Saturday, September 21, 2019
Follow us on
 
National

नोटबंदी व जी.एस.टी. को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री के रूप में याद रहेगा अरुण जेटली

August 24, 2019 02:54 PM

चंडीगढ़ :- पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन से निश्चित तौर पर न केवल उनकी पार्टी ने बल्कि राष्ट्र ने एक कानूनविद राजनीतिज्ञ खो दिया है। 8 नवंबर, 2016 को देश में हुई नोटबन्दी और जुलाई, 2017 से देश में लागू की गयी जी.एस.टी. कर व्यवस्था लागू होने के दौरान देश का वित्त मंत्री होने के कारण इतिहास में उन्हें हमेशा याद किया जाता रहेगा। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने बताया कि वर्तमान में जेटली राज्य सभा के अपने चौथे कार्यकाल में थे एवं उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहे थे जहाँ से वह अप्रैल, 2018 में छः वर्ष के लिए निर्वाचित हुए थे। सुप्रीम कोर्ट में कामयाब वकील होने के साथ साथ 20 वर्ष के सक्रिय राजनैतिक जीवन में उन्होंने देश के राजनीतिक गलियारों में अपनी विशिष्ट पहचान बनायीं।अक्टूबर,1999 में जब अटल बिहारी वाजपेयी तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने, तब उन्होंने जेटली को पहली बार अपने मंत्रिमंडल में लिया था। इसके बाद वह वर्ष 2009 से 2014 तक राज्य सभा में विपक्ष के नेता रहे। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वह वित्त मंत्रालय के साथ साथ कुछ समय तक देश के रक्षा मंत्री के पद पर भी रहे।

Have something to say? Post your comment
More National News
हरियाणा और महाराष्ट्र में आचार संहिता लागू हुई नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख 7 अक्टूबर: EC महाराष्ट्र-हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए 4 अक्टूबर तक किया जा सकेगा नामांकन: EC उत्तराखंड में पंचायत चुनाव और पश्चिम बंगाल में दुर्गापूजा की वजह से उपचुनाव टाले गए अलग-अलग राज्यों में 64 विधानसभा उपचुनाव होंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त चुनावी खर्च की निगरानी के लिए पर्यवेक्षक भेजे जाएंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त EVM और VVPAT डबल लॉक में रखे जाएंगे: मुख्य चुनाव आयुक्त 28 लाख रुपये तक हर उम्मीदवार के चुनावी खर्च की सीमा तय: मुख्य चुनाव आयुक्त हरियाणा की 90 और महाराष्ट्र की 288 सीटों पर विधानसभा चुनाव होगा: चुनाव आयोग हरियाणा सरकार का कार्यकाल 2 नवंबर, महाराष्ट्र सरकार का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है: EC