Saturday, July 11, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की दसवीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले सभी छात्रों को हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने हार्दिक शुभकामनाएं दीविकास दुबे की पत्नी ऋचा के भाई राजू खुल्लर को भी रिहा करेगी STFकोरोना के उपचार के लिए Itolizumab का हो सकेगा इस्तेमाल, DCI ने दी मंजूरीकानपुरः गैंगस्टर विकास दुबे के गांव में तैनात की गई RAFदिल्ली के राज्य विश्वविद्यालयों की परीक्षा रद्द, पास किए जाएंगे सभी छात्रः मनीष सिसोदियाजम्मू कश्मीरः कुपवाड़ा के नौशेरा सेक्टर में LOC पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, दो आतंकी ढेरगैंगस्टर विकास दुबे की संपत्ति की जांच शुरू, ED ने मांगे आपराधिक गतिविधियों और सहयोगियों के विवरणप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'मन की बात' कार्यक्रम का 26 जुलाई को होगा प्रसारण
Chandigarh

CHANDIGARH- शादी-पार्टियों में यूज नहीं कर सकेंगे पानी की छोटी बोतलें और गिलास एन्वायर्नमेंट बचाने के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक पर लगाया बैन

July 04, 2019 06:23 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JULY 4
शादी-पार्टियों में यूज नहीं कर सकेंगे पानी की छोटी बोतलें और गिलास
एन्वायर्नमेंट बचाने के लिए सिंगल यूज प्लास्टिक पर लगाया बैन
प्लास्टिक के चम्मच, प्लेट पर भी पाबंदी, एन्वायर्नमेंट डिपार्टमेंट के प्रपोजल को प्रशासक ने दी अप्रूवल
पॉलीथिन रखने पर 5 हजार रुपए पेनल्टी का है प्रावधान

चंडीगढ़ में पहले पॉलीथिन तो बैन कर दिया गया था, अब सभी तरह के सिंगल यूज प्लास्टिक भी बैन कर दिए गए हैं। प्रशासन के एन्वायर्नमेंट डिपार्टमेंट की तरफ से सब्मिट किए गए प्रपोजल को प्रशासक वीपी सिंह बदनोर ने अप्रूवल दे दी है। अब प्रशासन इसकी ड्राफ्ट नोटिफिकेशन जारी करके लोगों से सुझाव और ऑब्जेक्शन मांगेगा। इसके लिए दो महीने का समय दिया जाएगा।
एन्वायर्नमेंट डिपार्टमेंट की तरफ से प्रपोजल बनाया गया था, जिसमें सभी तरह के सिंगल यूज प्लास्टिक को चंडीगढ़ में बैन करने को लेकर लिखा गया था। पॉलीथीन और प्लास्टिक के कई तरह के सामान पर पहले ही नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने चंडीगढ़ में यूज किए जाने को लेकर बैन लगा दिया था। इनके यूज किए जाने पर 5 हजार रुपए की पेनल्टी का प्रोविजन किया था। अब प्रशासन जो इसको लेकर ड्राफ्ट नोटिफिकेशन पहले जारी करेगा, उसमें पॉलीथीन और बाकी सभी तरह के सामान को बैन किए जाने को लेकर प्रोविजन किए जाएंगे।
चंडीगढ़ में सबसे बड़ी चुनौती अभी पॉलीथिन को लेकर है। लाख कोशिशों के बाद भी चंडीगढ़ से पॉलीथिन यूज होना बंद नहीं हुआ है। शहर में हर मार्केट में पॉलीथिन धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है। इसे रोकने के लिए प्रशासन कुछ नहीं कर रहा। एक-दो दिन कार्रवाई करके चुप हो जाता है।
इन पर रहेगी पाबंदी : सख्ताई और पब्लिक की अवेयरनेस से होगा संभव
: पानी की बोतल... पानी की एक लीटर से छोटी बोतल का यूज नहीं कर सकेंगे। क्योंकि छोटी बोतल को सिर्फ एक बार ही यूज किया जाता है, जिसके बाद ये डस्टबिन में जाती है। एक लीटर की बोतल को री-यूज कर लिया जाता है।
: पर्यावरण को बचाना हमारे हाथ में...
प्रशासन ने 2008 में और फिर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने प्लास्टिक कैरी बैग्स और पॉलीथीन को बैन करने को लेकर निर्देश जारी किए थे। लेकिन इन पर कभी-कभार ही कार्रवाई हुई। नतीजा ये रहा कि अभी भी चंडीगढ़ में बैन हुआ सामान आराम से कहीं भी देख सकते हैं। पर्यावरण बचाना हमारे हाथ में है, इसलिए हमें ही आगे आना होगा।
: कांच के ग्लास यूज करेंगे
प्रशासन इसका सब्सटिट्यूट भी बताए। शादी में यूज होने वाली प्लास्टिक की छोटी पानी की बॉटल और ग्लास का सवाल है तो उसकी जगह हम कांच के ग्लास में पानी सर्व करेंगे। -सुरिंदर जगोता, जगोता कैटरर
: पानी के छोटे गिलास... पानी के गिलास जो पार्टी या किसी भी तरह के ईवेंट में रखे जाते हैं, ये सिंगल यूज के होते हैं। इन पर भी बैन रहेगा। शादी-पार्टियों में अभी ये बहुत ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल होते हैं।
: एनजीटी में अफसर पेश भी हो चुके... हाल ही में चंडीगढ़ प्रशासन के अफसरों की एनजीटी में भी पेशी थी। अफसरों ने दलील दी थी कि करीब 15 क्विंटल से ज्यादा पॉलीथीन चंडीगढ़ में जब्त किया जा चुका है।
: हिमाचल से लंे सबक... चंडीगढ़ को हिमाचल से सबक लेना चाहिए। हिमाचल ने पॉलीथिन बैन के आदेश को गंभीरता से लागू किया है। सरकार की सख्ताई और पब्लिक की अवेयरनेस से यह संभव हो पाया है।
: सवाल: पहले के रूल फॉलो नहीं हुए तो नए कैसे होंगे...
रेहड़ी-फड़ी से लेकर सेक्टर-26 की बड़ी दुकानों में खुलेआम पॉलीथिन में सामान दिया जा रहा है। यही हाल प्लास्टिक के डिस्पोजल गिलास का है, जो हर छोटी-बड़ी दुकान में मिल जाते हैं।
: वुडन-पेपर ही ऑप्शन
प्रशासन को इन चीजों को बैन करने से पहले कारोबारियों से बात करनी चाहिए। पर्ल पेट वाली बॉटल इस्तेमाल हो सकती है। वुडन और पेपर प्लेट्स और स्पेन इस्तेमाल कर सकते हैं। -सुभाष नारंग, कलाग्राम स्थित हवेली के एमडी
: पंचकूला-मोहाली में नहीं है बैन... पंचकूला-मोहाली में कागजों में तो प्लास्टिक बैन है, लेकिन यह लागू नहीं है। छोटी पानी की बोतलें और गिलास बैन करने के बाद पंचकूला-मोहाली में नहीं हैं। ट्राईसिटी में इसे फॉलो करवाना होगा। यह जॉइंट प्लानिंग से होगा।
: डिस्पोजेबल आइटम... खाली पानी के गिलास, प्लास्टिक या थर्मोकोल की प्लेट्स और गिलास, प्लास्टिक चम्मच, पाॅलीथीन, प्लास्टिक बैग्स, नाॅन वुवन प्लास्टिक कैरी बैग्स पर पाबंदी है।
: इनका इस्तेमाल होता रहेगा...
सिंगल यूज प्लास्टिक को बैन कर दिया गया है, लेकिन कई जरूरत की चीजें इसमें लागू रहेंगी। जैसे दालों की पैकिंग, चिप्स वगैरह के रैपर या दूध के पैकेट। फिलहाल इन पर बैन नहीं लगाया गया है। सरकारों के लिए सबसे बड़ी चुनौती मार्केट्स में यूज होना वाला पाॅलीथिन है। नियम लागू होने के बाद भी लोग इसे यूज कर रहे हैं।
: ऑप्शन कम हो जाएंगे
शादियों-पार्टियों में अगर छोटे गिलास और छोटी बोतलें बैन होंगी तो ऑप्शन तो कम हो जाएंगे। या तो एक लीटर की बड़ी बोतल रखी जाएगी या फिर कैंपर के जरिए गिलास में पानी पिलाया जाएगा। -धर्मवीर चौधरी, रेड टैग

Have something to say? Post your comment
More Chandigarh News
एनआईटी ने बहु-उद्देशीय यूवी-सैनीटाइज़िंग केबिन विकसित किया
चंडीगढ़ पूर्वांचल एकता मंच के नए ऑफिस का उद्धाटन हुआ
No prayers as usual this ‘Shrawan’ in city चंडीगढ़ प्रशासन का बड़ा फैसला, 9वीं एवं10वीं के छात्रों की फीस माफ धनास लेक पर के पास पिता व तीन साल की बेटी पर गोली चलने सूचना जांच में जुटी पुलिस OPDs in PGI likely to resume in August No room for more space in costliest flats of CHB UT Rejects Proposal To Increase FAR ईंधन के दाम बढ़ाने के विरोध में एनएसयूआई सदस्यों ने जूते साफ कर विरोध प्रदर्शन किया
वालमीकि शोभा यात्रा आयोजक कमेटी चंडीगढ़ 28 जून को रविदास मंदिर रामदरबार में किया रक्तदान शिविर का आयोजन
राजीव तिवारी को यूटी चण्डीगढ़ के लोकसंपर्क निदेशक का कार्यभार भी मिला