Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
कोरोना को लेकर कई मुद्दों पर चर्चा हुई:दुष्यन्त चौटाला, हरियाणा के उप मुख्यमंत्रीकोरोना से निपटने के लिए हरियाणा के मनोहर लाल ने विधायकों से सुझाव मांगेउत्तर प्रदेश सरकार ने लिया बड़ा फैसला,15 जिले पूरी तरह होंगे सीलचंड़ीगढ़: मुख्यमंत्री आवास पर सर्वदलीय बैठक जारीकोरोना वायरस का फ्री टेस्ट सुनिश्चित करे सरकारः SCचंडीगढ़:भारतीय रेलवे ने यात्रियों की सुविधा के लिए आइसोलेशन कोच तैयार करवाएहरियाणा केरोना रिलीफ़ फंड में माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल को आज उनके निवास पर संत निरंकारी मिशन की तरफ से पचास लाख रुपये का चेक केसी कश्यप और लक्ष्मण दास गोयल ने भेंट कियाहरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुलाई सर्वदलीय बैठक
Haryana

चीन की मंदी से चमक सकता है भारतीय कपड़ा उद्योग

February 26, 2020 05:21 AM

COURTESY NBT 26 FEB

मेरिका सहित यूरोप के देशों से संपर्क करने में जुटे गुड़गांव के उद्योगपति
चीन की मंदी से चमक सकता है भारतीय कपड़ा उद्योग

 

• प्रमुख संवाददाता, गुड़गांव

 

कोरोना वायरस ने चीन के अलावा भारत व अन्य देशों के बाजारों को खासा प्रभावित किया है। वहीं, माना जा रहा है गारमेंट निर्यात को प्रोत्साहन मिल सकता है। इस वायरस के खतरे को देखते हुए अमेरिका सहित यूरोप के वह देश जो चीन से गारमेंट्स आयात करते थे उनका रुख अब भारत की ओर बढ़ रहा है। रुझान बढ़ने पर गुड़गांव की गारमेंट्स इंडस्ट्री ने भी तैयारी कर ली है। निर्यातक विंटर सीजन के ऑर्डर लेने के लिए दूसरे देशों के बायर्स से लागातार संपर्क कर रहे हैं। इस साल विदेश ऑर्डर में कम से कम 20 से 25 प्रतिशत का इजाफा होने की संभावना है।


पटरी से उतरा गारमेंट्स व्यवसाय• ईस्ट-वेस्ट गारमेंट्स के जीएम सत्येंद्र सिंह ने बताया कि चीन गारमेंट्स में विश्व का बड़ा एक्सपोर्टर है। चीन कॉटर में कम सिंथेटिक में ज्यादा कारोबार करता है। भारत के मुकाबले प्रॉडक्ट सस्ते होने के कारण यूरोपियन देश काफी बड़ी संख्या में चीन से ही कारोबार करना पसंद करते हैं। अब कोरोना वायरस के कारण चीन का गारमेंट्स एक्सपोर्ट पूरी तरह पटरी से उतर चुका है। ऐसे में यूरोपियन देश चीन की ओर रुख नहीं कर भारत व बांग्लादेश की ओर अपने हाथ बढ़ा रहे हैं।

अप्रैल से दिखने लगेगा रिजल्ट• ग्लैक्सी कंपनी के जीएम मनीष सिंह का कहना है कि चीन के गारमेंट्स एक्सपोर्ट के नहीं कर पाने का लाभ बांग्लादेश व भारत को ज्यादा मिलने की उम्मीद है। प्रॉडक्ट की लागत कम आए और ज्यादा से ज्यादा गारमेंट्स एक्सपोर्ट किए जा सके, इसके लिए बायर्स से संपर्क किया जा रहा है। काफी देशों के बायर्स विजिट भी करने के लिए आ रहे या फिर आने के लिए तारीख तय कर रहे हैं। गारमेंट्स एक्सपोर्ट में कितना फायदा हुआ है इसका पता अप्रैल माह तक सही पता लग सकेगा।


सत्येंद्र सिंह ने बताया कि गुड़गांव में 200 से अधिक गारमेंट्स एक्सपोर्ट कंपनियां हैं। गुड़गांव के एक्सपोर्टर इटली, कनाडा, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, आस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, कनाडा, न्यूजीलैंड एवं थाइलैंड सहित अन्य देशों के आयातकों से संपर्क में हैं। विंटर सीजन के लिए सैंपल भेजने और ऑर्डर लेने की कवायद चल रही है। उम्मीद की जा रही है गारमेंट्स कारोबार को जंप मिल सकता है। देश के एक्सपोर्टरों की वैश्विक बाजार में पकड़ बनाने को लेकर केंद्र सरकार को मददगार भूमिका निभानी चाहिए।
वैश्विक बाजार में पकड़ बनाने को हो रहा प्रयास

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
कोरोना को लेकर कई मुद्दों पर चर्चा हुई:दुष्यन्त चौटाला, हरियाणा के उप मुख्यमंत्री कोरोना से निपटने के लिए हरियाणा के मनोहर लाल ने विधायकों से सुझाव मांगे चंड़ीगढ़: मुख्यमंत्री आवास पर सर्वदलीय बैठक जारी
हरियाणा केरोना रिलीफ़ फंड में माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल को आज उनके निवास पर संत निरंकारी मिशन की तरफ से पचास लाख रुपये का चेक केसी कश्यप और लक्ष्मण दास गोयल ने भेंट किया
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुलाई सर्वदलीय बैठक सोनीपत में कोरोना पॉजिटिव का तीसरा के सामने आया फरीदाबाद में 27 हुई कोरोना मरीजों की संख्या अम्बाला:तबलीगी जमात में शामिल हुए 2 लोग कोरोना पॉजिटिव करनाल: आईजी भारती अरोड़ा ने लोगों से अपील की कि अफवाह पर ध्यान मत दीजिए Haryana in Stage 2, containment plan in place for each district’