Sunday, November 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
मुंबईः शिवसेना-कांग्रेस-NCP की राज्यपाल के साथ संयुक्त बैठक स्थगितकेरलः आज शाम खुलेंगे सबरीमाला मंदिर के पट, काफी संख्या में पहुंचे रहे श्रद्धालुगृह मंत्री अनिल विज⁩ ने अचानक पानीपत के पुलिस स्टेशन पर मारा छापा, एसएचओ समेत कई कर्मी मौके पर न मिलने पर दो को किया सस्पेंडजम्मू-कश्मीरः बारामूला के सोपोर इलाके में सुरक्षा बलों ने 5 संदिग्ध आतंकियों को दबोचाडिप्टी सीएम दुष्यन्त चौटाला को हाई कोर्ट से मिली राहत,डिप्टी सीएम मामले में दायर याचिका हाई कोर्ट ने खारिज कीदिल्ली: आर्थिक मंदी के खिलाफ 30 नवंबर को रामलीला मैदान में कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन दिल्ली: आर्थिक मंदी के खिलाफ 30 नवंबर को रामलीला मैदान में कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन बीजेपी नेता विजय गोयल बोले-दिल्ली में ऑड-ईवन पर दिल्ली सरकार नाटक कर रही थी
 
Delhi

CPCB की टास्क फोर्स ने शुक्रवार को मीटिंग कर दिए सुझाव प्रदूषण बढ़ने पर कंपनियों को सलाह, घर से कराएं काम

October 19, 2019 05:46 AM

COURTESY NAV BHARAT TIMES OCT 19

CPCB की टास्क फोर्स ने शुक्रवार को मीटिंग कर दिए सुझाव
प्रदूषण बढ़ने पर कंपनियों को सलाह, घर से कराएं काम

 

• विशेष संवाददाता, नई दिल्ली

 

दिल्ली एनसीआर की हवा प्रदूषित होती जा रही है। सीपीसीबी टास्क फोर्स ने शुक्रवार को मीटिंग की। इसमें दिल्ली-एनसीआर के कॉरपोरेट, आईटी सेक्टर और जहां भी संभव हो उन कंपनियों को अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम का सुझाव दिया है। इस कदम से काफी बड़ा असर पड़ेगा और सड़कों पर गाड़ियों की संख्या कम होगी। जहां यह सुझाव अमल में लाना संभव नहीं है, उन सेक्टरों को अपने कर्मचारियों को प्राइवेट गाड़ियों की बजाय पब्लिक ट्रांसपोर्ट या कार पूल कराने का सुझाव दिया है।

सीपीसीबी के अनुसार गाड़ियों से निकलने वाला धुंआ सर्दियों में प्रदूषण की बड़ी वजह है। ऐसे में इन्हें कम करने पर फोकस है। ऐसे में सरकारी दफ्तरों और जहां वर्क फ्रॉम होम नहीं दिया जा सकता, वहां कर्मचारियों को कार पूर करने और पब्लिक ट्रांसपोर्ट के इस्तेमाल की सलाह दी जा रही है। सीपीसीबी के मेंबर सेकेट्री प्रशांत गार्गव ने बताया कि इसके अलावा हमने स्कूलों को भी सलाह दी है कि वे बच्चों के लिए पर्याप्त बसों का इंतजाम करें, ताकि उन्हें लाने और छोड़ने के लिए अभिभावक प्राइवेट गाड़ियों का इस्तेमाल न करें। सर्दियों के दौरान ये कदम उठाने पर प्रदूषण को रोकने में मदद मिलेगी।

सीपीसीबी के एयर बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 248, फरीदाबाद का 214, गाजियाबाद का 270, ग्रेटर नोएडा का 222, गुड़गांव का 258 और नोएडा का 243 रहा। सफर के मुताबिक वेस्टर्न डिस्टरबेंस की वजह से हवाओं की स्पीड बढ़ी है, जिसकी वजह से प्रदूषण कम हुआ है। लेकिन शनिवार शाम से यह दोबारा बढ़ना शुरू हो जाएगा। 23 अक्टूबर तक प्रदूषण का स्तर खराब या बेहद खराब स्तर पर रहेगा।

सीपीसीबी की 46 टीमें इस बार दिल्ली व इससे लगते शहरों के अलावा पहली बार सोनीपत, मेरठ और रोहतक में भी जाकर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। अभी तक ये टीमें विभिन्न एजेंसियों को कुल 689 शिकायतें भेज चुकी हैं। जिसमें दिल्ली की बात करें तो सबसे ज्यादा शिकायतें नॉर्थ ईस्ट, नॉर्थ वेस्ट, ईस्ट और वेस्ट दिल्ली की हैं। जबकि सबसे अधिक शिकायतें कंस्ट्रक्शन एंड डिमॉलिशन वेस्ट, खुले में कूड़ा, सड़कों की धूल और गड्ढों से जुड़ी हैं।

Have something to say? Post your comment
More Delhi News
दिल्ली: आर्थिक मंदी के खिलाफ 30 नवंबर को रामलीला मैदान में कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन दिल्ली: आर्थिक मंदी के खिलाफ 30 नवंबर को रामलीला मैदान में कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन दिल्ली में स्मॉग की चादर, वजीरपुर में AQI 437, मुंडका में AQI 458 फेयरवेल कार्यक्रम में पहुंचे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, मीडिया से नहीं की बात दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण जारी हरियाणा में कम लेकिन पंजाब में ज्यादा पराली जलाई जा रही है: अरविंद केजरीवाल दिल्ली में ऑड-ईवन का आज आखिरी दिन, स्कीम को आगे बढ़ाने के आसार दिल्ली:हरियाणा भवन में निर्दलीय विधायको की बैठक जारी सोनिया गांधी के आवास पर आज कांग्रेस की बैठक, महाराष्ट्र पर होगी चर्चा दिल्लीः महाराष्ट्र में सरकार गठन पर कांग्रेस नेताओं का मंथन, सोनिया गांधी भी मौजूद