Sunday, September 15, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
मुख्यमंत्री प्रदेश के युवाओं का हक मारकर हरियाणा को गुजरात-2 बना रहे: दिग्विजय चौटालाआंध्र में नाव पलटने के बाद इलाके में सभी नाव सेवाएं तत्काल बंद करने के आदेशअनुच्छेद 370 पर गुलाम नबी आजाद समेत अन्य याचिकाओं पर कल सुप्रीम कोर्ट में सुनवाईआंध्र प्रदेश में डूबी 60 सैलानियों से भरी नाव, 7 लोगों की मौतअसम की तरह हरियाणा में भी राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) लागू किया जायेगा': मनोहरलालराजस्थान: डैम का पानी छोड़े जाने से रोड ब्लॉक, कल से स्कूल में फंसे 350 बच्चे और 50 शिक्षकतमिलनाडु: बैनर गिरने से लड़की की मौत के मामले में AIADMK नेता के खिलाफ FIR 16 सितंबर को दो दिवसीय हरियाणा दौरे पर जाएंगे बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा
 
Entertainment

संगीतकार खय्याम का 92 साल की उम्र में निधन, PM मोदी ने किया याद

August 19, 2019 11:19 PM

दिग्गज संगीतकार मोहम्मद जहुर खय्याम हाशमी का 92 साल की उम्र में निधन हो गया. वे लंबे वक्त से बीमार चल रहे थे. उन्होंने मुंबई के एक अस्पताल में आखिरी सांस ली. सीने में संक्रमण और न्यूमोनिया की शिकायत के बाद उन्हें पिछले महीने 28 जुलाई को मुंबई के सुजय अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनके निधन से बॉलीवुड में शोक की लहर है. खय्याम साहब द्वारा रची गई धुनों में एक खास किस्म का आकर्षण रहा है जिससे उन्हें संगीत जगत में एक खास मुकाम मिला.

खय्याम का जन्म 18 फरवरी, 1927 को पंजाब में हुआ था. उनका पूरा नाम संगीतकार के जीवन के बारे में बात करें तो खय्याम ने अपने म्यूजिक करियर की शुरुआत लुधियाना में 1943 में 17 वर्ष की आयु में की थी. साल 1953 में फुटपाथ फिल्म से उन्होंने अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की. साल 1961 में आई फिल्म शोला और शबनम में संगीत देकर खय्याम साहब को पहचान मिलनी शुरू हुई. आखिरी खत, कभी-कभी, त्रिशूल, नूरी, बाजार, उमराव जान और यात्रा जैसी फिल्मों में धुनें दीं.

अपने शानदार काम के लिए उन्हें कई सारे अवॉर्ड भी मिले हैं. उन्हें साल 2007 में संगीत नाटक एकेडमी अवॉर्ड और साल साल 2011 में पद्म भूषण जैसे सम्मानों से नवाजा गया. कभी-कभी और उमराव जान के लिए उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड और उमराव जान के लिए नेशनल अवॉर्ड भी मिला. बहुत कम लोगों को ये बात पता होगी कि साल 2007 में आई फिल्म यात्रा में खय्याम साहब का संगीत था. फिल्म में रेखा और नाना पाटेकर लीड रोल में थे. भले ही खय्याम साहब इस दुनिया से रुखसत हो गए हों मगर उनके संगीत की अमूल्य विरासत हमें यूहीं मंत्रमुग्ध करती रहेगी. 

Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
'राम सिया के लव कुश' कार्यक्रम के लिए कलर्स टीवी को एक कारण बताओ नोटिस जारी उर्मिला मातोंडकर ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा, गुटबाजी का लगाया आरोप लता मंगेश्कर ने खय्याम की मौत पर जताया अफसोस, बताया संगीत के युग का अंत क्योंकि 80 हजार गाड़ियों ने ही लिए हैं आरएफआईडी टैग आज रात 12 बजे से बॉर्डरों पर लगेगी लंबी लाइनें
फर्स्ट रिव्यू: बाटला हाउस की तारीफ, फैंस ने कहा- जॉन अब्राहम को दें नेशनल अवॉर्ड
Star Movies Celebrates Box Office Successes with The Billion Dollar Countdown Pop-Up Theatre
राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार: बेस्ट हिंदी फिल्म- अंधाधुन राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार: बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर- संजय लीला भंसाली, फिल्म- पद्मावत (सभी गीत) राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार: बेस्ट म्यूजिक डायरेक्शन- फिल्म- उरी राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार: बेस्ट मेल सिंगर- अरिजीत सिंह