Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
चंडीगढ़ के हरियाणा सचिवालय में केरोना से बचाव के लिए प्रवेश द्वार पर सेनेटाइजर टनल से ही एंट्री होगीगुरुग्राम व फरीदाबाद में श्रम विभाग के अधिकारियों से लिया फीडबैकहरियाणा प्रदेश लॉकडाउन में 1509 एफआईआर दर्ज की गई, 2151 लोग गिरफ्तार हुए हैं,और 6251 व्हीकल इंपाउंड किये गए:विजकश्मीर में कोरोना के 3 नए मामलों की पुष्टि, राज्य में अब तक 109 पॉजिटिव केसलॉकडाउन पर आज शाम 6 बजे होगी हाई पावर कमेटी की बैठकदुनियाभर में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 70 हजार के पारहम सब एक होकर काम करें: मनोहर लाल हरियाणा के मुख्यमंत्रीकोरोना के 1445 मरीज तबलीगी जमात से जुड़े: स्वास्थ्य मंत्रालय
National

महाराष्ट्र अधर में क्यों ?

November 21, 2019 12:24 PM

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव हुए एक माह बीत रहा है लेकिन अभी तक वहां कोई सरकार नहीं बनी है। देवेंद्र फड़नवीस कई दिनों तक गाड़ी धका रहे थे। देश के इतने प्रभावशाली प्रांत में यह गाड़ी कब तक धकेगी ? यह तो निश्चित ही लग रहा है कि जिन दो दलों को सबसे ज्यादा सीटें मिली हैं, वे सरकार नहीं बना रहे हैं याने महाराष्ट्र की जनता के अभिमत को तिलांजलि दे दी गई है। अब यदि कम सीटें मिलनेवाले दल राकांपा और कांग्रेस, शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाना चाहते हैं तो बना लें। ऐसा अप्राकृतिक सहवास पहले भी कनार्टक, उप्र और बिहार में कई दल कर चुके हैं। ये बात दूसरी है कि ऐसी बेढंगी सरकारें न तो पांच साल चल पाती हैं और जितने दिन भी टिकती हैं, उतने दिन भी वे ठीक से काम नहीं कर पाती हैं। अब शिव सेना के साथ सरकार बनाने में तीन समस्याएं हैं। पहली यह कि कांग्रेस अंदर घुसकर समर्थन दे या बाहर रहकर ? यदि वह सरकार में शामिल होती है तो उसकी अखिल भारतीय छवि चूर-चूर होती है। दूसरी यह कि तीनों पार्टियों के मुख्यमंत्री कितने-कितने माह अपने पद पर रहेंगे ? तीसरा, किस पार्टी को कौनसे मंत्रालय मिलेंगे ? इन मुद्दों पर खींचातानी जारी है। यह खींचातानी कब तक चलेगी, कुछ पता नहीं ! शिव सेना इस वक्त सबसे ज्यादा डरी हुई है। उसने अपने सारे विधायकों को एक होटल में बंधक बना लिया है। उसे डर लगने लगा है कि कहीं थोक में दल-बदल न हो जाए। शिव सेना के कई वरिष्ठ विधायकों को शुरु में ही यह बात खलने लगी थी कि उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य को मुख्यमंत्री बनाया जा रहा है। ऐसी अनिश्चय की स्थिति में यदि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लंबा चल जाए तो कोई आश्चर्य नहीं है। अधर में लटके शासन से तो अच्छा है कि वह दिल्ली की खूंटी पर लटका रहे। हो सकता है कि भाजपा और राकांपा मिलकर सरकार बना लें। फिर भी सरकार न बने तो सबसे अच्छा विकल्प यह है कि महाराष्ट्र विधानसभा को भंग करके दुबारा चुनाव करवाया जाए।

Have something to say? Post your comment