Monday, December 16, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
National

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला बोले- महाराष्ट्र राज्यपाल का फैसला राजनीति से प्रेरित

November 12, 2019 05:09 PM

हरियाणा में लगातार बिगड़ती शासन व्यवस्था और कानून व्यवस्था को लेकर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता और कांग्रेस कार्य समिति के स्थाई आमंत्रित सदस्य रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है की प्रदेश में चुनाव परिणाम आये हुए 20 दिन बीत चुके हैं, लेकिन भाजपा-जजपा दल शासन व्यवस्था पर ध्यान न देकर मंत्रियों के विभागों के बटवारे में उलझे हैं और उन्हें जनता की दुःख-तकलीफ से कोई सरोकार नहीं है।

यहां जारी एक बयान में श्री सुरजेवाला ने कहा कि 24 अक्टूबर को चुनाव परिणाम आने के बाद से प्रदेश में किसी विभाग का कोई मंत्री न होने से पूरी तरह से उहापोह की स्थिति है, जनता के काम अटके पड़े हैं और उनकी कोई सुनने वाला है क्योंकि अधिकारी भी अनिश्चितता के इस दौर में दैनिक कार्यों में भी कोई रुचि नहीं ले रहे हैं। हैरत की बात है की भाजपा- जजपा की प्रदेश सरकार ने कुल 60 महीनों में से लगभग एक महीना केवल मंत्रियों के चयन, विभागों के बँटवारे में ही बिता दिया है।

श्री सुरजेवाला ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरीके से तहस-नहस हो चुकी है, हर रोज़ हत्या, अपहरण और अपराधों की खबर शांत हरियाणा की छवि को धूमिल कर रही है। प्रदेश सरकार के विभागों में ना कोई मुखिया है, ना ही कोई जिम्मेदारी है, ऐसे में शासन व्यवस्था पूरी तरह से पंगु हो चुकी है। जनता के दो तथाकथित रहनुमा अपने-अपने राजनीतिक हित साधने में लगे हुए हैं, लगता है उन्हें ना राज्य की चिंता ना ही क़ानून की रक्षा की चिंता। सवाल यह है की सत्ता और कुर्सी के आगे हरियाणा का हित कहाँ है ?

श्री सुरजेवाला ने याद दिलाया की हरियाणा के किसान का धान व बाजरा के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य भी नहीं मिला, पी.आर धान 1,835 रुपए प्रति क्विंटल की बजाय 1,650 रुपए में पीटा; इसी प्रकार 5,000 रुपए प्रति क्विंटल वाला 1121 धान 2,100 रुपए प्रति क्विंटल में पीटा। इसी प्रकार बेमौसमी बरसात से मंडी में ख़राब हो गया, सरकार ने न एक फूटी कौड़ी मुआवज़ा दिया और न ही पीड़ित किसानों की कोई खबर ली।

श्री सुरजेवाला ने कहा कि मंदी के कारण प्रदेश के उद्योगों और संस्थानों में तालाबंदी हो रही है, जिससे आये दिन पानीपत- गुडगाँव- फरीदाबाद जैसे शहरों से सैंकड़ों कामगारों व मजदूरों के बेरोजगार होने के समाचार छप रहे हैं । इसी प्रकार प्रदुषण के नाम पर 17 दिन से पानीपत में 500 से अधिक फ़ैक्टरी बंद, 4 लाख श्रमिक खाली रहे और 500 करोड़ का नुकसान हो गया पर प्रदेश सरकार इन सब जरूरी मामलों पर चुप्पी और बेरूखी बनाए हुए है। ट्रैफिक पुलिस ने एक बार फिर जनता पर हज़ारों रुपए के ट्रैफिक चालान करने शुरू कर दिए हैं, लेकिन चुनाव के बाद सत्ता में काबिज भाजपा- जजपा नेता जनता के सरोकारों से बिलकुल बेखबर बनी हुई है।

 
Have something to say? Post your comment