Sunday, February 28, 2021
Follow us on
BREAKING NEWS
हरिद्वार महाकुंभ के लिए SOP जारी, कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट पर ही मिलेगी एंट्रीबीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा आज पहुंचेंगे वाराणसी, मिशन 2022 का लेंगे जायजाप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 'मन की बात' के जरिये देश को करेंगे संबोधितमेरठः दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल किसान महापंचायत को करेंगे संबोधितगुजरात: तहसील पंचायत, ज़िला पंचायत और नगरपालिका के लिए मतदान शुरूझारखंड: केरल और महाराष्ट्र से आने वाले लोगों की रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट पर होगी कोरोना जांचमहाराष्ट्र: मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक रखने के मामले में जैश उल हिन्द ने ली जिम्मेदारी हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृह मंत्री अनिल विज ने कांग्रेस पर साधा निशाना,कांग्रेस के G 23 नेताओं ने गांधी टोपी उतार कर भगवा पगड़ी पहन ली बहुत अच्छा लगा
Jammu & Kashmir

सिविल सर्विसेज का जम्मू-कश्मीर कैडर खत्म, केंद्र सरकार ने जारी किया आदेश

January 07, 2021 10:29 PM

केंद्र सरकार ने सिविल सर्विसेज के जम्मू-कश्मीर कैडर को खत्म कर दिया है. सरकार ने गुरुवार को इससे संबंधित आदेश जारी किया. जम्मू-कश्मीर रिऑर्गेनाइजेशन एक्ट 2019 में संशोधन के लिए अधिसूचना जारी कर दी गई है. आदेश के मुताबिक, जम्मू- कश्मीर के आईएएस, आईपीएस और आईएफस अधिकारी अब एजीएमयूटी कैडर (अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और यूनियन टेरेटरीज कैडर) का हिस्सा होंगे. 

इससे पहले जम्मू-कश्मीर कैडर के अधिकारियों की नियुक्ति दूसरे राज्यों में नहीं होती थी. सरकार के नए आदेश के बाद अब जम्मू-कश्मीर के अधिकारियों को दूसरे राज्य में भी नियुक्त किया जा सकेगा. बता दें कि मोदी सरकार ने साल 2019 में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला लिया था. साथ ही जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों (जम्मू-कश्मीर और लद्दाख) में बांट दिया था. इस फैसले के बाद से केंद्र सरकार का फोकस लगातार जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के विकास पर है. सरकार दोनों प्रदेशों को लेकर कई अहम निर्णय भी ले रही है. बीते दिनों ही लद्दाख को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने एक बैठक की थी. लद्दाख की संस्कृति क्षेत्रीय संरक्षण और पहचान बरकरार रहे इसको लेकर अमित शाह और लेह लद्दाख के प्रतिनिधिमंडल के बीच मीटिंग हुई थी. गृहमंत्री ने इन मुद्दों पर काम करने के लिए एक कमेटी के गठन का ऐलान भी किया.

केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि मोदी सरकार लद्दाख के विकास और उसकी भूमि व संस्कृति के संरक्षण के प्रति संकल्पित है और सरकार ने लद्दाख के लोगों की दशकों से लंबित संघ शासित राज्य की मांग को पूर्ण कर अपनी प्रतिबद्धता को दर्शाया है.

5 अगस्त, 2019 को हटाई गई धारा 370 

जम्मू और कश्मीर के लिए 5 अगस्त, 2019 का दिन ऐतिहासिक है. इसी दिन मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेषाधिकार प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटा दिया था. इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा भी खत्म हो गया.

इस दौरान जम्मू और कश्मीर के कई नेताओं को नजरबंद कर दिया गया था. इसमें पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला जैसे नेता भी थे. इसके लिए सरकार को काफी आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा था. उधर, सरकार 370 खत्म करने के फायदे को भी गिनाती है. सरकार का दावा है कि जम्मू और कश्मीर से 370 हटाए जाने के बाद से घाटी में आतंकी हमलों में कमी आई।

Have something to say? Post your comment
More Jammu & Kashmir News
श्रीनगरः J-K में 6 IAS अफसरों समेत 9 अधिकारियों के तबादला श्रीनगर: गुलमर्ग में आज से शुरू हो रहे खेलो इंडिया-विंटर गेम्स 2021 जम्मू कश्मीर: आतंकियों की साजिश नाकाम! श्रीनगर-बारामुला हाईवे पुल के नीचे से IED बरामद श्रीनगर के मेहजूर नगर में CRPF बंकर पर फेंका गया पेट्रोल बम श्रीनगर में पुलिस पर हमला:आतंकी ने बीच बाजार में गन निकालकर गोलियां बरसाईं, दो जवान शहीद; 2 मुठभेड़ों में 3 टेररिस्ट मार गिराए लद्दाख में भूकंप का झटका, रिक्टर स्केल पर 3.7 रही तीव्रता 20 विदेशी राजनयिकों का आज से दो दिवसीय जम्मू-कश्मीर का दौरा कश्मीर में आतंकी हमला, सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाने की कोशिश नाकाम जम्मू-कश्मीर: भूकंप के झटकों से कुपवाड़ा में कई घरों में आई दरारें Tourist arrivals in J&K declined since Art 370 revocation