Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
चंडीगढ़ के हरियाणा सचिवालय में केरोना से बचाव के लिए प्रवेश द्वार पर सेनेटाइजर टनल से ही एंट्री होगीगुरुग्राम व फरीदाबाद में श्रम विभाग के अधिकारियों से लिया फीडबैकहरियाणा प्रदेश लॉकडाउन में 1509 एफआईआर दर्ज की गई, 2151 लोग गिरफ्तार हुए हैं,और 6251 व्हीकल इंपाउंड किये गए:विजकश्मीर में कोरोना के 3 नए मामलों की पुष्टि, राज्य में अब तक 109 पॉजिटिव केसलॉकडाउन पर आज शाम 6 बजे होगी हाई पावर कमेटी की बैठकदुनियाभर में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 70 हजार के पारहम सब एक होकर काम करें: मनोहर लाल हरियाणा के मुख्यमंत्रीकोरोना के 1445 मरीज तबलीगी जमात से जुड़े: स्वास्थ्य मंत्रालय
National

इस सत्ता उलट-पुलट के अर्थ

November 27, 2019 11:52 AM

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

महाराष्ट्र में रातों-रात जो सत्ता-पलट हुआ था, वह अब सत्ता-उलट हो गया है। पहले अजित पवार का इस्तीफा हुआ। फिर देवेंद्र फड़नवीस का भी इस्तीफा हो गया। क्यों नहीं होता ? अजित पवार के उपमुख्यमंत्रिपद पर ही फड़नवीस का मुख्यमंत्री पद टिका हुआ था। फड़नवीस के इस्तीफे की वजह से अब विधान-सभा में शक्ति-परीक्षण की जरुरत नहीं होगी। सर्वोच्च न्यायालय ने शक्ति-परीक्षण का आदेश जारी करके अपनी निष्पक्षता जरुर सिद्ध कर दी है लेकिन क्या किसी लोकतंत्र के लिए यह शर्म की बात नहीं है कि 188 विधायकों को सिर्फ तीन जजों ने नाच नचा दिया ? अदालत ऊपर हो गई और जनता के प्रतिनिधि नीचे हो गए। महाराष्ट्र की विधानसभा में यदि शक्ति परीक्षण होता तो भाजपा की इज्जत पैंदे में बैठ जाती। इसीलिए इस्तीफा देकर फड़नवीस ने अच्छा किया लेकिन भाजपा को इस घटना ने जबर्दस्त धक्का लगा दिया है। शिव सेना, राकांपा और कांग्रेस के मुंबई में साथ आने का एक संदेश यह भी है कि दिल्ली की भाजपा सरकार के खिलाफ भारत की सभी पार्टियां एक होने में नहीं चूकेंगी। मोदी के लिए यह बड़ी चुनौती होगी। फड़नवीस और अजित पवार को जो आनन-फानन शपथ दिलाई गई थी, उससे प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, महाराष्ट्र के राज्यपाल और भाजपा अध्यक्ष की छवि भी विकृत हुए बिना नहीं रहेगी। यदि फड़नवीस की सरकार बन जाती तब भी उसका परिणाम यही होता। यदि सत्ता-पलट का यह क्षणिक नाटक नहीं होता और विपक्ष के ‘अप्राकृतिक’ गठबंधन की सरकार बन जाती तो फड़नवीस के प्रति महाराष्ट्र की सहानुभूति बढ़ जाती। अब विपक्ष का यह गठबंधन पहले से ज्यादा मजबूत हो गया है, हालांकि इसके आतंरिक अन्तर्विरोध इतने गहरे हैं कि यह पांच साल तक ठीक से चल पाएगा या नहीं, यह कहना अभी मुश्किल है। 

Have something to say? Post your comment