Friday, November 15, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा के कैबिनेट मंत्रियों को मिले उनके सरकारी निवास स्थानपर्यावरण सकंट से निपटने के लिए पहल करें सीयूएच – डिप्टी सीएमडिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने वैज्ञानिकों को पर्यावरणीय चुनौतियों का समाधान खोजने के लिए किया प्रेरितलोकसभा के अध्यक्ष ओम बिड़ला कल विपक्षी दलों के नेताओं के साथ करेंगे बैठकIND vs BAN: भारत का 5वां विकेट गिरा, मयंक अग्रवाल 243 रन बनाकर आउटफेयरवेल कार्यक्रम में पहुंचे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, मीडिया से नहीं की बातइंदौर टेस्ट में मयंक अग्रवाल ने जड़ा दोहरा शतकराजस्थान के हेल्थ एंड फॅमिली वेलफेयर मंत्री ने "बाल दिवस" पर आयोजित "सुपर 30" की विशेष स्क्रीनिंग के दौरान बच्चों को किया संबोधित
 
Haryana

महाराष्ट्र संकट में अटका हरियाणा का मंत्रिमंडल विस्तार

November 08, 2019 05:33 AM

COURTESY DAINIK JAGRAN NOV 8
विधायकों के मंत्री बनने की घड़ी नजदीक

राब्यू, चंडीगढ़ : मंत्रिमंडल विस्तार में हो रही देरी से मंत्री बनने के तलबगार विधायकों की बेचैनी बढ़ रही है। मुख्यमंत्री अपनी नई टीम के नाम लगभग तय कर चुके हैं, जिन पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुहर लगनी बाकी है। मुख्यमंत्री अपनी टीम में जातीय संतुलन साधते हुए राज्य के चारों कोनों को प्रतिनिधित्व देंगे।
गुरु नानकदेव जी के 550वें प्रकाश उत्सव के उपलक्ष्य में 9 नवंबर को होने वाले कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी शामिल होंगे। यह समारोह पंजाब के करतारपुर साहिब स्थित डेरा बाबा नानक में होगा। इसके अगले दिन 10 नवंबर को कैबिनेट का गठन संभव है। तब तक प्रधानमंत्री व भाजपा अध्यक्ष के साथ कैबिनेट की नई टीम पर मंथन हो चुका होगा। छठी बार विधायक चुनकर आए अनिल विज और पूर्व स्पीकर कंवरपाल गुर्जर का मंत्री बनना तय है। विज और गुर्जर के मंत्री बनने के बाद कैबिनेट में किसी दूसरे पंजाबी व गुर्जर विधायक को जगह हासिल करने में खासी मशक्कत करनी पड़ेगी।

निर्दलियों को भी नाराज नहीं करना चाहती सरकार : भाजपा सूत्रों के अनुसार निर्दलीय विधायकों को कैबिनेट में शायद ही शामिल किया जाए। भाजपा नेतृत्व का मानना है कि यदि किसी एक निर्दलीय विधायक को मंत्री बनाया गया तो बाकी छह विधायक नाराज हो सकते हैं।

बिजेंद्र बंसल’नई दिल्ली
महाराष्ट्र के राजनीतिक संकट के बीच हरियाणा मंत्रिमंडल विस्तार भी अटका हुआ है। मुख्यमंत्री मनोहरलाल अपनी सरकार की नई मंत्रियों की सूची लेकर बुधवार को ही नई दिल्ली पहुंच गए थे मगर अभी तक इस पर भाजपा हाईकमान की मुहर नहीं लगी है। हालांकि बुधवार देर सायं भाजपा मुख्यालय में मुख्यमंत्री की पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और संगठन महामंत्री बीएल संतोष से मंत्रिमंडल के नए सदस्यों की बाबत चर्चा हो गई थी। मगर जब तक पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से उनकी मुलाकात नहीं होगी तब तक मंत्रिमंडल विस्तार की तारीख तय नहीं की जा सकती। गुरुवार को मुख्यमंत्री ने गुरुग्राम से नई दिल्ली लौटने के बाद हरियाणा भवन में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला और प्रदेश संगठन महामंत्री सुरेश भट्ट से भी बैठक की।

विधायकों के मंत्री बनने की घड़ी नजदीक

मंत्रिमंडल विस्तार की जल्दबाजी के हैं कई राजनीतिक कारण

सरकार के सहयोगी दल जजपा बेशक मंत्रिमंडल विस्तार के लिए जल्दबाजी नहीं दिखा रही है मगर कई अन्य राजनीतिक कारणों से मुख्यमंत्री मंत्रिमंडल विस्तार को अंतिम रूप देना चाहते हैं। सबसे बड़ा कारण तो यह है कि अगले सप्ताह अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक निर्णय आना तय है। ऐसे में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जरूरी है कि राज्य में मजबूत व स्थिर सरकार काम करे। भाजपा-जजपा के बीच

Have something to say? Post your comment
More Haryana News