Saturday, June 06, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हलके के सभी गांव जल्द होंगे लाल डोरा मुक्त - विधायक नैना चौटाला14 गांवों के युवाओं का जिम का सपना पूरा किया डिप्टी सीएम दुष्यंत नेराज्यमंत्री अनूप धानक ने हिसार में पुरातात्विक संग्रहालय-जहाज कोठी का निरीक्षण कियाधर्मिक स्थल, होटल और शॉपिंग मॉल खोलने का आदेश से 8 जून से लागू होगा: दुष्यंत चौटाला, हरियाणा के उपमुख्यमंत्रीशॉपिंग मॉल, मंदिर और होटल खोलने पर आज फैसला होगा, सीएम मनोहर लाल की अध्यक्षता में बैठक ख़त्मशॉपिंग मॉल, मंदिर और होटल खोलने पर आज फैसला होगा, सीएम मनोहर लाल की अध्यक्षता में बैठक जारीअभी फसलों की ख़रीद बंद ना करे सरकार, बचे हुए किसानों को दे और मौक़ा- भूपेंद्र सिंह हुड्डाडब्ल्यूएचओ ने मास्क पहनने को लेकर गाइडलाइन में किया बदलाव, सभी देशों को हिदायत जारी
International

लंदन में अकेला ‘दुश्मन

October 20, 2019 09:12 PM

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

लंदन में आजकल ‘ब्रेक्सिट’ यानि ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से ‘एक्सिट’ (निकलने) की धूम मची हुई है। नेता लोग एक-दूसरे पर प्रहार कर रहे हैं। बड़े-बड़े प्रदर्शन हो रहे हैं। जब 11 अक्तूबर को हम ब्रिटिश संसद भवन में आयोजित कार्यक्रम में गए थे तो सड़कें बंद थीं। लंबा चक्कर लगाना पड़ा था। अब भी हम लंदन के पिकेडिली सर्कस, बकिंघम पेलेस, हाइड पार्क और आक्सफोर्ड पर घूमे। 50 साल पहले भी जब मैं लंदन में रहता था, तब भी मैं इन सब स्थानों पर जाता रहता था लेकिन इस बार मुझे इन स्थानों पर अंग्रेजों की बजाय यूरोपीय एशियाई और अफ्रीकी लोग ज्यादा दिखे। भीड़-भाड़ भी ज्यादा रही। ज्यादातर विदेशियों को मैंने हाड़-तोड़ शारीरिक काम करते देखा। इस बार की यात्रा में अपने भारतीय मित्रों के अलावा नेपाली, भूटानी, श्रीलंकाई और पाकिस्तानी मित्रों के साथ जमकर भेंट हुई। पाकिस्तानी साथियों को मुझे बार-बार कश्मीर के बारे में संतुष्ट करना पड़ रहा था। जब मैं उन्हें बताता था कि कश्मीर के पूर्ण विलय से कश्मीरियों को क्या-क्या फायदे हैं और मेरे परम मित्र सत्यपाल मलिक (कश्मीर के राज्यपाल) कश्मीरी जनता की कितनी सक्रिय मदद कर रहे हैं तो वे शांत हो जाते थे। मुझे कुछ मित्र आग्रहपूर्वक एक पाकिस्तानी कवि सम्मेलन में ले गए। वहां पाकिस्तान के प्रसिद्ध शायर अमजद इस्लाम अमजद और अनवर मसूद का कलाम और सुल्ताना अंसारी का गायन सुना। प्रो. मसूद ने हंसा-हंसाकर श्रोताओं के पेट में बल डाल दिए। वहां पाकिस्तानी राजदूत और लंदन-निवासी बड़े-बड़े वकीलों, डाॅक्टरों, व्यापारियों और प्रोफेसरों से भी भेंट हुई। लगभग सभी कश्मीर के बारे में मुझसे पूछते रहे। मैंने कहा कि मैं दक्षिण एशियाई राष्ट्रों का महासंघ खड़ा करना चाहता हूं तो कई लोगों ने सहर्ष हिस्सेदारी का वायदा किया। कुछ प्रबुद्ध लोगों ने मेरा नाम सुना तो उन्हें आश्चर्य हुआ कि उस मुशायरे में कैसे आ गया ? पूरे सभागृह में यह अकेला दुश्मन कैसे आ गया ? लेकिन ‘दुश्मन’ ने पाया कि उसके साथ लोगों का बर्ताव अत्यंत सभ्य और विनम्र रहा। कहे कहे लगते रहे। कई लोगों ने पूछा कि क्या आप वही डाॅ. वैदिक हैं, जो लाहौर के लोकप्रिय अखबार ‘दुनिया’ में रोज उर्दू में लिखते हैं ? मेरे ‘हां’ कहने पर तारीफ का अंबार लग गया। लोग मेरी साफगोई का बखान करने लगे। मैंने उनसे कहा कि यह तो ‘दुनिया’ अखबार के संपादक कामरान खान और मलिक मियां आमेर महमूद की हिम्मत है कि वे एक हिंदुस्तानी बुद्धिजीवी के लेख बेझिझक छाप देते हैं।

Have something to say? Post your comment