Sunday, December 15, 2019
Follow us on
Haryana

मिलर्स की बैठक में बड़े फैसले; रोकी चावल की डिलीवरी, पुलिस नहीं हटाई तो वापस करेंगे धान

November 22, 2019 06:27 AM


COURESTY BHASKER NOV22
सरकार v/s मिलर्स : राइस मिलों में धान की फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए टीमें गठित
कहा- वेरिफिकेशन से ऐतराज नहीं, पर अपराधी तो न बनाए सरकार

प्रदेशभर की राइस मिलों में धान की फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए प्रदेशभर में जहां सरकार ने जिले वाइज चंडीगढ़ से टीमें गठित की हैं। खास बात यह है इन टीमों का सुपरविजन भी दूसरे जिले के अधिकारियों को थमाया गया है। इस कार्रवाई से खफा प्रदेश के राइस मिलर्स ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।
गुरुवार को हरियाणा राइस मिलर्स एसोसिएशन की प्रदेश स्तरीय बैठक कुरुक्षेत्र के निजी होटल में हुई। बैठक में मिलों पर पहरा लगाने के विरोध में मिलर्स ने मिलिंग का काम बंद करने और सरकारी चावल लौटाने पर फिलहाल रोक लगाने का फैसला लिया। राइस मिलर्स मिलों में पुलिस की तैनाती का विरोध कर रहे हैं। इधर, मिलर्स का एक संगठन गुरुवार को सीएम से भी मिलने चंडीगढ़ पहुंचा। सरकार ने कैथल में 14 और कुरुक्षेत्र में 25 टीमें गठित की हैं। प्रदेश के सभी मिलों में फिजिकल वेरिफिकेशन आज से शुरू होगी।
प्रदेशभर की 1314 राइस मिल में 29 अधिकारी सुपरविजन के लिए तैनात
कुरुक्षेत्र . बैठक में मौजूद राइस मिलर्स।
प्रदेश की 1314 राइस मिल में 29 सुपरवाइजर भी किए तैनात
प्रदेशभर की 1314 राइस मिल में चंडीगढ़ हेडक्वार्टर से 136 अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। ये अधिकारी 29 अधिकारियों की टीम सुपरविजन में पीवी का काम देखेंगे। प्रत्येक टीम में एक अधिकारी डीसी नियुक्त करेंगे, जबकि मार्केटिंग बोर्ड और एक राइस मिलर प्रतिनिधि को शामिल किया जाएगा।
गड़बड़ी न हो, इसलिए दूसरे जिले के अधिकारी करेंगे जांच
राइस मिलों में फिजिकल वेरिफिकेशन में किसी तरह की गड़बड़ी न हो, इसलिए दूसरे जिले के अधिकारियों को सुपरविजन के लिए लगाया है। खाद्य-आपूर्ति विभाग का लोकल स्टाफ केवल सहयोग करेगा। पीवी की मुख्य कमान टीम के सुपरविजन के लिए गठित अधिकारी के पास होगी।
सरकार पर दबाव बनाने का प्रयास
मिलर्स बोले- पुलिस हटाकर आधी रात को चेकिंग करे, एतराज नहीं
राइस मिलर्स की प्रदेश स्तरीय बैठक रेलवे रोड स्थित होटल में हुई। एसोसिएशन ने पुलिस पहरा लगाने का विरोध जताया। हरियाणा राइस मिलर्स एसोसिएशन के चेयरमैन ज्वैल सिंगला ने कहा कि पीवी से मिलर्स को कोई ऐतराज नहीं है। सरकार चाहे तो आधी रात को चेकिंग करे, लेकिन अपराधियों और मिलर्स में कम से कम फर्क तो रखा जाए। मिलों पर पहरा लगाकर बिना वजह ही अपराधी बना दिया। उपप्रधान विनोद गोयल ने कहा कि मिलर्स सरकार को धान लौटाने को तैयार है। सरकार जगह बताए, दो दिनों में सारा धान लौटा दिया जाएगा, लेकिन इन हालातों में कोई भी मिलर कस्टम मिलिंग नहीं करना चाहता। कहा कि अगर पुलिस नहीं हटाई गई, तो राइस मिलर मिलिंग नहीं करेंगे

 
Have something to say? Post your comment