Tuesday, February 25, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
राष्टपति भवन में आयोजित डिनर में डोनाल्ड ट्रंप हरियाणा के सीएम मनोहर लाल से मुलाकात करते हुएराष्ट्रपति भवन पहुंचे PM मोदी, राष्ट्रपति कोविंद ने किया ट्रंप-मेलानिया का स्वागतदिल्ली: IPS एसएन श्रीवास्तव को स्पेशल कमिश्नर (लॉ एंड ऑर्डर) नियुक्त किया गयाहिंसा प्रभावित नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में कल भी स्कूल रहेंगे बंद: मनीष सिसोदियाCAA के खिलाफ जाफराबाद में प्रदर्शन कर रही महिलाओं को हटाया गया: दिल्ली पुलिसदिल्ली हिंसा: गृहमंत्री अमित शाह ने कल होने वाला त्रिवेंद्रम दौरा रद्द कियादिल्ली हिंसा: नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली में कल होने वाली बोर्ड की परीक्षाएं टलींदिल्ली हिंसा में अब तक 13 लोगों की मौत, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात
Bhavishya

सबरीमला मंदिर जाने पर सास ने बहू को पीटा

January 16, 2019 06:01 AM

COURTESY NBT JAN 16, कोल्लम : सबरीमाला मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने कहा कि किसी ने केरल सरकार से इस तरह के नफरत भरे व्यवहार की उम्मीद नहीं की थी। उन्होंने कहा कि सबरीमाला मुद्दे पर केरल सरकार का व्यवहार किसी भी पार्टी या सरकार द्वारा किए गए इतिहास के सबसे शर्मनाक बर्ताव में से एक है। मोदी ने कहा कि कम्युनिस्ट भारत की संस्कृति, इतिहास और आध्यात्मिकता का सम्मान नहीं करते। इसके लिए प्रधानमंत्री ने एलडीएफ सरकार और यूडीएफ की अगुआई वाले विपक्ष को भी निशाने पर लिया।
!• भाषा, तिरुवनंतपुरम : सबरीमला मंदिर की परंपराओं को तोड़ वहां पूजा के लिए प्रवेश करने वाली एक महिला ने मंगलवार को अपनी सास पर मारपीट का आरोप लगाया। मंदिर में भगवान अयप्पा के दर्शन के बाद 44 साल की कनकदुर्गा सुरक्षा कारणों से पिछले दो हफ्ते से छिपी हुईं थीं। वह मंगलवार सुबह पेरिनथलमन्ना स्थित अपने घर पहुंचीं। पुलिस के अनुसार, घर में घुसने के साथ ही कनकदुर्गा की अपनी ससुराल वालों से बहस हो गई। वे मंदिर में उसके प्रवेश का जोरदार विरोध कर रहे थे। पुलिस ने मंगलवार को बताया कि उनकी सास ने लकड़ी के फट्टे से कथित तौर पर पिटाई की। उन्हें बाद में अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। बता दें कि कनकदुर्गा के ससुराल वालों के साथ-साथ मायकेवाले भी मंदिर में प्रवेश के उनके फैसले का विरोध कर रहे हैं।

'कोई गुप्त अजेंडा नहीं' : केरल सरकार ने मंगलवार को हाई कोर्ट को बताया कि दो जनवरी को सबरीमला में ‘दो महिला श्रद्धालुओं की तीर्थयात्रा’ में राज्य या पुलिस का कोई ‘गुप्त अजेंडा’ नहीं था। उधर, सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि सबरीमला मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति देने के उसके फैसले पर पुनर्विचार के लिए दायर याचिकाओं पर 22 जनवरी से शायद सुनवाई नहीं हो सके। वजह एक न्यायाधीश स्वास्थ्य कारणों से छुट्टी पर हैं।

Have something to say? Post your comment