Friday, January 24, 2020
Follow us on
National

महाराष्ट्र अधर में क्यों ?

November 21, 2019 12:24 PM

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव हुए एक माह बीत रहा है लेकिन अभी तक वहां कोई सरकार नहीं बनी है। देवेंद्र फड़नवीस कई दिनों तक गाड़ी धका रहे थे। देश के इतने प्रभावशाली प्रांत में यह गाड़ी कब तक धकेगी ? यह तो निश्चित ही लग रहा है कि जिन दो दलों को सबसे ज्यादा सीटें मिली हैं, वे सरकार नहीं बना रहे हैं याने महाराष्ट्र की जनता के अभिमत को तिलांजलि दे दी गई है। अब यदि कम सीटें मिलनेवाले दल राकांपा और कांग्रेस, शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाना चाहते हैं तो बना लें। ऐसा अप्राकृतिक सहवास पहले भी कनार्टक, उप्र और बिहार में कई दल कर चुके हैं। ये बात दूसरी है कि ऐसी बेढंगी सरकारें न तो पांच साल चल पाती हैं और जितने दिन भी टिकती हैं, उतने दिन भी वे ठीक से काम नहीं कर पाती हैं। अब शिव सेना के साथ सरकार बनाने में तीन समस्याएं हैं। पहली यह कि कांग्रेस अंदर घुसकर समर्थन दे या बाहर रहकर ? यदि वह सरकार में शामिल होती है तो उसकी अखिल भारतीय छवि चूर-चूर होती है। दूसरी यह कि तीनों पार्टियों के मुख्यमंत्री कितने-कितने माह अपने पद पर रहेंगे ? तीसरा, किस पार्टी को कौनसे मंत्रालय मिलेंगे ? इन मुद्दों पर खींचातानी जारी है। यह खींचातानी कब तक चलेगी, कुछ पता नहीं ! शिव सेना इस वक्त सबसे ज्यादा डरी हुई है। उसने अपने सारे विधायकों को एक होटल में बंधक बना लिया है। उसे डर लगने लगा है कि कहीं थोक में दल-बदल न हो जाए। शिव सेना के कई वरिष्ठ विधायकों को शुरु में ही यह बात खलने लगी थी कि उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य को मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है। ऐसी अनिश्चय की स्थिति में यदि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लंबा चल जाए तो कोई आश्चर्य नहीं है। अधर में लटके शासन से तो अच्छा है कि वह दिल्ली की खूंटी पर लटका रहे। हो सकता है कि भाजपा और राकांपा मिलकर सरकार बना लें। फिर भी सरकार न बने तो सबसे अच्छा विकल्प यह है कि महाराष्ट्र विधानसभा को भंग करके दुबारा चुनाव करवाया जाए।

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More National News
सावरकर को गलत तरीके से पेश करने की हो रही कोशिश, सेलुलर जेल में रहे थे बंदः उपराष्ट्रपति SCO की बैठक में हिस्सा लेने भारत नहीं आएंगे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खानः सूत्र CAA-NRC पर हो रहे विरोध के बीच बोले प्रणब मुखर्जी- भारतीय लोकतंत्र को परखा गया बार-बार करगिल युद्ध के हीरो लेफ्टिनेंट जनरल वाई. के. जोशी बनाए गए सेना की उत्तरी कमान के चीफ पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बोले- विरोध प्रदर्शन से लोकतंत्र की जड़ होगी मजबूत नालासोपारा हथियार मामला: महाराष्ट्र ATS ने पश्चिम बंगाल से प्रताप हजारा को किया गिरफ्तार सुभाष चंद्र बोस की जंयती पर देशभर में कांग्रेस करेगी आजाद हिंद फौज पर कार्यक्रम मुंबई: राज ठाकरे की अध्यक्षता में महाराष्ट्र नव निर्माण सेना का महाअधिवेशन आज मणिपुर: नागामपाल रिम्स रोड पर हुआ आईईडी ब्लास्ट केरल: RSS कार्यकर्ता प्रबेश पुलिस की टीम पर बम फेंकने के आरोप में गिरफ्तार