Tuesday, July 14, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा के गृह व स्वास्थ्यमंत्री अनिल विज सर्जरी 35 दिनों के बाद वॉकर के सहारे हरियाणा सचिवालय पहुंचेउत्कृष्ट काम करने वाली महिला पंच-सरपंचों को मिलेगी स्कूटी - दुष्यंत चौटाला, हरियाणा के डिप्टी सीएमगडकरी ने दिया 13 हजार करोड़ की सड़क परियोजनाओं का तोहफा : राव इंद्रजीतसचिन पायलट और कुछ मंत्री दिग्भ्रमित हो गए हैं- रणदीप सुरजेवालासचिन पायलट राजस्थान मंत्रिमंडल से बर्खास्त, प्रदेश अध्यक्ष के पद से भी हटाए गएराजस्थान: सचिन पायलट प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाए गए, गोविंद सिंह डोटासरा नए प्रदेश अध्यक्षपीकेआर जैन पब्लिक स्कूल की बारहवीं कक्षा के उत्तम परिणाम के उपलक्ष में विद्यालय द्वारा बधाई समारोह का आयोजन पटना: बिहार बीजेपी के 75 नेता-कार्यकर्ता कोरोना पॉजिटिव
Niyalya se

पंचकूला हिंसा मामले में पुलिस कोर्ट में नहीं दे पाई सबूत, 10 आरोपी बरी

January 17, 2020 05:51 AM


COURTESY DAINIK BHASKAR JAN 17

फरीदाबाद से मंगाई फायर ब्रिगेड की गाड़ी अाग लगाने के बाद पुलिस ने पकड़े थे आरोपी

25 अगस्त 2017 को पंचकूला स्थित स्पेशल सीबीआई कोर्ट से जब डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को साध्वी यौन शोषण मामले में दोषी करार दिया था, तो उस दौरान पंचकूला में हिंसा फैल गई थी।
मीडिया, फायर ब्रिगेड सहित अन्य की गाड़ियों को आग लगा दी गई थी। इस दौरान फायर ब्रिगेड की जो गाड़ी मीडिया की गाड़ियों में लगी आग को बुझाने की कोशिश कर रही थी, उसे ही आग के हवाले कर दिया था। जिसके बाद पुलिस ने फायर ब्रिगेड कर्मी सुरेंद्र की शिकायत पर मामला दर्ज कर 10 आरोपियों को पकड़ा था। जिसके चलते अब इसी केस में पंचकूला कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए 10 आरोपियों को बरी कर दिया है। असल में पंचकूला पुलिस ने इस केस में जिन आरोपियों को पकड़ा था, पुलिस उनके खिलाफ कोर्ट में पक्के सबूत पेश नहीं कर पाई है। जिसके कारण कोर्ट ने सबूतों के अभाव में आरोपियों को बरी किया है।
ये है पूरा मामला : असल में 25 अगस्त को यहां हैफेड चौंक के पास फरीदाबाद से आई फायर ब्रिगेड की गाड़ी को आग लगा दी गई थी। ये फायर टेंडर, उस दौरान मीडिया की गाडियों में लगी आग को बुझा रही थी। इस गाड़ी में मौजूद ड्राइवर सुरेंद्र कुमार को पीटा गया था और सामान सहित इस गाड़ी को भी आग के हवाले कर दिया गया था। इस दौरान गाड़ी में 5 जोडे़ ममबूट, 5 हेलमेट, कंबल समेत अन्य सामान भी जल गया था।
साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा प्रमुख राम रहीम को दोषी करार देने पर फैलाई थी हिंसा
25 अगस्त 2017 को पुलिस ने इनको किया था गिरफ्तार
पटियाला के रहने वाले दलबीर सिंह, अमृत पाल, गुरिंदर सिंह, भगवंत सिंह, देवी दयाल, नजीर सिंह, संगरूर के रहने वाले जगजीत सिंह, जगतार सिंह, गंगा नगर के रहने वाले कसतूरी लाल, रोहतक के रहने वाले मधुर हंस पर आईपीसी की धारा 148,149,188,435,307 के मामला दर्ज किया गया था। पुलिस ने धारा 307 की धारा को केस रजिस्टर्ड करने के बाद दर्ज किया था। पंचकूला की कोर्ट ने वीरवार को इन आरोपियों को बरी किया है।

Have something to say? Post your comment
More Niyalya se News