Tuesday, July 14, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
सचिन पायलट और कुछ मंत्री दिग्भ्रमित हो गए हैं- रणदीप सुरजेवालासचिन पायलट राजस्थान मंत्रिमंडल से बर्खास्त, प्रदेश अध्यक्ष के पद से भी हटाए गएराजस्थान: सचिन पायलट प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाए गए, गोविंद सिंह डोटासरा नए प्रदेश अध्यक्षपीकेआर जैन पब्लिक स्कूल की बारहवीं कक्षा के उत्तम परिणाम के उपलक्ष में विद्यालय द्वारा बधाई समारोह का आयोजन पटना: बिहार बीजेपी के 75 नेता-कार्यकर्ता कोरोना पॉजिटिवयूपी: बाराबंकी में एक ही परिवार के 4 लोगों की संदिग्ध हालत में मौतजयपुर: विधायक दल की बैठक से गायब सभी विधायकों को कांग्रेस ने जारी किया नोटिसCBSE Class 10th: 10वीं के रिजल्ट की डेट घोष‍ित, जानिए कब होगा ऐलान
Dharam Karam

NBT EDIT -आखिरकार सरकार ने उठाए साहसिक कदम मंदी पर वार कॉरपोरेट जगत को राहत

September 21, 2019 06:41 AM

COURTESY NBT SEPT 21

आखिरकार सरकार ने उठाए साहसिक कदम
मंदी पर वार

 

कॉरपोरेट जगत को राहत
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को जो घोषणाएं कीं, उनसे सुस्त पड़ती अर्थव्यवस्था में नई स्फूर्ति आने की उम्मीद है। इन घोषणाओं का सकारात्मक असर तत्काल ही शेयर बाजार की जबर्दस्त तेजी के रूप में दिखाई पड़ा। गौरतलब है कि अब घरेलू कंपनियों और नई मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए कॉरपोरेट टैक्स में कमी की जाएगी। घरेलू कंपनियां अगर अन्य कोई छूट नहीं लेती हैं तो उन्हें सिर्फ 22 प्रतिशत टैक्स देना होगा। सरचार्ज और सेस मिलाकर प्रभावी टैक्स दर 25.17 प्रतिशत होगी। फिलहाल कॉरपोरेट टैक्स की दर 30 प्रतिशत है जबकि सेस और सरचार्ज मिलाकर कंपनियों को 34.94 प्रतिशत टैक्स देना पड़ता है। यानी नई दरों के मुताबिक कंपनियों की टैक्स देनदारी करीब 10 पर्सेंट तक घट जाएगी। इसी तरह एक अक्टूबर के बाद बनने वाली घरेलू मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के लिए टैक्स की दर 15 फीसदी होगी। सरचार्ज और सेस मिलाकर प्रभावी टैक्स दर 17.01 प्रतिशत होगी। उन्हें भी अन्य कोई इन्सेंटिव नहीं मिलेगा। नई कंपनियों के लिए पहले टैक्स की दर 25 पर्सेंट थी जबकि सेस, सरचार्ज मिलाकर प्रभावी दर 29.12 प्रतिशत थी। यानी नई कंपनियों की टैक्स देनदारी 12 प्रतिशत घटेगी। शेयरों की बिक्री से कैपिटल गेन पर सरचार्ज बढ़ोतरी लागू नहीं होगी। जिन कंपनियों ने 5 जुलाई से पहले शेयर बायबैक की घोषणा की थी, उन पर भी टैक्स नहीं लगेगा। नई टैक्स दरें एक अप्रैल से प्रभावी मानी जाएंगी। इसके लिए सरकार अध्यादेश लाएगी। वित्त मंत्री ने कहा कि कॉर्पोरेट टैक्स की नई दरें दक्षिण-पूर्व एशिया में सबसे कम होंगी। निश्चय ही सरकार ने साहसिक कदम उठाए हैं, जिससे औद्योगिक परिदृश्य में भारी बदलाव आ सकता है। कंपनियों का टैक्स बचने से उन्हें काफी राहत मिलेगी। अब वे खर्चों में कटौती नहीं करेंगी जिसका सबसे पहले लाभ उनके कर्मचारियों को मिलेगा यानी छंटनी की आशंका अब नई रह जाएगी। नई नौकरियों के लिए भी गुंजाइश बनेगी। आम लोगों में रोजगार जाने का डर खत्म होने से वे खुलकर खर्च करेंगे। वैसे भी त्योहारी सीजन आ ही चला है। इस तरह बाजार में मांग पैदा होगी। लोग ज्यादा खरीदारी करेंगे तो जीएसटी कलेक्शन भी बढ़ेगा। यानी अभी टैक्स में कमी से सरकार पर 1.45 लाख करोड़ का जो भार आएगा उसकी जल्दी ही भरपाई भी हो जाएगी। कंपनियां टैक्स बचत के पैसे का इस्तेमाल मैन्युफैक्चरिंग, कर्ज चुकाने या निवेश के लिए करेंगी जिससे बैंकिंग सिस्टम और बाजार में नकदी बढ़ेगी। टैक्स घटने का फायदा सरकारी कंपनियों को भी होगा। इन कटौतियों से निवेश प्रोत्साहित होगा, भारतीय कंपनियां अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ज्यादा कॉम्पिटिटिव बनेंगी। सबसे बड़ी बात है कि कॉरपोरेट जग

Have something to say? Post your comment
More Dharam Karam News
प्रयागराजः गुरु पूर्णिमा पर श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई डुबकी, की पूजा-अर्चना टल सकती है 8 जून से शुरू होने वाली वैष्णो देवी यात्रा 8 जून से बिहार में खुलेंगे 4500 धार्मिक स्थल, महावीर मंदिर के लिए होगी ऑनलाइन बुकिंग
गंगा जन्मोत्सव पर विशेष
अवन्तिकायां विहितावतारं मुक्तिप्रदानाय च सज्जनानाम्। अकालमृत्यो: परिरक्षणार्थं वन्दे महाकालमहासुरेशम्। अमरनाथ यात्रा रद्द करने का फैसला वापस लिया गया, 23 जून से होनी है शुरू
19वीं सदी के गृहस्थ-योगी योगेश्वर श्री रामलाल महाप्रभु जी
मां शारदा शक्तिपीठ द्वारा दिया गया पंचमुखी बीज मंत्र खत्म करेगा कोरोना संकट देशभर में मनाई जा रही है शिवरात्रि, वाराणसी में उमड़ी भक्तों की भीड़ तमिलनाडु: मौनी अमावस्या पर रामेश्वरम के अग्निदेवताम में श्रद्धालुओं ने लगाई डुबकी