Monday, March 30, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा केबिनेट की अहम बैठक कल, सीएम की अध्यक्षता में होगी बैठकबीजेपी का हर कार्यकर्ता पीएम केयर फंड में देगा कम से कम 100 रुपये: जेपी नड्डाबॉलीवुड गायिका कनिका कपूर की आई चौथी रिपोर्ट, चौथी रिपोर्ट भी निकली कोरोना पॉजिटिवहरियाणा से राहत की खबर,गुरुग्राम का एक ओर कोरोना वायरस पीड़ित मरीज स्वस्थ हुआपी.सी. मीणा ने राज्य के सभी जिला सूचना एवं जन सम्पर्क अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे भ्रामक खबरों पर अंकुश लगाएं और स्थिति को नियंत्रण में रखें ताकि लोगों में अफवाहें न फैलेराज्य की मण्डियों में आने वाली रबी फसल की पैदावार की खरीद को सुनिश्चित करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए गए:डॉ. बनवारी लाल प्रत्येक गांव स्तर पर 14 अप्रैल, 2020 तक एक मॉनिटरिंग कमेटी का गठन करें:दुष्यंत चौटालालॉकडाउन के दौरान अपने-अपने संस्थानों में कार्यरत श्रमिकों को जबरन अवकाश पर न भेजे:दुष्यंत चौटाला
Haryana

गेहूं की कटाई हो सकती है प्रभावित

March 26, 2020 05:52 AM

COURTESY NBT MARCH 26

चिंता• मजूदरों की कमी से किसान होने लगे हैं परेशान • एक सप्ताह बाद गेहूं की कटाई का काम होगा शुरू• एनबीटी न्यूज, बल्लभगढ़



कोरोना वायरस को लेकर देशभर में घोषित किए गए लॉकडाउन से किसान गेहूं की कटाई को लेकर चिंता में पड़ गए हैं। इस बार जहां किसानों को गेहूं की कटाई के लिए मजदूरों की कमी का सामना पड़ेगा, वहीं दूसरी ओर गेहूं निकासी के लिए भी परेशानी हो सकती है।

खेतों में गेहूं व सरसों की फसल लगभग पक कर तैयार हो चुकी है। एक सप्ताह बाद गेहूं व सरसों की कटाई शुरू हो जाएगी। मगर कोरोना से निपटने के लिए जिला व प्रदेश की सीमाएं सील होने से किसानों को मजदूरों न मिलने की चिंता सताने लगी है। फसल कट भी गई तो उसे मंडियों तक कैसे पहुंचाएंगे, इसको लेकर भी उनके माथे पर चिंता की लकीरें साफ दिखाई दे रही हैं। किसानों की फसल कटाई का पूरा दारोमदार दूसरे प्रदेशों से आने वाले मजदूरों पर टिका हुआ है। हर साल गेहूं की कटाई के लिए यूपी व बिहार के अलावा पड़ोसी जिलों से हजारों की संख्या में मजदूर यहां पहुंचते हैं। अभी कोरोना वायरस के चलते देश में पूरी तरह लॉकडाउन है। इसके चलते न तो बसें चल रही हैं और न ही ट्रेनें। ऐसे में इन मजदूरों का पहुंचना संभव नहीं होगा। यही वजह है कि किसानों की नींद उड़ी हुई है। सरसों का रकबा कम होने के कारण किसानों ने जैसे-तैसे स्थानीय मजदूरों की मदद से सरसों की कटाई तो कर ली, लेकिन गेहूं की कटाई दूसरे प्रदेशों के मजदूरों की मदद के बगैर संभव नहीं। यही वजह है कि प्रदेश में जो थोड़े-बहुत मजदूर हैं, उनकी बुकिंग पहले ही शुरू हो गई है। इन मजदूरों के पास किसान दिन-रात चक्कर लगा रहे हैं, ताकि फसल कटाई के समय कुछ राहत मिले। मजदूरों के नहीं मिलने से किसानों के पास दूसरा विकल्प कंबाइन से गेहूं की कटाई का होता है। इसमें भी मुश्किल यह कि प्रदेश में किसानों के पास कंबाइन मशीनें नाममात्र की हैं। हर बार फसल सीजन में दूसरे राज्यों से कंबाइन मशीनें यहां पहुंचती हैं, राज्य की सीमाएं सील होने से हरियाणा में उनकी एंट्री मुश्किल होगी। बहादुरपुर गांव के किसान रविंद्र बांकुरा व प्रहलाद बांकुरा ने बताया कि मजदूरों की मदद के बगैर किसान फसल को कैसे काटेगा। खासकर मंडियों में मजदूर नहीं मिलने से कई तरह की मुश्किलें आ सकती हैं। मजदूरों की कमी से उठान और लदान का काम प्रभावित होना तय है। किसान कटाई के दौरान खांसी और जुकाम की दिक्कत होने के चलते कटाई से परहेज कर रहे हैं। किसानों का यह भी कहना है कि कोरोना के चलते गेहूं खरीद शुरू होने की उम्मीद कम है, तो केंद्र तक गेहूं कैसे पहुंचेगा। मार्केट कमिटी बल्लभगढ़ के सचिव ऋषि कुमार ने बताया कि बल्लभगढ़ अनाज मंडी खुली हुई है। सरकार ने मंडियों को बंद नहीं किया है। मंडी में अभी मजदूर नहीं हैं, यह अलग बात है।
गेहूं की कटाई हो सकती है प्रभावित

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
हरियाणा केबिनेट की अहम बैठक कल, सीएम की अध्यक्षता में होगी बैठक
हरियाणा से राहत की खबर,गुरुग्राम का एक ओर कोरोना वायरस पीड़ित मरीज स्वस्थ हुआ पी.सी. मीणा ने राज्य के सभी जिला सूचना एवं जन सम्पर्क अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे भ्रामक खबरों पर अंकुश लगाएं और स्थिति को नियंत्रण में रखें ताकि लोगों में अफवाहें न फैले राज्य की मण्डियों में आने वाली रबी फसल की पैदावार की खरीद को सुनिश्चित करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए गए:डॉ. बनवारी लाल प्रत्येक गांव स्तर पर 14 अप्रैल, 2020 तक एक मॉनिटरिंग कमेटी का गठन करें:दुष्यंत चौटाला लॉकडाउन के दौरान अपने-अपने संस्थानों में कार्यरत श्रमिकों को जबरन अवकाश पर न भेजे:दुष्यंत चौटाला हरियाणा सरकार ने वर्तमान में उत्पन्न कोविड-19 की स्थिति के मद्देनजर विभिन्न विभागों में कार्यरत कर्मचारियों, जो 31 मार्च, 2020 को सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं, की सेवाओं को एक महीने की अवधि के लिए बढ़ाने का निर्णय लिया राज्य सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश, बिहार और उडीसा के प्रवासी मजदूरों की सूची तैयार कर संबंधित उपायुक्तों को सौंपी गई: केशनी आनंद अरोड़ा
हरियाणा बिजली विभाग की पैसेनर्स वेलफेयर एसोसिएशन से जुड़े सभी 43 हजार सेवानिवृत्त कर्मचारियों ने अपनी एक दिन की कोरोना पेंशन फण्ड में देने का निर्णय लिया
ज़रुरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे आए समाज और क्षमता अनुसार रिलीफ फण्ड में मदद करे - हुड्डा