Tuesday, August 04, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने राज्य में फसल अवशेष प्रबंधन के लिए 1,304.95 करोड़ रुपये की एक व्यापक योजना स्वीकृति प्रदान की मंडियों में नहीं रहेगी बारदाने की कमी : दुष्यंत चौटालाआडवाणी, जोशी, कल्याण सिंह राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में नहीं होंगे शामिल: स्वामी गोविंद गिरीराम मंदिर निर्माण शुभारंभ कार्यक्रम में कुल 175 लोगों को भेजा निमंत्रण: श्री राम जन्मभूमि ट्रस्टसुशांत सिंह राजपूत केस में पिता का बड़ा आरोप, कहा- मुंबई पुलिस को फरवरी में ही किया था आगाहसुशांत सिंह राजपूत केस में पिता से मुंबई पुलिस का सवाल, किस थाने में दी थी शिकायत?सुशांत सिंह राजपूत के पारिवारिक सूत्रों ने कहा- पूजा-पाठ के नाम पर अकाउंट से निकाले गए पैसेगुजरात के भरूच जिले में महसूस किए गए भूकंप के झटके
Haryana

भूपेंद्र हुड्डा की चुनौती सीएम मनोहर लाल चुनाव लड़ें उनके मुकाबले में लडूंगा इलेक्शन

July 05, 2020 05:12 PM

सोनीपतः पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने मौजूदा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को चुनौती दी है। हुड्डा का कहना है कि अगर सरकार को अपने विकास कार्यों पर भरोसा है तो सीएम खट्टर को ख़ुद बरोदा उपचुनाव में बतौर उम्मीदवार उतरना चाहिए। अगर खट्टर उपचुनाव लड़ते हैं तो मैं उनके सामने चुनाव लड़ने के लिए तैयार हूं। अगर ऐसा होता है तो 2024 के बजाए बरोदा उपचुनाव में ही सरकार के विकास कार्यों और उसकी लोकप्रियता का फ़ैसला हो जाएगा। नेता प्रतिपक्ष ने मुख्यमंत्री खट्टर के बरोदा में दिए बयान को गैर ज़िम्मेदाराना करार दिया। मुख्यमंत्री ने कहा था कि अगर बरोदा की जनता सरकार में हिस्सेदारी चाहती है तो बीजेपी को वोट दे। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि ज़िम्मेदार पद पर बैठकर मुख्यमंत्री को ऐसी हल्की बयानबाज़ी नहीं करनी चाहिए। उन्हें हिस्सेदारी का प्रलोभन देने के बजाय बरोदा की जनता को आश्वासन देना चाहिए था कि वो यहां का विकास करवाएंगे क्योंकि वो बरोदा समेत पूरे हरियाणा के मुख्यमंत्री हैं।

हुड्डा ने कहा कि 6 साल राज करने के बाद भी मुख्यमंत्री के पास बरोदा में गिनवाने के लिए एक भी काम नहीं है। जबकि कांग्रेस सरकार के दौरान बरोदा में बिजली, पानी, रोजगार, सड़क, स्कूल, स्वास्थ्य, सिंचाई, कृषि और व्यापार हर क्षेत्र में जमकर विकास हुआ। सच तो ये है कि बरोदा ही नहीं बीजेपी सरकार के पास पूरे हरियाणा में गिनवाने के लिए कोई भी बड़ा काम नहीं है। बीजेपी सरकार ने प्रदेश पर कर्ज़ को बढ़ाकर 60 हज़ार करोड़ से 2 लाख करोड़ कर दिया। बावजूद इसके बीजेपी ने पूरे कार्यकाल में कोई बड़ी यूनिवर्सिटी, मेडिकल कॉलेज, बड़ा संस्थान, बड़ा उद्योग, नई रेलवे लाइन या मेट्रो लाइन स्थापित नहीं की। मौजूदा सरकार से ग़रीब, मध्यम वर्ग, मजदूर, दुकानदार, व्यापारी और कर्मचारी समेत हर वर्ग दुखी है। सबसे ज़्यादा मार किसान पर पड़ रही है। एक तरफ कोरोना तो दूसरी तरफ तेल की कीमतें और सरकार की नीतियां किसान की दुश्मन बन बैठी हैं। बीजेपी 2022 तक किसान की आय दोगुनी करने का वादा करती है। लेकिन लगातार खेती की लागत को दोगुना करने की दिशा में काम कर रही है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश और प्रदेश की जनता 5 सी से घिरी हुई है। चीन और कोरोना से तो पूरी दुनिया ही परेशान है। लेकिन हरियाणा की जनता पर करप्शन, क्राइम और कास्टीज्म की अलग मार पड़ रही है। कांग्रेस सरकार में जो हरियाणा विकास, निवेश, खेलकूद और रोजगार में अव्वल हुआ करता था, वो आज क्राइम, करप्शन, बेरोजगारी और नशे में टॉप पर है। क्राइम का आलम ये है कि आज ना आमजन सुरक्षित है और ना ही पुलिस वाले। सरेआम हत्याएं हरियाणा में आम बात हो गई है। उन्होंने कहा कि गोहाना में जिन दो पुलिसवालों की हत्या की गई है उनके परिवारों की मांग मानते हुए सरकार को उन्हें यूपी की तरह 1-1 करोड़ रुपए आर्थिक मदद और परिवार में एक-एक सरकारी नौकरी देनी चाहिए। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने ड्यूटी के दौरान शहीद हुए दोनों पुलिसवालों के घर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी और परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं प्रकट की।

हुड्डा ने कहा कि क्राइम ही नहीं करप्शन के मामले में भी बीजेपी सरकार नए रिकॉर्ड स्थापित कर रही है। धान ख़रीद, माइनिंग और शराब घोटाला सबके सामने है। घोटालों की जांच के लिए सरकार के भीतर ही किसी तरह का समन्व्य देखने को नहीं मिलता। शराब घोटाले की जांच को एसआईटी और एसईटी के फेर में उलझा कर रफादफा कर दिया गया। आजतक असली दोषियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। बाकी घोटालों की भी जांच करने के बजाय, उन्हें ढकने का काम किया गया।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने इसके बाद गोहाना में भी प्रेस वार्ता की। इस दौरान उनके साथ पूर्व सांसद धर्मपाल मलिक, पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा, पूर्व केंद्रीय मंत्री जयप्रकाश, पूर्व मंत्री अशोक अरोड़ा, विधायक जगबीर मलिक, सुरेन्द्र पंवार, जयवीर वाल्मीकि, पूर्व विधायक जयतीर्थ दहिया, सुखबीर फरमाना, स्व. विधायक श्री कृष्ण हुड्डा के बेटे जितेंद्र हुड्डा, पार्टी नेता प्रदीप गौतम, सुरेन्द्र शर्मा, सुरेन्द्र दहिया, प्रदीप सांगवान, मनोज रिढाऊ, अशोक सारोहा, रवि इंदौरा, अशोक छाबड़ा, निखिल मदान, कमल हसीजा, कर्नल रोहित चौधरी, कमला भांवड़, रणदीप दहिया, संजीव दहिया, जयवीर आंतिल, अशोक नरवाल, सतीश कौशिक, डॉक्टर कुलबीर, बिजेंद्र मलिक, भूपेन्द्र गहलोत, संजय खत्री, नीलम बाल्यान, भरपाई चहल, कमलेश पांचाल, देवेन्द्र कादियान, जयपाल कादियान, कृष्ण मलिक, शीला अंतिल, रीना मलिक, हवा सिंह ठेकेदार, प्रमोद भगत, सुशील मलिक, जगबीर मलिक, पवन बंसल, बिजेंद्र गर्ग, सोनू प्रजापति, इडुराज नरवाल, साहिल नरवाल, रविन्द्र मोर, जोगेंद्र दुभेट्टा, धर्मवीर चोपड़ा, सत्यप्रकाश शर्मा, रणजीत कौशिक, संतोष गुलिया, ललित दीवान, सुरेश भारद्वाज, हरेंद्र सैनी, सतीश चेयरमैन, सतबीर निर्माण, वीरेंद्र सांगवान, जंगशेर नूरण खेड़ा समेत कई नेता मौजूद थे।

Have something to say? Post your comment