Sunday, April 05, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
घबराये नहीं किसान, फसल का एक-एक दाना खरीदेगी सरकार- दुष्यंत चौटाला हरियाणा सरकार ने एक आईएएस और 7 एचसीएस अधिकारियों किया तबादलाराज्य सरकार ने आज गन्ने के बकाया के भुगतान के लिए 169 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दीहरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से डॉ० इन्द्र जीत (एचसीएस) को कोविड-19 के लिए मुख्य सचिव के डाटा मैनेजमेंट सेल में प्रतिनियुक्त कियानलहड़ के शहीद हसन खान मेवाती सरकारी मेडिकल कॉलेज को विशेष रूप से कोविड-19 अस्पताल के रूप में घोषत किया 1 मार्च से आज तक तबलीगी जमात से प्रदेश में जो भी व्यक्ति आया है उन सभी का टैस्ट किया जाऐगा:विजजानकारी देने से घबराहट खत्म होगी:मनोहर लाल, हरियाणा के मुख्यमंत्रीहरियाणा के मुख्यमन्त्री मनोहर लाल वीडियो के माध्यम से करेंगे प्रदेश की जनता को संबोधन, आज शाम 5 बजे जनता के नाम जारी करेंगे अपना संदेश
Haryana

HARYANA- किस प्रॉपर्टी का कितना रिजर्व प्राइस, अब ऑक्शन के समय ही बताएगा एचएसवीपी

February 27, 2020 06:27 AM

COURTESY DAINIK BAHSKAR FEB 27

किस प्रॉपर्टी का कितना रिजर्व प्राइस, अब ऑक्शन के समय ही बताएगा एचएसवीपी
प्रॉपर्टी की ऑक्शन में बदलाव के ये हैं दो कारण
हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (एचएसवीपी) ने पंचकूला के साथ-साथ पूरे हरियाणा में प्रॉपर्टी की आॅक्शन में बदलाव किया है। इस बदलाव के चलते अब एचएसवीपी कोई भी प्रॉपर्टी ऑक्शन में रखने के दौरान उसकी मार्केट वैल्यू (रिजर्व प्राइस) सार्वजनिक नहीं करेगा। इसकी जानकारी ऑक्शन के समय ही रजिस्ट्रेशन करने वाले लोगों को ही मिलेगी। वहीं, ऑनलाइन बोली लगाने के बाद ही बोलीदाता को उसकी पसंद की प्रॉपर्टी की जानकारी मिलेगी।
एचएसवीपी ने ऑनलाइन लगने वाली रेजिडेंशियल और कमर्शियल प्रॉपर्टी के पैटर्न में बड़ा बदलाव किया है। इसके अनुसार बोली लगाने वालों को नए तरीके के हिसाब से ही ऑक्शन में शामिल होना होगा। पहले ऑक्शन में शामिल होने के लिए पैसे देकर रजिस्ट्रेशन करवाने की जरूरत नहीं थी। अब पहले एक हजार रुपए जमा करवाने होंगे।
यह करना होगा...
एचएसवीपी की साइट पर जाकर लॉग इन करना होगा। यहां आईडी बनाने का ऑप्शन मिलेगा। आपकी ईमेल आईडी ही ऑक्शन की रजिस्ट्रेशन आईडी होगी। इसके लिए आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा। उसके बाद ही आप ऑक्शन में भाग ले सकते हैं। पहले एचएसवीपी के नियम थे कि प्रॉपर्टी की वैल्यू देखकर रिजर्व प्राइस का तय किया जाता था, लेकिन अब ऑक्शन में रखी गई प्रॉपर्टी के लिए आपको 2 लाख रुपए के हिसाब से फीस जमा करवानी होगी। फीस आरटीजीएस, एनईएफटी से जमा करवाई जा सकती है। जब ऑक्शन को दो दिन का समय रह जाए, तो उस दौरान सिर्फ ऑनलाइन पेमेंट को मान्य माना जाएगा। नए पैटर्न पर काम करने, लोगों को बताने के लिए आईटी सेल के अधिकारियों को ट्रेनिंग दी गई है। वहीं, पंचकूला और गुरुग्राम में भी लोगों के लिए अवेयरनेस प्रोग्राम चलाया गया। इसके लिए एचएसवीपी ने अपनी वेबसाइट पर बताया था, जिसके चलते ज्यादा लोग इसमें भाग नहीं ले सके। बडी बात यह है, कि पंचकूला, गुरू ग्राम या पूरे हरियाणा में प्रॉपर्टी सलाहकार ही ऑक्शन में लोगों को पार्टीसिपेट करवाते हैं। असल में जब एक प्रॉपर्टी चूज होने के बाद सबसे ज्यादा बोली लगाकर उसे कोई अलॉटी ले लेगा। तो उसके बाद बाकी बची प्रॉपर्टी पर बाकी अलॉटी बोली लगा सकते हैं। इसके बाद दोबारा ऑक्शन ऐसे ही चलती रहेगी। पहले लगी बोली के अनुसार ही अगली बोली लगाई जाएगी। ऐसे ऑक्शन में जो प्रॉपर्टीज बिकने से रह जाएगी।
}पंचकूला और गुरुग्राम की ऑक्शन में लागू होंगे नए नियम... हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की ओर से 28 फरवरी को पंचकूला और गुरुग्राम में ऑक्शन को निकाला गया है। इसमें पंचकूला के सेक्टर 21 के बूथों को शामिल किया गया है। जबकि गुरुग्राम में जेल लैंड के बूथों को रखा गया है। 28 फरवरी को होने वाली ऑक्शन सुबह इस नए पैटर्न पर ही की जाएगी। सेक्टर 21 मार्केट में 22.69 स्क्वेयर मीटर के बूथों को रखा गया था। इसमें बूथ नंबर 197, 199, 200, 206, 208, 217 को शामिल किया गया है। वहीं, गुरुग्राम में ऑक्शन के लिए जेल लैंड पर बनने वाले शॉपिंग कॉम्प्लेक्स का प्लान पब्लिकली किया गया था। इसमेंं भारी संख्या में बूथों नंबर, लेआउट प्लान में हैं।
आपको 2 लाख रुपए के हिसाब से फीस जमा करवानी होगी। फीस आरटीजीएस, एनईएफटी से जमा करवाई जा सकती है। जब ऑक्शन को दो दिन का समय रह जाए, तो उस दौरान सिर्फ ऑनलाइन पेमेंट को मान्य माना जाएगा। नए पैटर्न पर काम करने, लोगों को बताने के लिए आईटी सेल के अधिकारियों को ट्रेनिंग दी गई है। वहीं, पंचकूला और गुरुग्राम में भी लोगों के लिए अवेयरनेस प्रोग्राम चलाया गया। इसके लिए एचएसवीपी ने अपनी वेबसाइट पर बताया था, जिसके चलते ज्यादा लोग इसमें भाग नहीं ले सके। बडी बात यह है, कि पंचकूला, गुरू ग्राम या पूरे हरियाणा में प्रॉपर्टी सलाहकार ही ऑक्शन में लोगों को पार्टीसिपेट करवाते हैं। असल में जब एक प्रॉपर्टी चूज होने के बाद सबसे ज्यादा बोली लगाकर उसे कोई अलॉटी ले लेगा। तो उसके बाद बाकी बची प्रॉपर्टी पर बाकी अलॉटी बोली लगा सकते हैं। इसके बाद दोबारा ऑक्शन ऐसे ही चलती रहेगी। पहले लगी बोली के अनुसार ही अगली बोली लगाई जाएगी। ऐसे ऑक्शन में जो प्रॉपर्टीज बिकने से रह जाएगी।

}ऑक्शन को स्लैब में बांटा...
फर्स्ट स्लैब: ऑक्शन को स्लैब में बांटा गया है। अलॉटी को पहले पता ही नहीं चलेगा कि वह किस प्रॉपर्टी के लिए बोली लगा रहा है। ऐसे में अगर एक घंटे के दौरान लगातार बोली में उसका रेट सबसे ज्यादा, यानी उसकी बोली सबसे हाई है, तो एक घंटे के बाद उसके सामने सभी प्रॉपर्टीज की लिस्ट शो हो जाएगी। बोली लगाने वाले के पास 10 मिनट का समय होगा कि वह प्रॉपर्टी चूज कर सके। फर्स्ट च्वाइस उसकी होगी।
सेकंड स्लैब: ऐसे में 10 मिनट के दौरान ही अगर सबसे ज्यादा बोली लगाने वाले अलॉटी की प्रॉपर्टी पर किसी अन्य ने बोली लगाकर दावा किया, तो दो बोली लगाने वाले आमने सामने होंगे। दोनों बोली लगा सकेंगे। ऐसे इस सेकंड स्लैब शुरू हो जाएगा। इस दौरान इन्हें 10-10 मिनट का समय मिलेगा। ये समय 5 बार बढ़ाया जा सकता है। बडी बात यह है कि सेकंड स्लैब में लगने वाली बोली फर्स्ट स्लैब से दोगुनी हो जाएगी। 50 लाख रुपए की प्रॉपर्टी वैल्यू पर प्रति बोली 10 हजार, एक करोड़ तक 20 हजार और एक करोड़ से ऊपर 40 हजार रुपए की लगाई जा सकेगी।
}अब अपनी मर्जी से भी नहीं लगा सकेंगे बोली, इसके लिए अमाउंट तय...मैनुअल लगने वाली बोली और फिर ऑनलाइन शुरू की गई ऑक्शन में व्यापारी अपनी मर्जी के हिसाब से बोली लगा सकते थे। एचएसवीपी की ओर से काई नियम तय नहीं किए गए थे कि कम से कम कितनी अमाउंट की बोली बढ़ाकर लगाई जा सकती है। लेकिन अब इसके लिए भी नियम लागू कर दिया गया है। नए नियमों के अनुसार इसे प्रॉपर्टी के रेट के हिसाब से बांटा गया है। तय किया गया है, कि 50 लाख रुपए तक की अमाउंट तक हर बार बोली लगाने के लिए 5 हजार रुपए बढ़ाने होंगे। एक करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी वैल्यू रखने पर 10 हजार रुपए बोली लगानी होगी। वहीं, एक करोड़ से ऊपर की प्रॉपर्टी वैल्यू होने पर 20 हजार रुपए बोली को लगाना होगा।
रिजर्व प्राइस क्या है, यह पहले पता होना चाहिए... हरियाणा प्रॉपर्टी डीलर्स एसोसिएशन के प्रधान सुरेश अग्रवाल बताया कि प्रॉपर्टी कंसल्टेंट को इस बारे में कोई नोटिस, इन्विटेशन नहीं दिया गया था। ऐसे में लोगों को इस बारे में कैसे जानकारी देंगे। लोगों को पहले ही पता चलना चाहिए कि उन्हें जो प्रॉपर्टी पसंद है, उसका रिजर्व प्राइस क्या है। कोई भी अपनी आमदनी, खर्च, या अपना वित्तीय सिस्टम देखने के बाद ही प्रॉपर्टी खरीदेगा।
एक- असल में जब भी पहले ऑक्शन होती थी, तो प्रॉपर्टी कारोबारी पहले ही प्रॉपर्टी साइट और रिजर्व प्राइस के हिसाब से अपनी पसंद को चुन लेते थे। उसके बाद सेटिंग के हिसाब से बोली लगाई जाती थी। ज्यादा बोली नहीं लगाई जाती थी। ऐसे में इस नेक्सेस को तोड़ने के लिए ये बदलाव किया है।
दो- एचएसवीपी इस समय वित्तीय संकट से गुजर रहा है। ऐसे में इस संकट से बचने के लिए पैसे की जरूरत है। इसकेे चलते अपनी कमाई को बढाने के लिए ऐसा किया गया है।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
घबराये नहीं किसान, फसल का एक-एक दाना खरीदेगी सरकार- दुष्यंत चौटाला
हरियाणा सरकार ने एक आईएएस और 7 एचसीएस अधिकारियों किया तबादला
राज्य सरकार ने आज गन्ने के बकाया के भुगतान के लिए 169 करोड़ रुपये की राशि जारी कर दी हरियाणा सरकार ने तुरंत प्रभाव से डॉ० इन्द्र जीत (एचसीएस) को कोविड-19 के लिए मुख्य सचिव के डाटा मैनेजमेंट सेल में प्रतिनियुक्त किया नलहड़ के शहीद हसन खान मेवाती सरकारी मेडिकल कॉलेज को विशेष रूप से कोविड-19 अस्पताल के रूप में घोषत किया 1 मार्च से आज तक तबलीगी जमात से प्रदेश में जो भी व्यक्ति आया है उन सभी का टैस्ट किया जाऐगा:विज
जानकारी देने से घबराहट खत्म होगी:मनोहर लाल, हरियाणा के मुख्यमंत्री
हरियाणा के मुख्यमन्त्री मनोहर लाल वीडियो के माध्यम से करेंगे प्रदेश की जनता को संबोधन, आज शाम 5 बजे जनता के नाम जारी करेंगे अपना संदेश
कोरोना वायरस के संक्रमण से कैथल की जनता को सुरक्षित रखना ही हमारा ध्येय – सुरजेवाला
भिवानी में 2 लोगों का कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए