Wednesday, September 18, 2019
Follow us on
 
National

सुप्रीम कोर्ट की सरकारी खर्चों पर नसीहत

September 08, 2019 10:10 AM

सुप्रीम कोर्ट की सरकारी खर्चों पर नसीहत

 

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार की काफी खिंचाई की, जिसमें उन्होंने दिल्ली सरकार द्वारा मैट्रो में औरतों को मुफ्त यात्रा के प्रस्ताव के वित्तीय पहलुओं को मद्देनजर रखते न केवल सरकार को अपने खर्चों पर अंकुश रखने को कहा, अपितु सार्वजनिक वित को इस प्रकार लुटाने से भी रोका तथा दिल्ली सरकार में मुख्यमंत्री केजरीवाल को हिदायत दी कि वो न्यायालय को कमजोर न समझे कि न्यायालय उन्हें ऐसा करने से रोक नहीं सकता। सरकारें कितना लापरवाह तथा अनुत्पादकीय खर्चों में वृद्धि करती जा रही है, यह वर्तमान सार्वजनिक वित व्यवस्था से देखा जा सकता है। इधर, चुनाव से पूर्व, क्योंकि फिर चुनाव संहिता लग जायेगी, सरकारें किस कदर करोड़ों रुपये जनसभाओं तथा मुख्यमंत्री के चेहरे वाले असंख्य विज्ञापनों पर पैसा पानी की तरह बहा रही है। आज विद्यमान सरकारें, आने वाले चुनावों से पहले अपनी छवि लोकप्रिय बनाने के लिये जनहित के नाम पर, करदाताओं के पैसों को, फ्री बायस या मुफ्त सुविधाओं को प्रदान करने पर खर्च करती रहती हैं, जिनमें भ्रष्टता का बोलबाला होता है। अन्तिम व्यक्ति तथा जिसको ये मुफ्त सुविधायें मिलनी चाहिये, वहां तक तो पहुंचती ही नही हैं। सरकारें आजकल उत्पादकीय कार्यों पर तो खर्च करती ही नहीं है, उनका ज्यादा खर्च तो स्वयं पर, सरकार की भारी भरकम व्यवस्था को चलाने में ही हो जाता है, बाकी थोड़ा सा चुनावी लुभावने मनमोहक प्रस्तावों के विज्ञापनों तथा जनता में मुफ्तखोरी की आदत बनाने में चला जाता है।

सरकारें, कर्मचारी जोकि दिन-रात कार्य करते हैं, मेहनत करते हैं, अपनी जवानी का समय व पसीना अपनी नौकरी करने में बहाते हैं, उनकी तो पेंशन बंद कर दी गई है, पर सामाजिक न्याय के नाम पर असंख्य तरह की पेंशनें शुरू कर दी गई हैं, जैसे अखबार नवीसो के लिये सम्मान पेंशन, हिन्दी आन्दोलन करने वालों के लिये पेंशन, आदि। सरकार यदि कर बढ़ाती है तो उसपर सबका ध्यान जाता है, जनता जागरूक रहती है, पर सरकारें करदाता के पैसे का कैसे खर्च करती है, इस पर लोग ज्यादा प्रश्न नहीं उठाते, जबकि पब्लिक वित्त व्यवस्था में आय जितनी महत्वपूर्ण होती है, व्यय उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि सरकारें पहले अपने खर्चों का अनुमान व बजट बनाती हैं, उसे पूरा करने के लिये करों तथा अन्य टैक्स के रूप में आय उपार्जित करती हैं। निजीकरण और उदारीकरण के इस दौर में सरकार निवेश, रोजगार तथा उत्पादन के लिये निजी क्षेत्र को जिम्मेवार ठहरा रही हैं, पर जब सरकारें कोई उत्पादकीय कार्य नहीं कर रही हैं तो उनके आकार तथा उनके खर्चों में तो कटौती होनी चाहिये। न अब सरकारें सड़कें बनाती हैं, न स्कूल खोलती हैं, न अस्पताल बढ़ रहे हैं, सब कुछ निजी क्षेत्र को सौंपा जा रहा है, पर सरकारों के खर्चों में कोई कमी नहीं आ रही। जिम्मेवारियां घटाकर अन्य प्रकार के फिजूल के खर्चों में वृद्धि करती जा रही हैं। आज सरकार हर कार्य के लिये हर नये कार्यक्रम के लिये नया कर लगाती है, स्वच्छ भारत अभियान हो या शिक्षा के लिये प्रावधान हो, सबके लिये पृथक टैक्स या सैस लगाये जा रहे हैं, जनता पर सरकारी भारी व्यवस्था का बोझ लगातार बढ़ रहा है, जबकि भारत जैसे देश में उद्योगपति, नियोक्ता या बड़े-बड़े उद्यमी, इतने उदारवादी नहीं हैं कि वे ये उद्योग धंधे पब्लिक के लिये चलाते हैं। उनकी मुनाफाखोरी तथा कर्मचारियों का शोषण किसी से छिपा नहीं है। सामाजिक न्याय तथा जनहित के कार्यक्रमों की अपेक्षा, उनका धन दिखावे के लिये जैसेकि मंहगी-मंहगी शादियां तथा अपने लिये बड़ी-बड़ी अट्टालिकाओं के निर्माण तथा विलासितापूर्ण चीजों में ज्यादा खर्च करते हैं। ऐसे में सरकारों से उम्मीद करना कि वे अपना खर्च किफायत तथा उत्पादकीय कार्यों में करेंगे, मूर्खता ही समझी जायेगी। दिल्ली सरकार का मैट्रो पर स्त्रियों को मुफ्त यात्रा के प्रावधान का प्रस्ताव, सामाजिक न्याय तथा समानता के अवसर बढ़ाने की तरफ कदम हो भी सकता है, लोकलुभावन पापुलिस्ट कदम कहा जा सकता है, पर सरकारों द्वारा किये जाने वाले अनुत्पादकीय खर्चे तथा करदाताओं के पैसे को फिजूल, निमर्म ढंग से बहाया जाना चिंता का विषय है। जागरूक नागरिक को उस पर प्रश्नचिन्ह लगाना चाहिये कि कैसे मंत्री, संतरी, अफसर के अगाड़ी और पिछाड़ी चलने वालों पर कैसे और कितना खर्च किया जाता है।

अर्थव्यवस्था इस समय, जिस मंदी के हालात से गुजर रही है, बाजार गोते खा रहा है, रोजगार अवसर उपलब्ध नहीं है, बेरोजगारों की कतारें दिन-प्रतिदिन लम्बी होती जा रही है, ऐसे में सरकारों की नैतिक जिम्मेदारी भी बनती है कि वे अपने अनुत्पादकीय खर्च घटाकर, उत्पादकीय निवेश करें, जिससे अर्थव्यवस्था कुछ चुस्ती की गति पकड़े। अंत में, दुष्यंत कुमार की ये पंक्तियां -

‘‘चाहे जो भी फसल उगा ले, तू जलधार बहाता चल,

जिसका भी घर चमक उठे, तु मुफ्त प्रकाश लुटाता चल,

रोक नहीं अपने अंतर का वेग, किसी आशंका में,

मन में उठे भाव जो, उनको गीता बनाकर गाता चल।’’

        डा0 क. कली

 

Have something to say? Post your comment
More National News
कल सुबह 10.30 बजे केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक कल सुबह 10.30 बजे केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक NOW single male parents include unmarried or widower or divorce CENTRAL GOVT employees entitles for child care leave गांधीनगरः जन्मदिन के मौके पर अपनी मां का आशीर्वाद लेने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी PM नरेंद्र मोदीः नर्मदा के जल की वजह से सिंचाई की व्यवस्था बढ़ी PM नरेंद्र मोदीः स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देखने 11 महीने में 23 लाख लोग आए PM नरेंद्र मोदीः पर्यटन से जुड़े दूसरे प्रोजेक्ट जल्द पूरे होंगे और रोजगार के अवसर बढ़ेंगे अमित शाहः पिछली सरकार में PM को कोई प्रधानमंत्री ही नहीं मानता था, घोर निराशा का माहौल था अमित शाहः सरदार पटेल के फैसले की वजह से आज के ही दिन भारत के साथ आया हैदराबाद पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने दी PM नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की शुभकामना