Monday, January 27, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हिंदुस्तान पेट्रोलियम ने बाजार में उतारा 99 ऑक्टेन पेट्रोलउपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ करनाल से चंडीगढ़ पहुंचे सत्यदेव नारायण आर्य ने ली परेड की सलामी और दिया प्रदेशवासियों को संदेशहरियाणा:सभी जिलों में इन मुख्य अतिथियों ने फहराया तिरंगामुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुलेट पर पीछे खड़े होकर ग्राउंड का राउंड लगायाअसम के DGP ने बम धमाकों के पीछे ULFA का हाथ होने की जताई आशंकादिल्लीः अमित शाह के रोड शो में लगे आजादी के नारे, मनोज तिवारी बोले- नहीं करते समर्थनदिल्ली BJP के अध्यक्ष ने कहा- पानी और यमुना की सफाई के मुद्दे पर लड़ रहे चुनाव
Haryana

पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल

August 24, 2019 05:57 AM


COURTESY DAINIK BHASKAR AUG 24
पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार
पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल

संजीव महाजन / अमित शर्मा | पंचकूला
'डेरा सच्चा सौदा प्रमुख और साध्वी यौन शोषण मामले से लेकर पत्रकार छत्रपति मर्डर मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में सजा भुगत रहे गुरमीत राम रहीम के खासमखास विपासना इंसां और आदित्य इंसां पर हरियाणा पुलिस मेहरबान नजर आ रही है। अब पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड लिस्ट से बाहर कर दिया है।
वहीं, केंद्र सरकार ने एक साल पहले पूछा था कि इस केस को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया जाए। इसका जवाब अब तक नहीं होम डिपार्टमेंट ने नहीं भेजा है। इधर, जम्मू-कश्मीर के रहने वाले आदित्य इंसां करीब 2 साल से फरार है, जबकि पुलिस ने उस पर 5 लाख रुपए का इनाम घोषित किया हुआ है, जिसे पकड़ने के प्रयास भी कम हो चुके हैं। हरियाणा पुलिस ने इनपुट के आधार पर 3 जिलों की पुलिस फोर्स लेकर सिरसा डेरे में रेड करने की प्लानिंग बनाई थी, लेकिन कैंसिल कर दिया गया।
असल में 25 अगस्त 2017 को पंचकूला में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह को डेरे सिरसा से पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट में पेश किया गया था। गुरमीत सिंह के यहां पेश होने से पहले भारी संख्या में डेरे के अनुयायियों को यहां भेजा गया था। 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट ने जब साध्वी यौन शोषण मामले में गुरमीत सिंह को दोषी करार दिया था, तो उसके बाद पंचकूला में हिंसा भड़क गई थी।
इन सबूतों के आधार पर सामने आई थी विपासना की भूमिका
इस पूरे मामले में हनी प्रीत की भूमिका सामने आने के बाद पुलिस ने विपासना को पंचकूला में पूछताछ के लिए बुलाया था। विपासना आई तो हनी प्रीत के सामने बिठाकर उस से पूछताछ की गई थी। दोनों में सवालों के जवाब देने के दौरान बहस भी हुई थी। पुलिस विपासना से हनी प्रीत की डायरी को डी कोड करवाना चाहती थी। उसे दोबारा बुलाया गया था, लेकिन वो नहीं आई। जिसके बाद पुलिस ने विपासना को वांटेड लिस्ट में डाला था। इसी दौरान पुलिस जांच में सामने अबाया कि विपासना पूरे मामले में शामिल थी। डेरा सच्चा सौदा के वाइस चेयरपर्सन और गुरमीत सिहं के खास लोगों में से एक गो बी राम ने पुलिस को दिए बयानों में बताया था कि हिंसा के दौरान कई बार डेरे की चेयरपर्सन विपासना से मोबाइल पर बात की थी। कुछ रिकॉर्डिंग पुलिस को मिली है। इसमें गो बी राम ने विपासना को कहा कि आढ़ती बैठे हैं और मार्केट सज चुकी है। वहीं, आगजनी की वारदात होने के बाद कहा कि आग लग चुकी है। अब मैं निकल रहा हूं।
ईडी ने बताया था विपासना आई है, लेकिन पुलिस ने नहीं किया अरेस्ट
पुलिस ने जिस विपासना को पकड़ने के लिए 8 बार रेड की थी। उसे अब मोस्टवांटेड लिस्ट से बाहर कर दिया है। दिसंबर- जनवरी महीने के दौरान विपासना चंडीगढ़ में ईडी की इनक्वायरी के दौरान बयान दर्ज करवाने के लिए कई बार आई। पुलिस को ईडी ने बताया कि विपासना यहां हैं, लेकिन अरेस्ट नहीं किया था।
जम्मू-कश्मीर का रहने वाला है आदित्य इंसा
आदित्य इंसा जम्मू कश्मीर के एक गांव का है। इसके पिता की पंजाब एरिया में नौकरी लगी थी। इसके बाद वह परिवार के साथ यहां आ गया था, लेकिन उसके सभी रिश्तेदार जम्मू-कश्मीर में रहते हैं। उसका एक भाई मोहाली में रहता है। आदित्य 12वीं पास करने के बाद दिल्ली गया था। जब वो एमबीबीएस कर रहा था तो एक डॉक्टर से उसका संपर्क हुआ था, जो वर्ष 1995 से पहले उसे डेरे में ले गया था। उस दौरान एक अन्य डॉक्टर थी, जो आदित्य के साथ ही दिल्ली में स्टडी कर रही थी। दोनों में गहरी दोस्ती थी, इसके बाद दोनों शादी करना चाहते थे, लेकिन उस महिला डॉक्टर और उसके परिवार ने डेरे में जाने से मना कर दिया था। इसके चलते आदित्य ने उसे छोड़ दिया था। उसके बाद आदित्य डॉ. पंकज नैन के संपर्क में आया। उसने डेरा प्रमुख से मिलवाया और आदित्य स्टडी पूरी कर सबसे पहले डेरे के लिए गुर सर मोडिया में गया था, जहां अस्पताल में काम किया, लेकिन जब सिरसा डेरे में अस्पताल को बनाने की बात आई। उस दौरान डेरा प्रमुख उसे सिरसा ले आया था, जिसके बाद वो गुरमीत सिंह के सबसे खास लोगों में शामिल हो गया था।
इस लेटर पर विपासना को लिस्ट से बाहर किया : विपासना ने पंचकूला पुलिस को एक लेटर भेजा था। इसमें कहा- मैं पुलिस की इन्वेस्टिगेशन में मदद करने के लिए तैयार हूं। जो भी मदद चाहिए, मुझे बताया जाए, मैं पंचकूला में जांच में शामिल होने के लिए आ सकती हूं, लेकिन अभी तक पुलिस ने नहीं बुलाया है, जबकि कभी विपासना कभी डेरे में मिली नहीं, बस उसका लेटर आया है। अब पुलिस ने उसे मोस्ट वांटेड लिस्ट से बाहर कर दिया है

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More Haryana News
उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ करनाल से चंडीगढ़ पहुंचे
सत्यदेव नारायण आर्य ने ली परेड की सलामी और दिया प्रदेशवासियों को संदेश
हरियाणा:सभी जिलों में इन मुख्य अतिथियों ने फहराया तिरंगा
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुलेट पर पीछे खड़े होकर ग्राउंड का राउंड लगाया
शमशेर सुरजेवाला के निधन पर शोक व्यक्त करने पहुंचे सीएम, रणदीप को दी सांत्वना
राज्यपाल ने अंबाला में और मुख्यमंत्री ने जींद में फहराया तिरंगा
करनाल:हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यन्त चौटाला ने फहराया तिरंगा
करनाल में शहीद स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित करते हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला
गृह मंत्री अनिल विज ने पंचकूला में ध्वजारोहण किया 16 राज्यों ने आरबीआइ से मांगा लोन हरियाणा ने मांगे एक हजार करोड़