Sunday, September 22, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
 
Delhi

DELHI-डीजेबी के सीईओ समेत 20 से 25 कर्मचारियों को पूरी रात बीजेपी नेताओं ने बंधक बनाए रखा

June 13, 2019 06:04 AM

COURTESY NBT JUNE 13

डीजेबी के सीईओ समेत 20 से 25 कर्मचारियों को पूरी रात बीजेपी नेताओं ने बंधक बनाए रखा
वरुणालय में चला पूरी रात ड्रामा

 

कुर्सी को तोड़ डाला, टीवी पर गाने बजाए, कॉरिडोर पर किया कब्जा• 5 बजे विजय गोयल अपने कुछ कार्यकर्ताओं के साथ पानी की समस्या को लेकर सीईओ से मिलने पहुंचे• दस मिनट बाद करीब 20 से 25 कार्यकर्ता सीईओ ऑफिस में जबरन घुस आए, इन लोगों ने बाहर निकलने से इनकार कर दिया• देखते ही देखते वरुणालय में बीजेपी कार्यकर्ताओं की भीड़ जमा हो गई• छह बजे डीजेबी ने पुलिस से सुरक्षा की मांग की• साढ़े छह बजे पूरे कॉरिडॉर, सीढ़ियों और लॉबी पर कार्यकर्ताओं ने कब्जा जमा लिया• एक बजे डीजेबी की तरफ से पुलिस को पत्र लिखा गया• डेड़ बजे पुलिस मौके पर पहुंची और तीन बजे तक सुरक्षा के बीच अधिकारियेां व कर्मचारियों को बाहर निकाला गया• इस दौरान भी कर्मचारियों ने गाड़ी के आगे लेटकर अधिकारियों को रोकने की कोशिश की• विशेष संवाददाता, नई दिल्ली

 

पानी की किल्लत के बीच डीजेबी हेडक्वॉर्टर वरुणालय पर पूरी रात हाई वोल्टेज ड्रामा चलता रहा। डीजेबी के सीईओ समेत 20 से 25 कर्मचारियों को पूरी रात बीजेपी नेताओं ने बंधक बनाए रखा। इनमें दो से तीन महिलाएं भी थीं। बीजेपी नेता विजय गोयल के नेतृत्व में अपनी मांग रखने डीजेबी दफ्तर आए थे। देर शाम मीटिंग के बाद बीजेपी के नेता वरुणालय से वापस जाने की बजाय वहीं डट गए।

डीजेबी ऑफिस शाम छह बजे तक खुलता है। शाम पांच बजे विजय गोयल कुछ लोगों के साथ पानी की समस्याओं का हवाला देकर सीईओ से मिलने पहुंचे। सीईओ ऑफिस में आने के बाद कुछ देर बातचीत के बाद अन्य 20 से 25 पार्टी कार्यकर्ता जबरन सीईओ ऑफिस में घुस आए। करीब 6 बजे के आसपास डीजेबी ऑफिस में इतनी भीड़ जमा हो गई कि उसे संभालने के लिए जल बोर्ड की तरफ से पुलिस को कॉल किया गया।

इसके बाद तो कार्यकर्ताओं ने अधिकारियों के रूम के बाहर बने कॉरिडोर पर कब्जा जमा लिया। जिसकी वजह से डीजेबी ऑफिस व कर्मचारी बाहर नहीं आ पाए। ऑफिस में इस दौरान डीजेबी के मेंबर ड्रेनेज, डायरेक्टर समेत 15 बड़े अधिकारी भी शामिल थे। करीब एक बजे तक यही ड्रामा चलता रहा। इस दौरान जो लोग सीईओ ऑफिस में थे, उन्होंने कुर्सी को तोड़ डाला, टीवी पर गाने बजाए आदि सब किया। रात करीब एक बजे के करीब तक स्थिति बेकाबू होने लगी जब डीजेबी की तरफ से एरिया के थाना प्रभारी को एक पत्र लिखा गया और मांग की गई कि सिक्यॉरिटी देकर सभी फंसे अधिकारियों व कर्मचारियों को बाहर निकाला जाए।

जिसके बाद करीब डेढ़ बजे पुलिस वरुणालय में पहुंची। इस बीच सीईओ समेत अन्य सभी लोगों को पुलिस ने बाहर निकाला और गाड़ियों में बैठाकर रवाना किया। इस दौरान भी कार्यकर्ताओं ने मेंबर ड्रेनेज की गाड़ी के आगे लेटकर उन्हें रोकने की कोशिश की। लेकिन पुलिस ने उनसे कहा कि अगर आप ऐसा करेंगे तो हमें सख्ती करनी पड़ेगी। जिसके बाद सभी अधिकारी और कर्मचारी बाहर निकले। एक महिला अधिकारी ने बताया कि इस दौरान डीजेबी के सीईओ ने तीनों महिला अधिकारियों को अधिकारियों की गाड़ी में घर पहुंचाने की व्यवस्था की। करीब तीन बजे तक सभी अधिकारी बाहर निकल पाए।

Have something to say? Post your comment