Monday, December 16, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
जामिया के छात्रों को मिला JNU का साथ, दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर नारेबाजीजामिया, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल कल बंद रहेंगेयूपीः CAA के खिलाफ AMU में प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने पुलिस पर पथराव कियाAMU में प्रदर्शन, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़ेसुरक्षा के मद्देनजर पटेल चौक, विश्वविद्यालय, जीटीबी नगर और शिवाजी स्टेडियम मेट्रो बंदअलीगढ़ में इंटरनेट सेवा कल रात 10 बजे तक बंदलंदन में आयोजित मिस वर्ल्ड ब्यूटी पेजेंट 2019 का खिताब जमैका की टोनी एन सिंह के नाम रहापहले वनडे में वेस्टइंडीज ने भारत को 8 विकेट से हराया
Haryana

ROHTAK- हार पर भाजपा वर्कर बोले-पटके पहनकर सैकड़ों नेता भाजपाई तो

November 22, 2019 06:21 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR NOV 22


बने, जमीनी काम नहीं किया, पुराने कार्यकर्ताओं की हुई अनदेखी
मंथन : विधानसभा चुनाव के एक महीने बाद भाजपा ने चाराें सीटों पर हार की समीक्षा की, कार्यकर्ताओं ने पटका गैंग को बताया जिम्मेदार

राेहतक जिले की चाराें विधानसभा सीटाें पर हार का मंथन करने के लिए चुनाव के बाद पहली बार भाजपा के पदाधिकारी जुटे। मंथन बैठक में हार का मुंह देखने वाले प्रत्याशियों के अलावा जिले के पदाधिकारियों ने भी अपनी बात रखी। बैठक में भाजपाइयों ने हार के कारण गिनवाते हुए खुलकर कहा कि चुनाव से पहले पार्षदों और सैकड़ों नेताओं में पटका पहनकर भाजपा में शामिल होने की होड़ सी लगी, लेकिन अधिकतर नेताअाें ने जमीनी स्तर पर काम नहीं किया। इनकी वजह से ही पुराने कार्यकर्ताओं की अनदेखी हुई। कार्यकर्ताओं को न तो नौकरियां मिली और न ही निजी काम हुए। नेताअाें की अधिकारियों पर पकड़ नहीं होने से कार्यकर्ताओं के काम नहीं हुए। इस वजह से भी हार का मुंह देखना पड़ा। अब 22 और 23 नवंबर को गुरुग्राम में प्रत्याशियों व पदाधिकारियों की बैठक में इन सब कारणों पर दोबारा समीक्षा की जाएगी।
बंद कमरे में 5 घंटे तक हुई बैठक में जानी मन की बात
दिल्ली बाइपास स्थित सर्किट हाउस में गुरुवार को दाेपहर 2 बजे भाजपा की समीक्षा बैठक हुई। हार के एक महीने बाद भाजपा ने समीक्षा बैठक बुलाकर अपने शक्ति केंद्र प्रमुख, पालक, मंडल अध्यक्षों, अन्य पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं से पांच घंटे तक अनुभव साझा किए। बैठक में बतौर प्रभारी गोविंद भारद्वाज व मुकेश गौड़ पहुंचे। बंद कमरे में हुई बैठक में वक्ताओं ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले एक पटका गैंग तैयार हो गया था। काेई भी पार्टी में आता और पटका पहन लेता, लेकिन इस पटका गैंग ने कभी भी जमीनी स्तर पर काम नहीं किया। इस गैंग की वजह से ही पुराने वर्करों को भी सम्मान नहीं मिल पाया। यह पटका गैंग सिर्फ मंच साझा करने तक ही सीमित रहा। यह आते और जनसभाओं में मंचों पर कब्जा कर लेते। इन्हें पुराने वर्करों से कोई लेना-देना नहीं था और प्रत्याशी भी इन्हें तवज्जो दे रहे थे। इसके चलते चुनाव में पिछड़ते चले गए। कुछ पार्षद पार्टी में बाहर से आकर भर्ती हुए उनकी ओर से भी जमीनी स्तर पर काम नहीं किया गया।
बैठक में पूर्व मंत्री ग्रोवर गिले-शिकवे पर क्षमा याचना मांग हुए भावुक, खरकड़ा बोले-मुझे अपनी कार्यशैली पर करना होगा मंथन
रोहतक विस : अधिकारियों पर दबाव नहीं बना सके ग्रोवर, पेयजल समस्या बनी रही
बीबी बतरा को वोट मिले : 50437 मनीष ग्रोवर को मिले : 47702 हार का अंतर : 2735
रोहतक विधानसभा में कार्यकर्ताओं ने पूर्व मंत्री मनीष ग्रोवर की हार के कई तरह के कारण गिनवाए। कहा कि पटका डालकर कुछ लोग पार्टी में आ तो गए, लेकिन वे मंचों पर ही सीमित रहे। इस दौरान पुराने कार्यकर्ताओं को उचित सम्मान भी नहीं मिल पाया। वहीं पुराने कार्यकर्ताओं के काम भी नहीं हो पाए। जनता कॉलोनी में पांच साल में पेयजल की समस्या ही हल नहीं हो पाई। ग्राेवर की ओर से अधिकारियों पर दबाव नहीं बनाया गया, जिससे कार्यकर्ताअों के काम नहीं हुए। वहीं मंत्री ने सभी से गिले-शिकवे को लेकर क्षमा याचना की और भावुक हाे गए। पहले भी कार्यकर्ताओं के साथ थे, आज भी कार्यकर्ताओं के साथ हूं। मैंने अपनी क्षमता के मुताबिक काम किए हैं। हार से निराश नहीं होना चाहिए।
गढ़ी-सांपला-किलोई विधानसभा : कुछ बड़े नेताअाें के रवैये ने हार की ओर धकेला
भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा को वोट मिले : 97755 सतीश नांदल को वोट मिले : 39443 हार का अंतर : 58312
गढ़ी-सांपला-किलोई में भी कार्यकर्ताओं ने काम न होने का रोना रोया और पुराने कार्यकर्ताओं को सम्मान न मिलने की बात कही। वहीं एक कार्यकर्ता ने तो पार्टी के उच्च पदस्थ बड़े नेताओं के बारे में कहा कि सरकार में कुछ नेताओं की अकड़ भी एक बड़ा कारण हार में मानी जानी चाहिए। इसकी वजह से उनके पास जब भी कार्यकर्ता जाते तो वे ठीक से बात भी नहीं करते थे। हालांकि इनका इशारा दूसरी विधानसभा के नेता की ओर था। ऐसे में इन सभी कारणों को भी हार में अहम बताकर बैठक में समीक्षा की गई। इस दौरान प्रत्याशी सतीश नांदल ने कहा कि राजनीति परिस्थितियों का खेल है। इसमें जनता ही जनार्दन होती है। जनता का फैसला सर माथे हैं।
सर्किट हाउस में राेहतक विधानसभा चुनाव काे लेकर भाजपा नेताओं के साथ समीक्षा बैठक करते गाेविंद भारद्धाज।
कलानौर विधानसभा : जिन्हें टिकट नहीं मिला, उन्हाेंने भितरघात किया, कईयों ने खुलकर विरोध भी किया
रामअवतार वाल्मीकि को वोट मिले : 51286 शकुंतला खटक को वोट मिले : 61935 हार का अंतर : 10649
कलानौर विधानसभा में 600 करोड़ के काम होने के बाद भी प्रत्याशी को जीत न मिलने पर कई पदाधिकारियों ने चिंता जताई। कार्यकर्ताओं ने कहा कि जिन टिकटार्थियों को टिकट नहीं मिला, उन्होंने प्रत्याशी का खुलकर विरोध किया। सीएम लॉबी के चंडीगढ़ से भेजे जाने वाले अधिकारी को प्रत्याशी न बनाने पर नाम लेकर विश्वासघात करने जैसी बातें उठाई गई। साथ ही कलानौर के एक प्रमुख नेता का नाम लेकर भी विरोध जताया। वहीं रामअवतार बाल्मीकि ने आगे भी पार्टी में रहकर काम करने की अपील की।
वर्कर्स का फीडबैक ठीक से मैनेज हो जाता तो कर जाते 75 पार : भारद्वाज
चार विधानसभाओं की समीक्षा करने के लिए पहुंचे प्रभारी गोविंद भारद्वाज ने पदाधिकारियों को कहा कि मैं दिनभर से सभी विधानसभाओं की समीक्षा बैठक ले रहा हूं। आप सभी की भावनाओं को 23 नवंबर की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में रखूंगा। इन बैठकों में कई गंभीर विषय आए हैं और कुछ ने व्यक्तिगत कारण भी गिनवाए हैं। इसमें जो बातें सीएम से या पार्टी से संबंधित हैं उन्हें बता दी जाएंगी। इस समीक्षा के जरिए यह जानने का प्रयास कर रहे हैं कि हम 75 पार जाने की सोच रहे थे तो हम 40 तक कैसे रुक गए। सरकार में कमी रही, हमें बेसिक फिगर नहीं मिला। चुनाव में 40 सीटें हम जीते और 37 पर दूसरे नंबर पर रहे। यानी 75 पार का आंकड़ा ठीक लेकर चले थे। यह गलत नहीं था। कार्यकर्ताओं का फीडबैक ठीक से मैनेज हो जाता तो यह 75 पार कर लेते।
महम विधानसभा : 365 में से 250 दिन बैठक की, काम पर ध्यान नहीं
बलराज कुंडू को वोट मिले : 49418 अानंद सिंह दांगी काे मिले : 37371 शमशेर खरकड़ा को मिले : 36106 हार का अंतर : 12047
महम विधानसभा की समीक्षा के दौरान कार्यकर्ताओं ने काम न होने और व्यवहार कुशलता को लेकर तमाम मुद्दों को उठाया। साथ ही एक कार्यकर्ता ने तो कहा कि पार्टी में 365 में से 250 दिन बैठकें ही चलती हैं। इसकी बजाय काम पर ध्यान देना चाहिए। वहीं प्रत्याशी शमशेर खरकड़ा ने बिना नाम लिए कहा कि राजनीति में यह गलत रिवाज हो गया है। मीठा बनकर चुगली करके आगे बढ़ने की सोचते हैं। इसके लिए आत्ममंथन की जरूरत है। मुझे तो यह मंथन करने की जरूरत है कि मैंने तीन चुनाव लड़े, 35 हजार वोट आजाद में आए, फिर लोकसभा में 39 हजार आए, फिर 42 हजार आए और अब 36 हजार आए। मेरी कार्यशैली में और काम करने के तरीके में जरूर कोई कमी रही है और इसका मैं मंथन कर रहा हूं। आत्मग्लानि से बड़ी सजा नहीं है। आज जरूरत है आगे संगठन को कैसे मजबूत कर सकते हैं, इस पर मंथन करने की।

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More Haryana News
पंचकूला जर्नलिस्ट क्लब की ओर से हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला का सम्मान समारोह आयोजित किया गया
पलवल जिला में हसनपुर के समीप यमुना नदी पर उत्तर प्रदेश को जोडऩे के लिए 110 करोड़ रुपए की लागत से पुल बनेगा:मनोहर लाल मनोहर लाल ने पूर्व केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री एवं करनाल लोकसभा क्षेत्र से दो बार सांसद रहे श्री आई.डी स्वामी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया दुष्यंत चौटाला 16 दिसम्बर को स्थानीय जींद-खानौरी बाईपास रोड स्थित जगदंबा इंपैक्स में कैथल राईस मिलिंग क्लस्टर का उद्घाटन करेंगे
सिवानी में दो कारों पर पलटा टैंकर, चार की मौत, छह गंभीर घायल
हरियाणा में बड़े स्तर पर कर्मचारियों के हुए तबादले
सरदार पटेल की 69वीं पुण्यतिथि आज, हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यन्त चौटाला ने दी श्रद्धांजलि
रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके भाजपा-जजपा सरकार पर निशाना साधा UP, Haryana agree to reinstall pillars on borders Voter ID card, passport prove citizenship: Court