Sunday, July 12, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
राजस्थानः सभी मंत्रियों और विधायकों को जयपुर पहुंचने के निर्देश, मुख्यमंत्री ने मिलने बुलायाकानपुर कांड की होगी न्यायिक जांच, यूपी सरकार ने एक सदस्यीय जांच आयोग का किया गठनअमिताभ बच्चन के बाद ऐश्वर्या राय और आराध्या भी कोरोना पॉजिटिवFICCI के सर्वे में चालू वित्त वर्ष के दौरान GDP ग्रोथ रेट -4.5 फीसदी रहने का अनुमानबांग्लादेश में भारत के नए उच्चायुक्त होंगे विक्रम दोरईस्वामीयूपीः कोरोना से निपटने के लिए सरकार का प्लान, हर हफ्ते लगेगा वीकेंड लॉकडाउनअनुपम खेर की मां कोरोना पॉजिटिव, कोकिलाबेन अस्पताल में भर्तीअमिताभ बच्चन का बंगला जलसा कंटेनमेंट जोन घोषित, BMC ने गेट पर लगाया पोस्टर
National

स्वीडन की नागरिक तस्लीमा को निर्मला ने बताया भारतीय

January 20, 2020 06:16 AM

 

COURTESY NBT JAN 20
• एनबीटी, गोरखपुर : मुख्यमंत्री योगी आदित्यानथ ने रविवार को सीएए के समर्थन में कांग्रेस, सपा समेत पूरे विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा है कि नागरिकता संशोधन कानून का दुष्प्रचार कर आगजनी व उपद्रव कराया जा रहा है, देश का चीरहरण हो रहा है इसलिए ऐसे माहौल में वह मौन नहीं रह सकते। विपक्ष को जनता के बीच बेनकाब करेंगे। योगी ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस व सपा ने उपद्रवियों को फाइनेंस किया जिससे वे तोड़फोड़ व आगजनी कर सकें। योगी का कहना है कि यह कानून किसी भारतीय नागरिक के खिलाफ नहीं है। उन्होंने तंज कसा कि नेहरू के कार्यकाल में ही यह कानून बना था पर कांग्रेस ही इसे स्वीकार नहीं करना चाहती है। मुख्यमंत्री ने एमपी इंटर कॉलेज में भाजपा के सीएए समर्थित जनसभा को संबोधित करते हुए सीएए के विभिन्न पहलुओं को लोगों को बताया और आह्वान किया कि वे जनता के बीच जाकर उन्हें इसके बारे में बताएं। उन्होंने कहा कि सीएए घुसपैठियों के खिलाफ है न कि किसी भारतीय के खिलाफ। उन्होंने तंज कसा कि विपक्ष लोगों को गुमराह करने में नाकाम रहा तो उसने महिलाओं को आगे कर विरोध कराना शुरू कर दिया है।

योगी ने कहा कि आजादी के बाद लोगों को गुमराह करने के लिए वामपंथी दलों ने खूब झूठ बोला। अब कांग्रेस व सपा के साथ दूसरे विपक्षी दलों ने झूठ बोलने की बागडोर संभाल ली है। दरअसल वामपंथी दलों की तरह ही सपा व कांग्रेस भी अंतिम राजनीतिक पायदान पर खड़े हैं। ये अपना अस्तित्व बचाने के लिए लोगों को गुमराह करने में जुटे हैं।

भारत की बढ़ती ताकत कांग्रेस को पच नहीं रही : योगी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत पूरी दुनिया में ताकत बनकर उभर रहा है। इसका सबूत है अमेरिका व ईरान के बीच चल रहा तनाव जिसे खत्म कराने के लिए दुनिया ने भारत को मध्यस्थता करने की आवाज दी है। भारत की उभरती ताकत कांग्रेस को पच नहीं रही। नया भारत स्वीकार करने के बजाए कांग्रेस देश में हिंसा भड़काने की साजिश करने में लगी हुई है। उन्होंने आह्वान किया कि वे सीएए के समर्थन में प्रधानमंत्री को पोस्टकार्ड भेजकर उनका अभिनंदन करें।
योगी बोले- CAA का दुष्प्रचार कर देश का हो रहा चीरहरण• सीएए के समर्थन में कांग्रेस-एसपी पर सीएम योगी ने साधा निशाना• सीएम योगी ने कहा- उपद्रवियों को फाइनेंस कर रही कांग्रेस-एसपी


चेन्नै में एक कार्यक्रम के दौरान वित्त मंत्री ने तस्लीमा (बाएं)का किया जिक्र
वित्त मंत्री ने कहा- 6 साल में 2838 पाकिस्तानी बने भारतीय नागरिक

• भाषा, चेन्नै : संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने रविवार को कहा कि पिछले 6 सालों में पाकिस्तान से आए 2838 लोगों को भारतीय नागरिकता दी गई। चेन्नै में नागरिकता संशोधन कानून पर एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने यह जानकारी दी। हालांकि इस दौरान वित्त मंत्री से उस वक्त चूक हो गई जाब उन्होंने तस्लीमा नसरीन को भी भारतीय नागरिक बता दिया।

निर्मला ने अदनान सामी के साथ ही जानी-मानी बांग्ला लेखिका तस्लीमा नसरीन को ऐसे दूसरे मुस्लिम उदाहरण के तौर पर बताया, जिन्हें भारत की नागरिकता मिली है। नसरीन जो कि आधिकारिक तौर पर स्वीडन की नागरिक हैं, वे 2004 से नई दिल्ली में रेजिडेंस परमिट के साथ रह रही हैं। कथित इस्लाम-विरोधी विचारों के चलते तस्लीमा नसरीन को कट्टरपंथी संगठनों की ओर से मारने की धमकी दी गई थी, जिसके बाद उन्होंने 1994 में बांग्लादेश छोड़ दिया था। तबसे वे निर्वासन में रह रही हैं।

सीतारमण ने कहा, 'पिछले 6 सालों में 2838 पाकिस्तानी शरणार्थियों, 914 अफगानी और 172 बांग्लादेशी शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दी गई, जिनमें मुस्लिम भी शामिल हैं। 1964 से लेकर 2008 तक 4 लाख से ज्यादा तमिलों (श्रीलंका के) को भारतीय नागरिकता दी गई।' कहा, '2014 तक पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए 566 से ज्यादा मुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता दी गई। 2016 से 2018 के दौरान मोदी सरकार के कार्यकाल में करीब 1595 पाकिस्तानी प्रवासियों और 391 अफगानिस्तानी मुस्लिमों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई।' मंत्री ने आगे कहा, '2016 में इसी दौरान अदनान सामी को भी भारतीय नागरिकता दी गई, यह एक उदाहरण है।' सीतारमण ने कहा कि पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) से आए लोगों को देश में अलग-अलग कैंपों में बसाया गया। उन्होंने कहा, 'वे अब भी वहां हैं और उनको रहते अब 50 से 60 साल हो चुके हैं। अगर आप इन कैंपों में जाएंगे तो आपका दिल रोएगा। श्रीलंकाई शरणार्थियों की भी यही स्थिति है जो कैंपों में ही रह रहे हैं। वे बुनियादी सुविधाओं से भी वंचित हैं।'

सरकार किसी भी नागरिकता नहीं छीन रही है, इस पर जोर देते हुए सीतारमण ने कहा, 'नागरिकता संशोधन कानून लोगों को एक बेहतर जिंदगी देने का प्रयास है। हम किसी की नागरिकता नहीं छीन रहे हैं, हम सिर्फ कुछ को नागरिकता दे रहे हैं।' वित्त मंत्री ने आगे कहा, 'नैशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) को हर 10 साल पर अपडेट किया जाएगा और इसका नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस (एनआरसी) से कोई लेना-देना नहीं है। कुछ लोग झूठे आरोप लगाकर लोगों को बिना किसी आधार के उकसा रहे हैं।'

सीएए को लागू करने का राज्यों का विरोध ‘असंवैधानिक’ है : वित्तमंत्री

निर्मला सीतारमण ने कुछ राज्यों द्वारा संशोधित नागरिकता कानून को लागू नहीं करने के प्रस्ताव को ‘असंवैधानिक’ करार दिया और कहा कि यह सभी राज्यों की जवाबदेही है कि वे संसद में पारित कानून को लागू करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा, ‘एक राज्य की विधानसभा ने सीएए के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया है। यह राजनीतिक बयानबाजी करने जैसा है। हम उसे समझ सकते हैं।’ वित्त मंत्री ने कहा, ‘लेकिन यह कहना कि वे इसे लागू नहीं करेंगे, कानून के खिलाफ है। ऐसा कहना असंवैधानिक है।’ सीएए पर ‘चेन्नई सिटीजन्स फोरम’ की तरफ से आयोजित एक कार्यक्रम में दर्शकों द्वारा पूछे गए एक सवाल के जवाब में सीतारमण ने कहा कि केरल जैसे कुछ राज्यों ने अपने यहां सीएए को लागू करने का विरोध किया है।

Have something to say? Post your comment