Friday, December 06, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
रोहतक की जिला कोर्ट ने जाट आरक्षण आंदोलन में देशद्रोह की धाराओं के आरोपी कांग्रेस नेता प्रो. वीरेंद्र सिंह और उनके दो साथियों को बड़ी राहत दीलालू यादव को झारखंड हाईकोर्ट से बड़ा झटका, जमानत याचिका खारिजआज पंजाब के स्पीकर केपीएस राणा से मिलने का मौका मिला:ज्ञान चंद गुप्ता दिशा रेप-मर्डर केस के चारों आरोपी मुठभेड़ में ढेर: हैदराबाद पुलिस पोस्टमॉर्टम के बाद परिवार को सौंप देंगे आरोपियों के शव: हैदराबाद पुलिसछात्रा परिवहन सुरक्षा योजना’ के अन्तर्गत राज्य के पांच जिलों में पायलट आधार पर ‘महिला स्पेशल बस’ चलाई जाएगी:मनोहर लालदिल्ली: स्वाति मालीवाल का अनशन जारी, मिलने पहुंचे मनीष सिसोदिया NHRC ने हैदराबाद एनकाउंटर का स्वत: संज्ञान लिया, जांच के आदेश
National

प्रज्ञा को निकाल बाहर करें

November 30, 2019 04:29 AM

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

भोपाल से लोकसभा सदस्य प्रज्ञा ठाकुर ने एक बार फिर भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दाल पतली करवा दी है। वह कहती है कि उसने शहीद उधमसिंह की देशभक्ति पर संदेह करने को गलत बताया है लेकिन भाजपा, कांग्रेस और द्रमुक के नेता मान रहे हैं कि उसने नाथूराम गोड़से की देशभक्ति को सराहा है। जब द्रमुक के सांसद ए. राजा ने उस संशोधन का विरोध किया, जो पूर्व प्रधानमंत्रियों और उनके परिजन को सिर्फ पांच साल तक ही सुरक्षा देने का प्रावधान करता है, तब उन्होंने कहा कि गोड़से तो 32 साल से गांधी को मारने की सोच रहा था। (इसलिए महत्वपूर्ण लोगों को आजीवन सुरक्षा मिलनी चाहिए)। इस पर प्रज्ञा ने कहा कि आप एक देशभक्त के लिए ऐसा नहीं कह सकते। यदि प्रज्ञा अब यह कहती है कि उसने ऐसा नहीं कहा तो तीन प्रश्न खड़े होते हैं। एक तो यह कि लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने प्रज्ञा के उस बयान को लोकसभा-कार्रवाई से बाहर क्यों निकलवाया ? और फिर रक्षा मंत्री राजनाथसिंह और भाजपा कार्यकारी अध्यक्ष जगतप्रकाश नड्डा ने उसकी भर्त्सना क्यों की ? तीसरा यह कि प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की सलाहकार समिति से क्यों बाहर निकाला गया ? जब प्रज्ञा ने ऐसी ही गलती अपने चुनाव के दौरान की थी, तब मैंने टीवी चैनलों पर कहा था और अखबारों में लिखा था कि उसकी उम्मीदवारी रद्द की जानी चाहिए लेकिन आश्चर्य है कि दिग्विजयसिंह-जैसे दिग्गज नेता को हराकर भोपाल के लोगों ने इस अनपढ़ लड़की को जिता दिया। उस समय भाजपा के नेताओं ने उसे डांट पिलाई लेकिन उसे कुछ अक्ल नहीं आई। हालांकि नरेंद्र मोदी ने उसके इस अपराध को अक्षम्य बताया लेकिन उसने संसद के पटल पर दुबारा यह दुस्साहस किया, इसका एक अर्थ भाजपा-विरोधी लोग यह भी लगाते हैं कि गोड़से के लिए अंदर ही अंदर भाजपा और संघ बहुत आदरपूर्ण हैं लेकिन अलोकप्रियता के डर से गांधी और सरदार पटेल की माला जपते रहते हैं। लेकिन प्रज्ञा में यह चतुराई नहीं है। वह गांव की लड़की है। इसीलिए वह सपाटबयानी कर देती है। यदि प्रज्ञा गोड़से और गांधी के बारे में खूब पढ़े और उन्हें समझने के बाद माफी मांग ले तो और बात है, वरना बेहतर तो यह होगा कि जैसे अदालत ने गोड़से को दुनिया से निकाल बाहर किया था, प्रज्ञा को भाजपा और संसद से बाहर कर दिया जाना चाहिए। www.drvaidik.in

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More National News
दिशा रेप-मर्डर केस के चारों आरोपी मुठभेड़ में ढेर: हैदराबाद पुलिस पोस्टमॉर्टम के बाद परिवार को सौंप देंगे आरोपियों के शव: हैदराबाद पुलिस NHRC ने हैदराबाद एनकाउंटर का स्वत: संज्ञान लिया, जांच के आदेश गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति के पास भेजी निर्भया कांड के दोषी की दया याचिका POCSO एक्ट में दया याचिका का प्रावधान खत्म हो: राष्ट्रपति कोविंद देश के पुरुषों की मानसिकता बदलने का काम होना चाहिए: मीनाक्षी लेखी हैदराबाद पुलिस ने जो किया वो सही किया: मीनाक्षी लेखी हैदराबाद एनकाउंटर पर उठे सवाल, पुलिस पर FIR दर्ज करने की मांग डॉ भीमराव आंबेडकर की पुण्यतिथि आज, पीएम मोदी और राष्ट्रपति कोविंद ने दी श्रद्धांजलि निर्भया की मां ने की हैदराबाद पुलिस की दरियादिली की तारीफ, कहा- बहुत शुक्रिया