Wednesday, December 11, 2019
Follow us on
Haryana

विजिलेंस का खुलासा... पंचकूला में किलोमीटर स्कीम मामले में सरकार को दिया धोखा, सेक्टर-8 की कंप्यूटर शॉप रडार पर, अफसरों से डिसकस किया था रेट, बस ऑपरेटरों से मिलकर भरे थे रेट

July 24, 2019 06:08 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JULY 24

पहले कम रेट पर डालने लगे थे बसें, पर अफसरों से सेटिंग के बाद बढ़ाया था रेट
विजिलेंस का खुलासा... पंचकूला में किलोमीटर स्कीम मामले में सरकार को दिया धोखा,
सेक्टर-8 की कंप्यूटर शॉप रडार पर, अफसरों से डिसकस किया था रेट, बस ऑपरेटरों से मिलकर भरे थे रेट
हरियाणा रोडवेज में किलोमीटर स्कीम के चलते अधिकारियों से मिलीभगत कर अपनी बसों को एडजस्ट करवाने के मामलें में पंचकूला विजिलेंस पुलिस थानें में मामला दर्ज होने के साथ-साथ इन्वेस्टिगेशन में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। जिसमें सामने आया है कि ऑनलाइन पूल करने से पहले इन बस ऑपरेटरों की अधिकारी या उनके के कारिंदों से मीटिंग हुई थी। जिसमें इन्हें बताया था कि कम रेट पर नहीं बल्कि बढ़े हुए रेट पर अप्लाई करें। जिसके बाद बस ऑप्रेटरों ने सेक्टर 8 में मीटिंग की और दो लोगों के नाम से टेंडर भरा। लिहाजा अब सेक्टर-8 के उस कंप्यूटर सेंटर मालिक से भी पूछताछ की जाएगी। वहीं रिकॉर्ड के लिए वे कंप्यूटर भी जब्त किए जाएंगे। असल में पंचकूला सेक्टर 17 स्थित हरियाणा विजिलेंस पुलिस थानें में सरकार को नुकसान पहुंचाने, धोखाधड़ी करने के चलते सुनील कुमार और वीरेंद्र सिंह पर मामला दर्ज किया है। क्योंकि असल में हरियाणा रोडवेज में हर रूट पर बसें चलाने को प्राईवेट बस मालिकों से आवेदन मांगे थे। जिसमें एक क्राइटेरिया था, उसके हिसाब से ही अप्लाई किया जाना था।
सेक्टर 8 में रची साजिश... इस बारें में वीरेंद्र व सुनील ने प्लानिंग की। क्योंकि अंबाला डिपो में कुल 20 बसें ली जानी थी। लिहाजा सुनील ने अपनी 12 और वीरेंद्र ने 8 बसों के लिए अप्लाई किया। दोनों ने डीजल 68 रुपए 12 पैसे प्रति लीटर मानकर अप्लाई किया। जिसमें 38 रुपए 25 पैसे प्रति किलोमीटर की दर से बसें चलाने को कहा गया। दोेनों ने ये साजिश मिलकर यहां सेक्टर-8 के एक कंप्यूटर सेंटर में की। इन्वेस्टिगेशन में कहा गया है कि दोनों ने मिलकर रेट ज्यादा और एक रखा, ताकि जो 20 बसें रखी जानी थी, वो इनकी ही रखी जा सकें। क्योंकि इनके अलावा कोई आवेदक भी नहीं था।
14 जगह से कॉल रिकॉर्ड और मोबाइल डंप उठाया
सूत्रों के अनुसार विजिलेंस ने पूरे हरियाणा में 14 जगहों से कॉल रिकॉर्ड, मोबाइल डंप उठाया है। जिसमें आरोपियों की लोकेशन पता लगी है। इंक्वायरी में बताया कि जिस दिन इन लोगों की मीटिंग हुई, इस दौरान एक लोकेशन पर थे। उसका सबूत ये है। वहीं कुछ लोगों की कॉल डिटेल भी निकाली गई है। जिसमें करीब 40 लोगों का मोबाइल कॉल डाटा चेक किया है। इसमें सामने आया है कि किसकी कब किस से बात हुई है। विजिलेंस 4 जगहों से कंप्यूटर जब्त करेगी।
विजिलेंस की इन्वेस्टिगेशन
: लिहाजा अब सेक्टर-8 के कंप्यूटर सेंटर मालिक से जहां पूछताछ की जाएगी और उसके कंप्यूटरों को जब्त भी किया जाएगा।
: विजिलेंस ने कुछ अधिकारियों की कॉल डिटेल भी चेक की है। जिसमें अधिकारी के गुर्गे ने बस ऑप्रेटरों से लगातार बातें की हैं, उन्हें सेटिंग के बारें में बताया गया है।
: सभी की उन दिनों की लोकेशन भी ली गई है। जिसमें सेक्टर 8 में भी दोनों की लोकेशन एक साथ कई बार पाई गई है। लिहाजा अब इन्हें अरेस्ट किया जाएगा।
: विजिलेंस की टीम पिछले कई दिनों से इन्हें तलाश कर रही है। जिसके चलते दो जगहों पर रेड भी की गई है

 
Have something to say? Post your comment
 
 
More Haryana News
No restarting of flights from Hisar for now: Dushyant FARIDABAD-विकास पर प्रदूषण का ब्रेक : 1 महीने से बंद हैं काम, करीब 10 हजार से अधिक श्रमिक लौट गए अपने घर पुलिस कर रही सबसे ज्यादा मानवाधिकारों का उल्लंघन धान की कथित गड़बड़ी मामले में पीवी के फैसले को लेकर मिलर्स की आज कुरुक्षेत्र में प्रदेशस्तरीय बैठक दुष्कर्म प्रयास मामले में आर्केस्ट्रा कलाकार ने ऑडियो जारी कर कहा- पुलिस बना रही समझौते का दबाव, फिर खाया जहर पंचकूला हिंसा मामले में दाखिल याचिका पर हाईकोर्ट में हुई सुनवाई, कोर्ट ने प्रदेश सरकार से पूछा HARYANA-तबादले का अधिकार; मंत्रियों के पास बचे 5 दिन, सचिवालय में कर्मचारियों का जमघट, लोकसभा में भाटिया बोले- पानीपत में दुनिया का ऐसा पुल, जिसे बिना उपयोग किए वसूला जा रहा टोल KARNAL DISTT- सफाई कर्मचारी करते हैं ड्रेसिंग, रात की ड्यूटी में नहीं कोई डॉक्टर HR CM CITY KARNAL-कागजों में हो रहा स्मार्ट सिटी का विकास, क्या काम हुआ न मैनेजर को पता, न सीईओ और न ही मेयर को