Sunday, September 22, 2019
Follow us on
 
Haryana

पिछड़ा वर्ग भाजपा शासन में हुआ राजनीतिक उपेक्षा व आर्थिक शोषण का शिकार – सुरजेवाला

September 08, 2019 09:02 PM

अखिल भारतीय कांग्रेस कोर कमेटी के सदस्य, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी व विधायक रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कांग्रेस के सत्ता में आने पर पिछड़े वर्गों के लिए पार्टी की भावी कल्याणकारी योजनाओं की घोषणा कर दी है। कैथल में आयोजित पिछड़ा वर्ग हुंकार सम्मेलन में उमड़ी भारी भीड़ के बीच सुरजेवाला ने कहा कि पार्टी सत्ता में आते ही इन वर्गों के लिए राजपत्रित यानि प्रथम व द्वितीय श्रेणी के पदों पर भी इन वर्गों के लिए 27 % आरक्षण करेंगे।


कांग्रेस मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि पेट और पीठ एक करके मेहनतकश समाज पिछड़ा वर्ग मोदी और खट्टर सरकार ने अन्याय के साथ साथ घोर भेदभाव और अत्याचार सबसे ज्यादा किया है।

केंद्र की मोदी और प्रांत की खट्टर सरकार पर प्रहार करते हुए सुरजेवाला ने कहा कि पिछड़ा वर्ग के कल्याणकारी नीतियों और रोजगार के लिए कांग्रेस सरकार द्वारा बनाए गए पिछड़ा वर्ग आयोग और कानून को सत्ता के हुक्मरान भाजपा सरकार ने खत्म कर दिया। कांग्रेस सरकार द्वारा नौकरियो की भर्ती के लिए दिए जाने वाले बैकवर्ड क्लास के बैकलॉग को भी मोदी सरकार ने खत्म कर दिया और ना ही कोई नई स्कीम प्रदान की है। उन्होंने कहा कि वोट लेने के समय तो भाजपा के नेता बैकवर्ड के लोगों का इस्तेमाल कर लेते हैं लेकिन गरीबों की स्कीमों और भलाई के समय पीछे हट जाते हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि 26 जनवरी 1952 से आज तक केवल कांग्रेस पार्टी ने ही पिछड़ा वर्गों को आगे बढाने के लिए आरक्षण का अधिकार दिया। साल 1952 में कांग्रेस सरकार ने पिछड़ा वर्ग को 2 प्रतिशत आरक्षण दिया जो साल 1980 तक चला। फिर साल 1980-81 में कांग्रेस की सरकार ने उसे 10 प्रतिशत तक बढ़ाकर श्रेणी 1,2,3 और 4 तक देने का फैसला किया। साल 1995-96 में कांग्रेस की सरकार ने अखिल भारतीय किसान खेत मजदूर के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमशेर सिंह सुरजेवाला की अध्यक्षता में पिछड़ा मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू करके बैकवर्ड ए में 16% और बैकवर्ड बी में 11% आरक्षण व क्लास 3 व 4 में 27 प्रतिशत आरक्षण निर्धारित किया। उसके बाद साल 2005 में फिर कांग्रेस की सरकार आई। फिर कांग्रेस ने मेरी अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई तो साल 2013-14 में श्रेणी 1 और श्रेणी 2 में 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत के आरक्षण का प्रावधान किया।

सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस के चुनावी घोषणा पत्र में बैकवर्ड की श्रेणी 1,2,3 और 4 में 27 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया जायेगा। नए सिरे से कानून लिखेंगे और हर किसी की तकदीर लिखेंगे। खट्टर सरकार का काम है नौकरी से हटाना और कांग्रेस का काम है रोजगार देना। कांग्रेस की सरकार बनते ही बैकवर्ड के बैकलॉग भरकर दिखाए जाएंगे। एचएसएससी और पीएसएससी की कमेटी में एक एससी और एक बैकवर्ड के सदस्य को शामिल करने का काम किया जाएगा। हरियाणा पिछड़ा वर्ग कल्याण व उत्थान आयोग का गठन कर हर साल उसे 1500 करोड़ की वित्तीय सहायता देंगे यानि पांच साल में 7500 करोड़ रु। उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग निगम में माटी कला बोर्ड, केसकला बोर्ड, लकड़ी कला बोर्ड, धातु कला बोर्ड, कपड़ा कला बोर्ड और आभूषण कला बोर्ड बनाकर शामिल किए जाएंगे। कांग्रेस की सरकार बनते ही पिछड़ा वर्ग निगम में पहले बजट में 500 करोड़ रु दिए जाएंगे। मिट्टी कला बोर्ड के तहत मिट्टी के बर्तन बनाने वाले को 3 महीने की ट्रेनिंग देकर उन्हें 5 लाख रु तक 4 प्रतिशत ब्याज पर बिना कोई गारंटी लोन देंगे। पिछड़ा वर्ग के जो मेधावी विद्यार्थी एमबीबीएस, आईआईटी, आईआईएम आदि संस्थानों में भर्ती करेंगे और उनकी 25 प्रतिशत से 50 प्रतिशत फीस इस आयोग के माध्यम से हरियाणा सरकार देगी। जिस गांव में प्रजापत समाज के 100 घर होंगे वहां मिट्टी के लिए 1 एकड़ से 2 एकड़ जमीन खरीदकर दी जाएगी। नाई समाज, लकड़ी का काम करने वालों के लिए 3 महीने की ट्रेनिंग के साथ साथ 4 प्रतिशत की ब्याज पर 5 लाख रु तक का लोन और धातु कला उधोग के तहत आभूषण बनाने का काम करने वालों को 4 प्रतिशत ब्याज पर 5 लाख से 10 लाख रु तक का बिना किसी गारंटी के लोन दिया जाएगा।


सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा ने पिछड़े वर्ग को हमेशा अपने सता के हितों को साधने के लिए सीढ़ी की तरह इस्तेमाल तो किया मगर सता हासिल करने के बाद उनके सामाजिक शैक्षणिक, राजनैतिक और आर्थिक हितों का तिरस्कार ही किया है, उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने हमेशा ही बैकवर्ड समाज को न सता में भागीदारी दी, और ना ही प्रशासन में जिम्मेदारी दी। सता के नशे में मदमस्त भाजपा ने पिछड़े वर्ग को अगर कुछ दिया है तो वो है सिर्फ और सिर्फ धोखा।

सुरजेवाला ने कहा कि भाजपाई सदैव गरीबों के आरक्षण के खिलाफ रहे हैं। बैकवर्ड क्लास / शेड्यूल कास्ट आरक्षण समाप्त करने की भाजपाई साजिश का सच अब खुलकर सामने आ चुका है। पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एजेंडा तय करता है और भाजपा की सरकार इसे लागू करती है। अब फिर आरक्षण से छेड़छाड़ कर इसे खत्म करना भाजपा का षड्यंत्रकारी एजेंडा है। उन्होंने कहा कि 19 अगस्त, 2019 को तो हद्द ही हो गयी जब आरएसएस प्रमुख, श्री मोहन भागवत ने आरक्षण पर बहस करने की तथा आरक्षण विरोधियों को न्यौता देकर चर्चा करने की कवायद तक कर डाली। भारत सरकार में पिछड़ा वर्गों के आरक्षण पर हो वार रहा है। अगर देखा जाए तो पिछड़ा वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण का अधिकार है लेकिन हकीकत में उन्हें मिल रहा है सिर्फ 21.5% यानी भाजपा सरकार 5.5% आरक्षण ही खा गई। क्या भाजपाई जवाब देंगे? उन्होएँ कहा कि बैकवर्ड क्लास श्रेणी में 1,80,000 नौकरियां भारत सरकार में खाली पडी हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि भारत सरकार के 78 मंत्रालयों और विभागों में 32.57 लाख नौकरियाँ है| इनमें 27% आरक्षण के हिसाब से 8,80,000 नौकरियाँ मिलनी चाहिए, पर मिली है मात्र 7,00,000 ही। पिछड़ा वर्ग के 1,80,000 खाली पद क्यों नहीं भर रही है भाजपा सरकार? उन्होंने कहा कि भाजपा का पिछड़ा वर्ग से भेदभाव का इससे बड़ा उदाहरण क्या हो सकता है कि देश चलाने वाले 89 सचिवों में से एक भी बैकवर्ड समाज से नहीं है। मोदी मंत्रिमंडल में भी बैकवर्ड क्लास-ए श्रेणी का कोई मंत्री नहीं और भाजपा के केंद्रीय मंत्रिमंडल में भी बैकवर्ड क्लास-ए श्रेणी का कोई मंत्री नहीं। उन्होंने कहा कि ठीक इसी तर्ज पर हरियाणा की खट्टर सरकार में भी बैकवर्ड क्लास- ए श्रेणी का कोई मंत्री नहीं। खट्टर सरकार ने पाँच वर्षों में बैकवर्ड क्लास–ए श्रेणी से न कोई कैबिनेट मंत्री बनाया और न ही राज्यमंत्री। बैकवर्ड क्लास – A श्रेणी का बोर्ड / कॉर्पोरेशन का चेयरमैन नहीं पाँच साल में खट्टर सरकार ने बैकवर्ड क्लास – A श्रेणी से किसी व्यक्ति को बोर्ड कॉर्पोरेशन का चेयरमैन नहीं बनाया। खट्टर सरकार ने बैकवर्ड क्लास – A श्रेणी के किसी व्यक्ति को हरियाणा लोक सेवा आयोग (HPSC) का या हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (HSSC) का मेंबर नहीं बनाया।
उन्होंने कहा कि वोट लेने के लिए पिछड़ा वर्ग, परंतु ताकत देने के लिए पिछड़ा वर्गों की अनदेखी

उन्होंने कहा कि हम पूछना चाहते हैं भाजपा और इनैलो से साल 1977 से 1980 में भाजपा व इनैलो, साल 1987 से 91 में भाजपा व इनैलो, साल 1996 से 1999 में भाजपा व हवीपा, 1999 से 2005 तक भाजपा व इनैलो और अब साल 2014 से 2019 अब तक भाजपा सत्ता में रही।

सुरजेवाला ने कहा कि हरियाणा के 50 साल के इतिहास में साढ़े 21 साल भाजपा और उनकी सहयोगी इनैलो पार्टी व दिल्ली में 17 साल भाजपा सत्ता में रही लेकिन इन्होने पिछड़ा वर्ग के कल्याण और आरक्षण के लिए कोई काम नहीं किया। जवाब बड़ा सीधा है क्योंकि भाजपा- इनैलो सिर्फ बात करती हैं और कांग्रेस सिर्फ काम। इस अवसर पर जगदीश मंडोलीवाला, सतबीर भाणा, नगर परिषद् चेयरपर्सन सीमा कश्यप, सुरेश कश्यप, बहादुर सैनी, प्रधान सुरेन्द्र जांगड़ा, रणबीर गुर्जर सरपंच, नाथी राम प्रजापति, नाजर दयोहरा, बिल्लू सैनी पार्षद, जोगिन्द्र सैनी, धर्मबीर सैनी, राजेश सैनी सजुमा, राजेश बिट्टू पूर्व पार्षद, ओम प्रकाश सैन, संदीप सैनी रामजी, बलबीर प्रजापति, सुरेश सैनी, देवीदयाल वर्मा, बलबीर सैनी, बालकिशन रैह्बारी, रामली/शामली,बलराज कश्यप, जसबीर गुर्जर, धर्मा कश्यप, रामसरूप जांगड़ा, जयदेव धीमान, डॉ रामभगत वर्मा, रिंकू पांचाल, प्रेमी श्रवण, सुभाष सैनी, जयपाल गुर्जर पूर्व पार्षद, जगदेव रैह्बारी, हवा सिंह रैह्बारी, पाला राम मानस, जगदीश गुहणा, माईचन्द क्योडक, ओमप्रकाश प्रजापति, श्याम सैनी, पुष्पेन्द्र क्योड़क, संतोष कश्यप, सतपाल कश्यप, अनिल गुर्जर, बलबीर गुर्जर, शमशेर कठवाड़, सुरेश सैन, मेजर सैन, लक्ष्मण प्रजापति, संजीव भट्ट, अजय भट्ट राम धीमान, रमेश पांचाल, विजय सैनी, सुरेश गिरी, मदन रैहबारी, भगवाना रैहबारी, रमेश भट्ट, रमेश पांचाल , ओमप्रकाश माटा व अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
आप ने घोषित की 22 उम्मीदवारों की पहली सूची, हुड्डा की सीट गढ़ी सांपला किलोई में मुनीपाल अत्री देंगे टक्कर
Vikas’ pitch works but that is not NCR districts’ only concern Hooda’s main challenge is to save his bastion from BJP BJP Counts On Turncoats Opposition in Haryana deeply bruised, but a confident BJP eyes an easy win क्लर्क भर्ती का पेपर देने पहुंचे 12 हजार, शहर सेे निकलने में लगे 2 घंटे, फिर टोल पर फंसे बिना प्लान-शहर जाम : आज और कल दो शिफ्टों में होंगी परीक्षाएं, व्यवस्था बनाना फिर चुनौती HARYANA - PVT SCHOOLS-इंश्योरेंस नहीं ताे मान्यता हो सकती है रद्द फेस ऑफ द डे मनोहरलाल खट्‌टर 5 साल सरकार के पूरे, सीएम के चारों और घूमेगा चुनाव SONIPAT-जुगाड़ का शुभारंभ - 2 घंटे बाद लगनी थी आचार संहिता इसलिए ईंटें रख फोड़ दिया नारियल भाजपा को मिला चेहरा, गिनाने को काम, कांग्रेस में सिर्फ नेतृत्व बदला, गुटबाजी बरकरार, इनेलो टूटी, जजपा का जन्म