Saturday, August 24, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अरुण जेटली के निधन के बाद हैदराबाद से दिल्ली लौट रहे हैं गृह मंत्री अमित शाहदिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली का एम्स में निधनअर्थव्यवस्था नहीं है स्टाक मार्केटपूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम को ईडी मामले में राहत, SC ने लगाई सोमवार तक गिरफ्तारी पर रोकफ्रांस के मंदिरों में जन्माष्टमी की धूम, पेरिस के इस्कॉन में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़जन्माष्टमी के अवसर पर सभी देशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं : राष्ट्रपति राम नाथ कोविंदसभी देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं, जय श्रीकृष्ण : PM मोदीआतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत-यूएई साथ-साथः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
 
Haryana

अब याद आई चौटाला परिवार की पुरानी तस्वीर

May 27, 2019 06:17 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR MAY 27

काका नै नगर निगम चुनाव और फिर जींद विधानसभा उपचुनाव में जीत का परचम लहराया। विपक्षी कहते रहे, अभी भाजपा की सरकार है। इसलिए परिणाम इनके पक्ष में जाने ही थे, लेकिन अब बड़े-छोटे हुड्‌डा समेत सभी 10 लोकसभा सीटों पर भाजपा जीती तो काका का कद बढ़ गया। किसी ने कहा, काका का सीएम से आगे अब ग्रेड बढ़ गया है। हरियाणा में चार सीटें ज्यादा जरूरी थी, जो विपक्ष का गढ़ रही हैं। काका की रणनीति और नमाे की जुगलबंदी ने सभी विपक्षी नेताओं के गढ़ ढहा दिए।
पहले एक कांटा निकाला, अब दो कांटे
जींद विधानसभा उपचुनाव से शुरू हुआ कांटा हरियाणा की राजनीति में फिर से आ गया। अब कांटा की चर्चा आगे बढ़ गई। हुआ यूं कि 10 लोकसभा सीटें जीतने के बाद सीएम आवास पर जमकर जश्न हुआ। ढोल की थाप चंद पल के लिए रोकी गई, क्योंकि काका खबरनवीसों से रूबरू हो रहे थे। बोले- जींद उप चुनाव में ज्यादातर कांग्रेसियों ने एक कांटा निकाला था, लेकिन अब दो और कांटे निकल गए हैं।
दो कैबिनेट मंत्रियों के रिपोर्ट कार्ड में लिखा गया फेल
लोकसभा चुनावों मंे जहां कांग्रेस, जेेजेपी, इनेलो, बसपा समेत बाकी सियासी दलों के रिपोर्ट कार्ड में जीरो आया है, वहीं मनोहर की क्लास में भी दो कैबिनेट मिनिस्टर फेल हो गए हैं। ज्यादातर विधानसभा सीटों पर भी लीड लेने वाले भाजपा के उम्मीदवार इनके विधानसभा में पिछड़ गए। इनमें एक तो खाता-बही संभालने वाले मंत्री जी हैं और दूसरे खेती बाड़ी महकमे की बागडोर संभाले हुए हैं। अब देखना होगा कि अगले चुनाव में रिपोर्ट कार्ड का क्या असर होगा।
अरोड़ा का इस्तीफा और उनकी सक्रियता
सियासी दलों में 5वें नंबर पर रही इनेलो बड़ी पंचायत के चुनाव में हारी तो जिम्मेदारी 15 साल से प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने ली। इस्तीफा दिया, लेकिन वह स्वीकार नहीं हुआ। अरोड़ा पंजाबी हैं और इनेलो शुरू से इन्हें जोड़कर पंजाबियों को अपने पक्ष में करने में सफल रही, लेकिन अब काका पंजाबी नेता बन गए हैं। वे प्रदेशाध्यक्ष बने रहेंगे, लेकिन देखना होगा कि विधानसभा चुनाव तक वे पंजाबियों में कितनी पैठ बना पाते हैं।
अब याद आई चौटाला परिवार की पुरानी तस्वीर
लोकसभा चुनाव में करारी हार झेलने वाली जजपा और इनेलो काे एक करने के लिए सोशल मीडिया पर प्रयास शुरू हो रहे हैं। फेसबुक से लेकर वाट्सएप पर परिवार के पुराने फोटो और वीडियो अपलोड किए जा रहे हैं, ताकि पुरानी यादें ताजा होने से कुछ मनमुटाव दूर हों, लेकिन तीर कमान से निकल चुका है। हालांकि सियासत में कभी कुछ भी हाे सकता है। -ओएसडी

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
Badal’s advice to feuding Chautalas ahead of polls may be too late पुलिस ने विपासना को मोस्टवांटेड सूची से बाहर किया, आदित्य 2 साल से फरार पंचकूला हिंसा : सीबीआई कोर्ट में गुरमीत को पेश करने के दौरान हुआ था बवाल पहली बार हुई लिखित परीक्षा ताे मास्टर बन गए एचसीएस, 18 में से 16 पदों पर ग्रुप सी के शिक्षकाें ने जमाया कब्जा घग्गर नदी में पानी के तेज बहाव से हर्बल पार्क से लेकर खाली एरिया की जमीन नदी में बही पंचकूला एक्सटेंशन सेक्टरों के लोगों ने पिछले साल सेफ्टी वॉल टूटने की दी थी कंप्लेंट, नहीं हुई कार्रवाई एचएसवीपी ड्राफ्ट की एन्हांसमेंट पॉलिसी पर तीन जजों की रिपोर्ट होगी लागू...
ADGP श्रीकांत जाधव के ट्रांसफर पर विदाई पार्टी, तमाम अफसर पहुंचे
हरियाणा लोक सेवा आयोग ने एचसीएस ग्रुप सी का रिजल्ट घोषित किया
अर्जुन अवार्डी मुक्केबाज पी/एस.आई. कविता चहल ने वर्ल्ड पुलिस गेम में हासिल किया स्वर्ण पदक
हरियाणा पुलिस फिक्की स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित
हरियाणा में जीएसटी अपिलेट ट्रिब्युनल के बैंच के गठन का ऐलान:कैप्टन अभिमन्यु