Tuesday, June 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा सरकार के क्लास iv कर्मचारी अब गेहू की खरीद के लिये इंटरेस्ट फ्री लोन 30 जून तकआवेदन कर सकते है हरियाणा कला परिषद द्वारा शीघ्र ही राज्य के 4 मंडलों में राष्ट्रवाद की भावना की अलख जगाने के लिए 15 दिवसीय कार्यशालाओं का आयोजन करवाया जाएगा प्रोफेसर डॉ. रंजना अग्रवाल को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् के राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं विकास अध्ययन संस्थान (सीएसआईआर-एनआईएसटीएडीएस), नई दिल्ली का निदेशक नियुक्त कियाहरियाणा में 5वें अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 21 जून, 2019 को राज्य स्तरीय समारोह रोहतक में आयोजित किया जाएगा, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह मुख्यातिथि होंगेप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक में नीतीश कुमार और अखिलेश यादव होंगे शामिलजम्मू-कश्मीर के पहलगाम में नाव पलटी, 2 पर्यटक लापताशांत इलाके में तैनात सैन्य अधिकारियों को फिर से राशन मिलेगा, भारत सरकार ने दी मंजूरीदिल्लीः टीएमसी विधायक बिस्वाजीत दास ने 12 टीएमसी काउंसलर के साथ थामा बीजेपी का दामन
Dharam Karam

कपाल मोचन-श्री आदि बद्री मेेले में इस वर्ष लगभग 7 लाख यात्रियों की आने की संभावना

November 20, 2018 02:41 PM

श्री कपाल मोचन-श्री आदि बद्री मेेले में इस वर्ष लगभग 7 लाख यात्रियों की आने की संभावना है। पांच दिनों तक लगने वाले इस मेले में श्रद्घालुओं की सुविधा व सुरक्षा के लिए जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन व अन्य विभागों द्वारा व्यापक प्रबन्ध किए गए हैं। मेले में राज्य सरकार की चार वर्ष की विकासात्मक गतिविधियों पर आधारित प्रदर्शनी भी लगाई गई है, जिसमें लगभग 40 स्टाल हैं।
 एक सरकारी प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि पूरे मेला क्षेत्र को 4 सैक्टरों में बांटा गया है और तीनों सरोवरों में नौकाओं की व्यवस्था की गई है। कपाल मोचन मेला को पोलीथीन मुक्त रखा जाएगा व पर्यावरण सुरक्षा के विशेष प्रबंध किए गए हैं। इसके साथ-साथ श्रद्घालुओं को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध करवाने के विशेष प्रबंध किए गए हैं। 
 महर्षि वेद व्यास की कर्म स्थली बिलासपुर में हर वर्ष कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर आयोजित होने वाला धार्मिक एवं ऐतिहासिक श्री कपाल मोचन- श्री आदि बद्री मेला एक ऐसा अनोखा मेला है जिसमें सभी धर्मों के श्रद्धालु आते हैं। इससे लोगों में आपसी भाईचारा व सद्भावना बढ़ती है। कपाल मोचन मेले का आयोजन प्राचीन समय से हो रहा है और इसकी ऐतिहासिक प्रासंगिकता है। 
 उन्होंने बताया कि ऋषि-मुनियों, पीर-पैगम्बरों तथा तपस्वियों की भूमि भारत वर्ष में अनेकों त्योहारों एवं मेलों का आयोजन होता है। श्रद्धालु सच्चे मन, ईमानदारी व मनोकामना की पूर्ति की इच्छा से श्री कपाल मोचन-श्री आदि बद्री मेला में आते हैं। उन्होंने बताया कि इसी वजह से हजारों वर्ष बीत जाने के बाद भी श्रद्धालु उतने ही उत्साह से आज भी यहां आते हैं। कपाल मोचन का अर्थ पापों के विमोचन से है। 
 उन्होंने बताया कि श्री कपाल मोचन-श्री आदि बद्री मेला उत्तरी भारत का सबसे बड़ा मेला है। यह महर्षि वेद व्यास की कर्मस्थली और एक महान ऐतिहासिक तीर्थ है जहां पर भगवान श्री रामचन्द्र, श्री कृष्ण व शिव-महादेव के साथ-साथ श्री गुरु नानक देव जी तथा श्री गुरु गोबिंद सिंह जी भी पधारे थे। उन्होंने बताया कि इस भूमि का एक हिस्सा जिसका नामकरण हरि के नाम पर हुआ है उसे हरियाणा कहा जाता है और हरियाणा में बिलासपुर की धरती को महर्षि व्यास की कर्म स्थली कहा जाता है। किसी जमाने में यह स्थान ऋषि-मुनियों की तपो स्थली के रूप में जाना जाता था। यह भी माना जाता है कि यहीं पर ब्रह्मïा, विष्णु और महेश ने इक_े होकर एक यज्ञ रचाया था। शास्त्रों और अब विज्ञान की खोज के अनुसार सरस्वती की उद्गम स्थली भी यही है।  
 प्रवक्ता ने बताया कि यह मेला राष्ट्रीय एकता का प्रतीक है, जिसमें देश के कोने-कोने विशेषकर पंजाब से श्रद्धालु भाग ले रहे हैं। तीर्थराज कपाल मोचन में हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखण्ड, हिमाचल प्रदेश व अन्य प्रदेशों से भी श्रद्घालु आते हैं। हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर के रेणुका जी मेले से भी यात्री तीर्थराज कपाल मोचन में आते हैं और यहां से आदि बद्री क्षेत्र में धार्मिक मंङ्क्षदरों व माता श्री मन्त्रा देवी के दर्शनों  के लिए भी जाते हंै।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Dharam Karam News
रेलवे का अमरनाथ यात्रियों को तोहफा, आनंद विहार से चलेगी स्पेशल ट्रेन गंगा दशहरा आज, श्रद्धालुओं ने काशी के घाटों पर लगाई आस्था की डुबकी श्रद्धालुओं के लिए आज से खुल जाएंगे हेमकुंड साहिब के कपाट अमरनाथ यात्रा के लिए ऑनलाइन पंजीकरण शुरू प्रयागराज: बुद्ध पूर्णिमा पर हजारों श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई डुबकी आज सुबह खुले बदरीनाथ धाम के कपाट, अखंड ज्योति के दर्शन के लिए देशभर से पहुंचे श्रद्धालु उत्तराखंड: तीर्थ यात्रियों के लिए गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के पट खुले आज से चारधाम यात्रा शुरू, खुलेंगे गंगोत्री-यमुनोत्री के कपाट पांच दिवसीय अखंड मात-पिता कामधेनु महायज्ञ" के तीसरे दिन आहुति में शामिल हुए अनेक श्रद्धालु यूपी: वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में हर्षोल्लास के साथ मनाई जा रही होली