Monday, December 16, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
जामिया के छात्रों को मिला JNU का साथ, दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर नारेबाजीजामिया, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल कल बंद रहेंगेयूपीः CAA के खिलाफ AMU में प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने पुलिस पर पथराव कियाAMU में प्रदर्शन, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़ेसुरक्षा के मद्देनजर पटेल चौक, विश्वविद्यालय, जीटीबी नगर और शिवाजी स्टेडियम मेट्रो बंदअलीगढ़ में इंटरनेट सेवा कल रात 10 बजे तक बंदलंदन में आयोजित मिस वर्ल्ड ब्यूटी पेजेंट 2019 का खिताब जमैका की टोनी एन सिंह के नाम रहापहले वनडे में वेस्टइंडीज ने भारत को 8 विकेट से हराया
National

ये नेता नहीं, कुर्सीदास हैं

November 12, 2019 08:20 AM

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

भारतीय राजनीति के घोर अधःपतन का घिनौना रुप किसी को देखना हो तो वह आजकल के महाराष्ट्र को देखे। जो लोग अपने आप को नेता कहते हैं, वे क्या हैं ? वे सिर्फ कुर्सीदास हैं। कुर्सी के लिए वे किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं। शिव सेना-जैसी पार्टी कांग्रेस से हाथ मिलाकर सरकार बनाने के लिए उतावली हो गई है। बाल ठाकरे से लेकर आदित्य ठाकरे ने कांग्रेस की कब्र खोदने में कौन-कौन-सी कुल्हाड़ियां नहीं चलाई हैं, उस पर उन्होंने कितनी बार नहीं थूका है लेकिन अब उसी कांग्रेस के तलुवे चाटने को आज शिव सेना बेताब है। बालासाहब ठाकरे स्वर्ग में बैठे-बैठें अब क्या सोच रहे होंगे, अपने उत्तराधिकारियों के बारे में ? मुझे उनकी वह पुरानी भेंट-वार्ता अभी भी याद है, जिसमें उन्होंने साफ-साफ कहा था कि भाजपा और शिव सेना में से जिसे भी ज्यादा सीटें मिलेंगी, मुख्यमंत्री उसी पार्टी का बनेगा। इसमें विवाद करने की जरुरत ही नहीं है। अभी भाजपा को 105 और शिव सेना को उससे लगभग आधी (56) सीटें मिली हैं। फिर भी वह अड़ी हुई है, मुख्यमंत्री पद लेने के लिए। अब यदि वह राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (54) से गठबंधन कर लेती है तो भी उसकी सीटें सिर्फ 110 होंगी याने कांग्रेस (44) की खुशामद के बिना वह सरकार नहीं बना सकती। मैंने तीन दिन पहले लिखा था कि यदि शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस मिलकर सरकार बना लें तथा भाजपा बाहर बैठी रहे तो उक्त तीन पार्टियों का भट्ठा बैठे बिना नहीं रहेगा। कोई ईश्वरीय चमत्कार ही इस उटपटांग सरकार को पांच साल तक चला सकता है। उसके बाद जो भी चुनाव होंगे, उसमें महाराष्ट्र की जनता इस बेमेल खिचड़ी को उलट देगी। महाराष्ट्र ही नहीं, सारा देश यह नज्जारा देखकर चकित है। लोग यह समझ नहीं पा रहे हैं कि ये हमारे नेता हैं कि गिरगिटान हैं। उनके कोई आदर्श, कोई सिद्धांत, उनकी कोई नीति, कोई परंपरा, कोई मर्यादा भी होती है या नहीं ? यह बात सिर्फ शिव सेना पर ही लागू नहीं होती। भाजपा ने इस चुनाव में क्या किया है ? दर्जनों कांग्रेसियों को रातोंरात भाजपा में ले लिया है। उनमें से कुछ जीते भी हैं। वे कुर्सी के चक्कर में इधर आ फंसे। अब वे क्या करेंगे ? वे दल-बदल करने की स्थिति में भी नहीं हैं। वे मन-बदल पहले ही कर चुके। महाराष्ट्र में शिव सेना, राकांपा और कांग्रेस की सरकार चाहे बन ही जाए लेकिन उसे पता है कि केंद्र में भाजपा की सरकार है। वह क्या उसे चलने देगी ? पता नहीं, ये तीनों पार्टियां क्या सोचकर सांठ-गांठ कर रही हैं ?

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More National News
जामिया, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी, मदनपुर खादर क्षेत्र के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल कल बंद रहेंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री आई डी स्वामी का बीमारी के बाद निधन आज से फास्टैग सिस्टम लागू, नहीं लगाने पर देना होगा दोगुना टोल असमः डिबूगढ में आज शाम चार बजे तक कर्फ्यू में ढील पश्चिम बंगालः बैरकपुर से BJP के MP अर्जुन सिंह की कार पर हमला निर्भया गैंगरेप के 4 दोषियों को महिला दे सजा, अंतरराष्ट्रीय शूटर वर्तिका सिंह ने खून से लिखा पत्र तमिलनाडुः सरकार ने CBI को सौंपी IIT की छात्रा फातिमा लतीफ आत्महत्या केस की जांच असमः CM सर्बानंद सोनोवाल बोले- करेंगे प्रत्येक नागरिक के अधिकार की रक्षा Government extends FASTag deadline by a month ATMs go dry in Guwahati, chicken sells for ₹500/kg