Sunday, February 28, 2021
Follow us on
BREAKING NEWS
प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम पहली मार्च, 2021 से कोविड-19 वैक्सीनेशन के तीसरे चरण की शुरुआत करेंगेबसपा व बामसेफ से जुड़े करीब 200 से अधिक महत्वपूर्ण पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने थामा इनेलो का दामनअम्बाला की डा.अंजली असीजा ने एथलैटिक चैम्पियनशिप में प्रदेश में प्राप्त किया प्रथम स्थानहरियाणा में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री अनिल विज ने कल दोपहर 3 बजे बुलाई हाई लेवल मीटिंगहरियाणा पुलिस में सब-इंस्पेक्टरों को अब समय पर मिलेगी पदोन्नतिहरिद्वार महाकुंभ के लिए SOP जारी, कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट पर ही मिलेगी एंट्रीबीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा आज पहुंचेंगे वाराणसी, मिशन 2022 का लेंगे जायजाप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 'मन की बात' के जरिये देश को करेंगे संबोधित
Niyalya se

इनेलो सुप्रीमो ओपी चौटाला को दिल्ली हाईकोर्ट से बड़ी राहत, 9 मार्च तक पैरोल की अवधि को बढ़ा दी

February 23, 2021 01:11 PM

हरियाणा के पूर्व सीएम और जेबीटी भर्ती मामले में दोषी ओपी चौटाला ने दिल्ली हाईकोर्ट ने बड़ी राहत दी है। दिल्ली हाईकोर्ट ने आज ओपी चौटाला की रिहाई की याचिका पर सुनवाई करते हुए 9 मार्च तक पैरोल की अवधि को बढ़ा दिया है।ओपी चौटाला ने कोर्ट में याचिका लगाई है जिसमें उन्होंने अधिसूचना के तहत 60 वर्ष से ज्यादा उम्र के पुरुषों और 70 फीसदी से अधिक विकलांगता वाले कैदियों को विशेष छूट देने का हवाला दिया है।

इस मामले में अब कोर्ट की तरफ से हैरानी जताई गई है। कोर्ट में दिसंबर 2019 के आदेशों की अनुपालना ना करने पर जबाव मांगा है। इसके साथ ही न्यायमूर्ति योगेश खन्ना ने मुख्य न्यायाधीश के आदेशों के अधीन डिवीजन बेंच के समक्ष मामले को सूचीबद्ध करने के निर्देश भी दिए और चौटाला की पैरोल अवधि 09 मार्च तक तक बढ़ा दी।

86 वर्षीय पूर्व मुख्‍यमंत्री ने अपने वकील अमित साहनी के मार्फत दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष रिट याचिका दायर की, जिसमें कहा गया कि उनके मुवक्किल दिसंबर 2019 में न्यायमूर्ति मनमोहन और न्यायमूर्ति संगीता ढींगा सहगल की खंडपीठ द्वारा पारित आदेशों के अनुरूप लगभग पूरी सजा काट चुके हैं, लेकिन दिल्ली सरकार ने याचिकाकर्ता/दोषी को विशेष छूट नहीं दी है।

इस पर कोर्ट ने चौटाला के वकील से पूछा कि इस याचिका को एकल न्यायाधीश के समक्ष सूचीबद्ध क्यों किया गया है, जबकि याचिकाकर्ता के मामले पर विचार करने के निर्देश डिवीजन बेंच द्वारा दिसंबर 2019 में पारित किए गए थे।

पूर्व सीएम के लिए अपील करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता एन हरिहरन और एडवोकेट अमित साहनी ने दलील दी कि माननीय न्यायालय से संपर्क करने के लिए कितनी बार याचिकाकर्ता को जरूरत होगी, जबकि ओपी चौटाला लगभग पूरी सजावधि काट चुके हैं और उन्हें विशेष छूट का लाभ नहीं दिया जा रहा है।

Have something to say? Post your comment