Tuesday, July 23, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
HARYANA-कक्षा नौंवी-दसवीं काे पढ़ाने वाला अंग्रेजी का टीचर नहीं है तो सामाजिक विज्ञान के शिक्षक को पूरा करना होगा पाठ्यक्रम HRD, culture ministries should be merged, suggests RSS body मंत्री मजाक में बोलते थे- आओ कभी दिल्ली मिलने; रोज 150 लाेग पहुंचने लगे तो अपनों से परेशान होकर गेट पर चौकीदार बैठाया  : मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल के ऑफिस के बाहर पहली बार प्राइवेट गार्ड तैनातHARYANA-House sittings: BJP scores better than Cong, INLD LAST SESSION OF 13TH VIDHAN SABHA BEGINS FROM AUGUST 2कर्नाटक विधानसभा में हंगामा, कांग्रेस-जेडीएस ने संविधान बचाओ के लगाए नारेकोलकाता: BSNL बिल्डिंग में लगी आग, दमकल की 6 गाड़ियां मौके परभारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के संसदीय दल की बैठक कलडोनाल्ड ट्रंप और इमरान खान के बीच व्हाइट हाउस में हुई मुलाकात
 
Haryana

जेल जाने से पहले गुरमीत राम रहीम का रहा है खेती से नाता, एसडीएम लेवल पर होगी रिकाॅर्ड की समीक्षा

June 27, 2019 06:28 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR JUNE 27

जेल जाने से पहले गुरमीत राम रहीम का रहा है खेती से नाता, एसडीएम लेवल पर होगी रिकाॅर्ड की समीक्षा
रोहतक की सुनारिया जेल में दुष्कर्म और हत्या के मामले में सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की ओर से खेती के लिए मांगी गई पैरोल मामले में तहसीलदार सिरसा की ओर से पुलिस को सौंपी गई रिपोर्ट का मामला उलझ गया है। हालांकि सिविल प्रशासन अब कह रहा है कि इस रिपोर्ट का कोई आधार नहीं है।
रिपोर्ट को लेकर अभी एसडीएम लेवल पर ही समीक्षा की जाएगी। उसके बाद राजस्व विभाग से जानकारी मांगी जाएगी। पहले तहसीलदार की ओर से पुलिस विभाग को दी गई रिपोर्ट के बारे में एसडीएम विरेंद्र चौधरी का कहना है कि उसका कोई औचित्य नहीं बनता क्योंकि रिपोर्ट डीसी के जरिए ही जानी है। यह मामला विचाराधीन है। इस संबंध में अभी राजस्व विभाग से रिपोर्ट नहीं मांगी है। वे खुद अपने स्तर पर ही एकबारगी रिपोर्ट संबंधी जानकारी जुटाएंगे, क्योंकि अभी रिपोर्ट देने में काफी समय है। इधर तहसीलदार की ओर से पुलिस विभाग को सौंपी गई रिपोर्ट में डेरा प्रमुख को कहीं भी जमीन का मालिक या काश्तकार नहीं दिखाया गया है, जबकि डेरा प्रमुख के जेल जाने से पहले वह पुराने रेवन्यू रिकार्ड के मुताबिक जमीन का काश्तकार रहा है। इस संबंध में सिरसा तहसीलदार प्रदीप कुमार का कहना है कि पुलिस ने उनसे टू दी प्वाइंट रिपोर्ट मांगी थी। उसमें पिछले वर्ष के रिकार्ड मुताबिक डेरा प्रमुख कहीं भी काश्तकार या जमीन का मालिक नहीं है। उन्होंने पुराने रिकार्ड को नहीं खंगाला है। यहां बता दें कि सिरसा के तहसीलदार ने रिपोर्ट में बताया था कि डेरे के पास कृषि योग्य कुल 260 एकड़ भूमि है। इसमें कहीं भी राम रहीम मालिक या काश्तकार नहीं है। सारी भूमि डेरा सच्चा सौदा ट्रस्ट के ही नाम है। अब पुलिस ने भी रिपोर्ट में खामियां दर्शाते हुए रिपोर्ट दोबारा मांगने की बात कही है।
तहसीलदार ने राम रहीम के जेल जाने के बाद की रिपोर्ट सौंपी थी पुलिस विभाग को
डेरा के पास कुल 1200 एकड़ से अधिक भूमि
डेरा सच्चा सौदा के पास कुल 1200 एकड़ से अधिक भूमि है। इसमें से 790 एकड़ जमीन गांव शाहपुर बेगू के रकबे में पड़ती है। उसमें से 260 एकड़ भूमि कृषि योग्य है। जिसमें डेरा प्रमुख खुद को काश्तकार बताकर पैरोल की मांग कर रहा है। डेरा सच्चा सौदा की जमीन डेरा मुख्यालय से लेकर गांव नेजिया, शाहपुर बेगू और बाजेकां तक फैली है। करीब 100 एकड़ में बागवानी, 40 एकड़ में एलोवेरा और 20 एकड़ में सब्जियां बो रखी है। इसके अलावा करीब 100 एकड़ में कॉटन की खेती है। नहर के अलावा 22 मोटरों से खेती को पानी दिया जाता है। डेरा के सेवादार ही खेती संभालते हैं।

 

Have something to say? Post your comment