रहण: 21 जून, सूर्य ग्रहण, चौथा ग्रहण: 5 जुलाई, चंद्र ग्रहण, पांचवा ग्रहण: 30 नवंबर, चंद्र ग्रहण, छठा ग्रहण: 14 दिसंबर, सूर्य ग्रहण|बतादें कि साल 2020 में पड़ने वाले चंद्र ग्रहण उपच्छाया ग्रहण ही होंगे|

राशियों पर प्रभाव……..

मेष

मेष राशि से तृतीय भाव में चंद्र ग्रहण मित्रों और छोटे भाई बहनों से सम्बन्ध खराब करा सकता है|इसके साथ ही रुके हुए काम पूरे होंगे और करियर में बदलाव हो सकता है| ॐ आदित्याय नमः का जाप करें, गायत्री मन्त्र 108 बार जपें तथा भगवान शिव के नमः शिवाय मंत्र का 3 माला जाप करें|

वृषभ

इस राशि से दूसरे भाव में चंद्र ग्रहण धन कुटुंब सम्बंधित वाद विवाद करवा सकता है|व्यर्थ की चिंताएं बढ़ेंगी| आकस्मिक दुर्घटनाओं से बचाव करें|सफेद चीजों का दान करें जैसे सफेद कपड़ा चावल आदि| ॐ शं शनैश्चराय नमः का जाप करें.

मिथुन

इस ग्रहण में चंद्रमा मिथुन राशि में होगा, नक्षत्र पूर्नवसु रहेगा| मिथुन राशि के लोगों को चंद्र ग्रहण के समय सावधान रहने की जरूरत पड़ेगी|पूर्नवसु नक्षत्र के लोगों को भी बेवजह की परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं|यह चंद्र ग्रहण स्वास्थ्य को लेकर परेशानी करवा सकता है|वैवाहिक जीवन और साझेदारी का ध्यान रखें|धन के मामलों में सावधानी रखें| ॐ बृं बृहस्पतये नमः का जाप करें|कच्चे दूध से रुद्राभिषेक अवश्य करवाएं|

कर्क

कर्क राशि से बारहवें घर में चंद्र ग्रहण होने से स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ सकता है| मन अशांत रहेगा|
प्रेम और विवाह के मामलों में समस्या करियर में बदलाव के योग हैं|इस दौरान चंद्रमा के मंत्र का जाप करें|ये मंत्र है ‘ॐ सोम सोमाय नमः|

सिंह

सिंह राशि के 11वें घर में चंद्र ग्रहण होने से इन राशि के लोगों को धन लाभ ज्यादा हो सकता है|रुके हुए काम पूरे होंगे|करियर की स्थिति में लाभ और सुधार होगा|आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ करें और ‘ऊं नमः शिवाय मंत्र’ का जाप करें|खर्चों को रोकने के लिए दवा का दान करें|

कन्या

इस राशि में 10वें घर में चंद्र ग्रहण होने से कार्यों में देरी हो सकती है. इसके अलावा नौकरी में बदलाव भी हो सकता है|चोट चपेट से बचाव करें, नौकरी में समस्या आ सकती है|शिवलिंग का कच्चे दूध से अभिषेक करना चाहिए| ॐ बृं बृहस्पतये नमः का जाप करें|

तुला

तुला राशि से नवम भाव में यह चंद्रग्रहण आपके कैरियर में बदलाव ला सकता है|करियर में अचानक समस्या आ सकती है, संपत्ति के मामलों में सावधानी रखें|ॐ शं शनैश्चराय नमः का जाप करें| सफेद चीजों के दान के साथ चंद्रमा के मंत्रों का जाप भी करें|

वृश्चिक

राशि से अष्टम भाव में चंद्र ग्रहण हर कार्य मे गड़बड़ी करायेगा| इसकी वजह से आखों की समस्या हो सकती है और भाग्य में रुकावट आ सकती है|पारिवारिक समस्या के योग हैं, वाणी और क्रोध के कारण समस्या हो सकती है| चावल की खीर बनाकर शिवलिंग पर अर्पित करें|ॐ रां राहवे नमः का जाप करें|

धनु

धनु राशि से सप्तम भाव में यह चंद्रग्रहण दाम्पत्य जीवन मे खराबी करेगा|यह चंद्र ग्रहण व्यापार में नुकसान करायेगा|अचानक कोई दुर्घटना घट सकती है| पंचाक्षरी मंत्र ‘ॐ नमः शिवाय’ का 11 माला जाप करें|

मकर

मकर राशि से छठे भाव में यह चंद्र ग्रहण मन मे निराशा और जीवनसाथी से वाद विवाद को बढ़ा सकता है|जीवन साथी के साथ शिवलिंग की पूजा करें और शिवाष्टक का पाठ करें|

कुंभ

इस राशि से पंचम भाव में यह चंद्रग्रहण पेट के रोग और प्रेम के मामलों में गड़बड़ी करेगा| शिवलिंग पर दाएं हाथ से दूध चढ़ाएं और ॐ नमः शिवाय या नमः शिवाय का जाप करें तथा अपनी माता के चरण स्पर्श करें|

मीन

मीन राशि से चौथे भाव में चंद्रग्रहण आपकी माता की सेहत खराब करेगा|इससे आपके मन में निराशा आ सकती है|करियर में आकस्मिक समस्याएं आ सकती हैं, अनावश्यक अपयश मिल सकता है|भगवान शिव शंकर की पूजा करें और अपने घर की उत्तर पूरब दिशा को हमेशा साफ रखें|

Have something to say? Post your comment
More Dharam Karam News
आ गए बांके बिहारी, मथुरा से द्वारका तक दिखी जन्माष्टमी की धूम
रात 12 बजे प्रकट होंगे नंदलाला; ब्रज में धूम, श्रीकृष्ण जन्म स्थान पर की गई राधा और कृष्ण की आरती
खुल गया वैष्णो देवी का दरबार, दर्शन के लिए करना होगा इन नियमों का पालन
प्रयागराजः गुरु पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई डुबकी, की पूजा-अर्चना टल सकती है 8 जून से शुरू होने वाली वैष्णो देवी यात्रा 8 जून से बिहार में खुलेंगे 4500 धार्मिक स्थल, महावीर मंदिर के लिए होगी ऑनलाइन बुकिंग
गंगा जन्मोत्सव पर विशेष
अवन्तिकायां विहितावतारं मुक्तिप्रदानाय च सज्जनानाम्। अकालमृत्यो: परिरक्षणार्थं वन्दे महाकालमहासुरेशम्। अमरनाथ यात्रा रद्द करने का फैसला वापस लिया गया, 23 जून से होनी है शुरू 19वीं सदी के गृहस्थ-योगी योगेश्वर श्री रामलाल महाप्रभु जी