Saturday, August 15, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
महेंद्र सिंह धोनी ने किया अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान, खेलते रहेंगे IPL74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजभवन में सत्यदेव नारायण आर्य ने हरियाणा के वीर शहीदों, स्वतंत्रता सेनानियों, को नमन कियाउपमुख्यमंत्री आवास पर जेजेपी प्रदेश कार्यालय सचिव ने फहराया तिरंगास्वतंत्रता दिवस पर राज्य मंत्री अनूप धानक ने रोहतक में किया ध्वजारोहणस्वतंत्रता दिवस पर गुरुग्राम वासियों को डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की सौगात74वें स्वतंत्रता दिवस पर उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने गुरुग्राम में फहराया तिरंगाहरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष ज्ञान चन्द गुप्ता ने 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर किया ध्वजारोहण दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नेशनल वॉर मेमोरियल पर श्रद्धांजलि अर्पित की
Niyalya se

INX मीडिया केसः सुप्रीम कोर्ट से पी चिदंबरम को मिली जमानत

December 04, 2019 10:56 AM

NX मनी लॉन्डिंग मामले में पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम को जमानत मिल गई है. चिदंबरम पर यह मामला ED से जुड़ा है, जिसमें उन्हें जमानत मिली है. इससे पहले चिदंबरम को सीबीआई से जुड़े केस में जमानत मिल चुकी है.

चिदंबरम ने इस मामले में आए हाई कोर्ट के आदेश को चुनौती दी थी, जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने 2 लाख के बॉन्ड के साथ यह जमानत दी है.

चिदंबरम के लिए यह बड़ी राहत है क्योंकि वह पिछले 107 दिनों से जांच एजेंसी या न्यायिक हिरासत में थे. जमानत देते हुए कोर्ट ने चिदंबरम से यह भी कहा है कि वो केस पर सार्वजनिक बयान या इंटरव्यू न दें.

परमिशन के बिना यात्रा नहीं

जमानत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम पर कुछ शर्तें भी लगाई हैं. कोर्ट ने आदेश दिया है कि वह बिना परमिशन के यात्रा न करें. साथ ही कोर्ट ने चिदंबरम को यह भी हिदायत दी है कि वो केस से जुड़े किसी गवाह से संपर्क न करें.

दिल्ली HC ने रद्द की थी जमानत याचिका

दिल्ली हाई कोर्ट ने नवंबर में आईएनएक्स-मीडिया से जुड़े प्रवर्तन निदेशालय (ED) के मामले में पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम की जमानत याचिका खारिज कर दी थी. न्यायमूर्ति सुरेश कुमार कैत की अध्यक्षता वाली हाई कोर्ट की एकल पीठ ने राहत प्राप्त करने की चिदंबरम की याचिका खारिज करते हुए कहा था कि उनके खिलाफ आरोप गंभीर प्रकृति के हैं और यह मामला उन्हें जमानत देने के लिए सही नहीं है.

Have something to say? Post your comment