Monday, August 26, 2019
Follow us on
 
Haryana

विश्वविद्यालय में आंतरिक मूल्यांकन में नियमों से परे जाकर बढ़ाए अंक लापरवाही : छोटूराम विश्वविद्यालय की परीक्षा शाखा का एक अाैर कारनामा

August 15, 2019 08:49 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR AUG 15

विश्वविद्यालय में आंतरिक मूल्यांकन में नियमों से परे जाकर बढ़ाए अंक
लापरवाही : छोटूराम विश्वविद्यालय की परीक्षा शाखा का एक अाैर कारनामा

दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मुरथल की परीक्षा शाखा की कार्यकुशलता पर एक बार फिर से सवाल खड़ा हुआ है। रिकाॅर्ड समय में परीक्षा परिणाम घोषित कर अक्सर वाहवाही हासिल करने वाली विश्वविद्यालय की परीक्षा नियंत्रक शाखा ने इस बार गजब ही किया हैं। विश्वविद्यालय ने आंतरिक परीक्षा में विद्यार्थियाें काे तय अंक से भी ज्यादा अंक दे दिए। नियम के मुताबिक किसी भी विद्यार्थी को आंतरिक परीक्षा में अधिकतम 25 ही अंक दिए जा सकते हैं, यह खुद अंक तालिका पर भी अंकित है बावजूद कई चरणों से जांच प्रक्रिया में गुजरने के बावजूद अंक तालिका में 28 अंक दिए गए हैं। इससे फिर से सवाल उठ रहा है कि विश्वविद्यालय में लापरवाही का यह दौर आखिर कब तक चलेगा?
यह है पूरा मामला : विश्वविद्यालय की ओर से घोषित किए गए परीक्षा परिणाम के मुताबिक बेचलर ऑफ टेक्नाेलाॅजी के डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम में विद्यार्थी को आतंरिक परीक्षा में 25 की जगह 28 नंबर दिए गए। बताया गया है कि विवि के प्राध्यापकों के एक वर्ग ने इस गलती की ओर विवि के उच्च अधिकारियों को अवगत भी करवाया, लेकिन उनकी अनदेखी की गई। इस मामले में बताया गया है कि विश्वविद्यालय का साफ्टवेयर में ही ऐसा सिस्टम है जो 25 से अधिक अंक देने पर एरर दिखाता है, ऐसे में सवाल है कि क्या किसी की ओर से साफ्टवेयर में भी गड़बड़ी की गई।
सोनीपत. दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय परिसर।
इस अंक तालिका को लेकर विवाद।
अनिल बंसल | सोनीपत
दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मुरथल की परीक्षा शाखा की कार्यकुशलता पर एक बार फिर से सवाल खड़ा हुआ है। रिकाॅर्ड समय में परीक्षा परिणाम घोषित कर अक्सर वाहवाही हासिल करने वाली विश्वविद्यालय की परीक्षा नियंत्रक शाखा ने इस बार गजब ही किया हैं। विश्वविद्यालय ने आंतरिक परीक्षा में विद्यार्थियाें काे तय अंक से भी ज्यादा अंक दे दिए। नियम के मुताबिक किसी भी विद्यार्थी को आंतरिक परीक्षा में अधिकतम 25 ही अंक दिए जा सकते हैं, यह खुद अंक तालिका पर भी अंकित है बावजूद कई चरणों से जांच प्रक्रिया में गुजरने के बावजूद अंक तालिका में 28 अंक दिए गए हैं। इससे फिर से सवाल उठ रहा है कि विश्वविद्यालय में लापरवाही का यह दौर आखिर कब तक चलेगा?
यह है पूरा मामला : विश्वविद्यालय की ओर से घोषित किए गए परीक्षा परिणाम के मुताबिक बेचलर ऑफ टेक्नाेलाॅजी के डाटा बेस मैनेजमेंट सिस्टम में विद्यार्थी को आतंरिक परीक्षा में 25 की जगह 28 नंबर दिए गए। बताया गया है कि विवि के प्राध्यापकों के एक वर्ग ने इस गलती की ओर विवि के उच्च अधिकारियों को अवगत भी करवाया, लेकिन उनकी अनदेखी की गई। इस मामले में बताया गया है कि विश्वविद्यालय का साफ्टवेयर में ही ऐसा सिस्टम है जो 25 से अधिक अंक देने पर एरर दिखाता है, ऐसे में सवाल है कि क्या किसी की ओर से साफ्टवेयर में भी गड़बड़ी की गई।
शुरुआत से ही विवादों में रही है विवि की परीक्षा शाखा
ऐसा पहली बार नहीं है कि जब विश्वविद्यालय की परीक्षा शाखा की कार्यकुशलता पर सवाल उठा हो, उत्तर पुस्तिका जांच के मामले में अक्सर यह विवादों में रही है, सैकड़ों विद्यार्थियों को फेल करने के बाद पुन: जांच में तब उर्त्तीण घोषित किया गया जब मामला राज्य सरकार से लेकर केंद्र सरकार तक के संज्ञान में लाया गया।
25 गलत कॉपी जांच में चेयरमैन के अधिकार पर भी उठा दिए सवाल
परीक्षा प्रणाली को लेकर सजग होने का दावा करने वाले विश्वविद्यालय प्रशासन ने इससे पहले बैचलर ऑफ टेक्नाेलाॅजी डिग्री प्रोग्राम, मैकेनिकल इंजीनियरिंग उत्तर पुस्तिका जांच में गड़बड़ी के आरोप लगे थे। इसमें कहा गया था कि करीब 25 कॉपियों में मूल्यांकन नियमानुसार नहीं था। विवि स्तर के प्राध्यापक होने के बावजूद उत्तर पुस्तिकाओं में कुल अंक, पोस्टिंग एवं ओवर राइटिंग तक यहां देखने को मिली। इस पर जब चेयरमैन संबंधित प्राध्यापक को मूल्यांकन कार्य से बाहर किया तो विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक ने इस निर्देश को उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर की बात बताते हुए आदेश को निरस्त कर दिया।
कुलसचिव बोले यह हमारा आंतरिक मामला : परीक्षा व्यवस्था को लेकर विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक ने जहां इस गंभीर मसले पर कुछ भी जवाब नहीं दिया तो वहीं विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. अनिल खुराना ने कहा कि यह हमारा आतंरिक मामला है, हम स्वयं ही इसे सुलझा लेंगे।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
जन्माष्टमी मे विशेष अतिथि बने राजीव ड़िंपल
हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड में 39 बड़े नेता बदल चुके हैं दल इन तीन राज्यों में चुनाव करीब, लेकिन वहां चल क्या रहा है? Former CM Hooda reiterates his newfound rebel image हरियाणा में अरूण जेटली के आकस्मिक निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया राज्य के सभी फार्मासिस्ट 26 को सामूहिक अवकाश पर , दवाइयों के लिए होगी मारामारी Badal’s advice to feuding Chautalas ahead of polls may be too late पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल पहली बार हुई लिखित परीक्षा ताे मास्टर बन गए एचसीएस, 18 में से 16 पदों पर ग्रुप सी के शिक्षकाें ने जमाया कब्जा घग्गर नदी में पानी के तेज बहाव से हर्बल पार्क से लेकर खाली एरिया की जमीन नदी में बही पंचकूला एक्सटेंशन सेक्टरों के लोगों ने पिछले साल सेफ्टी वॉल टूटने की दी थी कंप्लेंट, नहीं हुई कार्रवाई एचएसवीपी ड्राफ्ट की एन्हांसमेंट पॉलिसी पर तीन जजों की रिपोर्ट होगी लागू...