Monday, January 20, 2020
Follow us on
Haryana

कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई के घर 76 घंटे बाद इनकम टैक्स की रेड खत्म, बेटे भव्य को साथ ले गई टीम

July 26, 2019 04:40 PM

कांग्रेस नेता और विधायककुलदीप विश्नोई के ठिकानों पर आयकर टीम की जांच 76 घंटे बाद खत्म हो गई। टीम ने मंगलवार सुबह 8 बजे विश्नोई के ठिकानों पर छापेमारी शुरू की थी। शुक्रवार करीब 1 बजे टीम कुलदीप विश्नोई के हिसार के सेक्टर-15 स्थित आवास से रवाना हुई। टीम अपने साथ कुलदीप के बेटे भव्य को दिल्ली ले गई है।कुछ कागजात भी ले जाने की सूचना है। हालांकि, अभी अधिकारिक तौर पर विभाग की तरफ से किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी गई है। कुलदीप, हरियाणा के पूर्व सीएम भजनलाल के बेटे हैं। उनकी पत्नी रेणुका भी विधायक हैं।

इससे पहले मंगलवार सुबह आयकर विभाग ने कुलदीप विश्नोई केआदमपुर, हिसार, गुड़गांव और दिल्ली स्थित आवास और प्रतिष्ठानों पर छापेमारी शुरू की थी। आदमपुर मंडी स्थित कुलदीप की आढत पर मंगलवार देर रात तक आयकर विभाग ने सर्च की। इसके बादएक टीम ने यहां से पैकअप किया औरविधायक के बेटे भव्य को हिसार सेक्टर-15 आवास पर साथ लेकर आई।

इसके बाद सर्च में घर का सामान, अलमारी, पार्क, बाथरूम, छत पर टंकियां आदि को खंगाला गया। परिजनों और करीबियों से पूछताछ की गई। घर में मिले सामान का रिकॉर्ड बनाया गया, क्रॉस चेक किया गया और बयान भी दर्ज किए गए। आयकर की छापेमारी के दौरान कुलदीप की मां जस्मा देवी भी आवास पर रहीं। आयकर की छापेमारी के दौरान कुलदीप केसमर्थक घर के बाहर डटे रहे। किसी को भी घर से बाहर या भीतर नहीं आने-जाने दिया गया।

एक्सपर्ट्स ने बताया कैसे चलती है आयकर विभाग की कार्यवाही
आईटी टीम पहले दिन छापेमारी की जगह पर दस्तावेजों, कैश, प्रॉपर्टी से जुड़ी जानकारियों के साथ-साथ जिन स्थान पर दस्तावेज व रुपए आदि छिपाए जा सकते हैं उनको खोजने का काम करती है। दूसरे दिन जो भी सर्च में तथ्य मिलते हैं उन्हें परिवार के सदस्य के साथ सत्यापित किया जाता है, ताकि यह पता चल सके कि किस संपत्ति का हिसाब दिखा रखा है या किसका नहीं।

यह काम दो या तीन दिन तक भी चल सकता है। अगर हिसाब में शामिल न होने वाली संपत्ति हो तो वह अलग हो जाती है, जिसको इंपाउंड करने के लिए एक रिकॉर्ड बनाया जाता है। संबंधित के बयान दर्ज किए जाते हैं। इसके बाद सर्च ऑपरेशनसमाप्त होता है। इस रिकॉर्ड को अपने साथ असेसमेंट के लिए अधिकारी दफ्तर ले जाते हैं। इसके कुछ समय बाद प्रोसिडिंग शुरू होती है, अगर व्यक्ति या फर्म उन संपत्तियों का स्रोत नहीं बता पाते तो उन पर टैक्स पेनल्टी की कार्रवाई के साथ कानूनी कार्यवाही भी हो सकती है।

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More Haryana News
Escalating retail price of vegetables hits residents’ kitchen budget Activists organise mock funeral to highlight threats to Aravallis हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हिपा के प्रस्तुतिकरण की सराहना की
चंडीगढ़:हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता कल विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले पत्रकारों को संबोधित करते हुए
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर व मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश जयराम ठाकुर का अम्बाला छावनी एयर फोर्स स्टेशन पहुँचने पर गृहमंत्री अनिल विज ने उनका हार्दिक अभिनंदन किया
HAYANA रोडवेज ने किराया बढ़ाया, HARYANA-9 नगर निगमों के 1282 करोड़ रुपए बकाया बजट का अभाव : प्रॉपर्टी समेत अन्य टैक्स वसूलने में सभी नगर निगम पीछे गद्दारी! फौज में एक ही साल में पकड़े गए सबसे ज्यादा जासूस 2019 में सर्वाधिक 13 ...जबकि नौ सालों में 32 जासूसों को पकड़ा जा चुका In war with Khattar, Vij gets Abhimanyu’s endorsement ‘Home Minister Can Improve Overall Functioning of CID’ 'डॉक्टरों की भर्ती क्यों रद्द की, फाइल देखकर पता चलेगा'