Saturday, August 24, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
अरुण जेटली के निधन के बाद हैदराबाद से दिल्ली लौट रहे हैं गृह मंत्री अमित शाहदिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता अरुण जेटली का एम्स में निधनअर्थव्यवस्था नहीं है स्टाक मार्केटपूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम को ईडी मामले में राहत, SC ने लगाई सोमवार तक गिरफ्तारी पर रोकफ्रांस के मंदिरों में जन्माष्टमी की धूम, पेरिस के इस्कॉन में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़जन्माष्टमी के अवसर पर सभी देशवासियों को बधाई और शुभकामनाएं : राष्ट्रपति राम नाथ कोविंदसभी देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं, जय श्रीकृष्ण : PM मोदीआतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत-यूएई साथ-साथः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
 
Editorial

NBT EDIT-भंवर में कांग्रेस

May 27, 2019 06:04 AM

COURTESY NBT MAY 27

भंवर में कांग्रेस


लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस में खलबली है। हार के कारणों पर विचार के लिए शनिवार को कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक हुई। कहा जा रहा है कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की, लेकिन इसे खारिज कर दिया गया। इसमें कोई दो राय नहीं कि कांग्रेस विश्वसनीयता के सबसे बड़े संकट से जूझ रही है। उसके शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठ रहे हैं और उसकी जमीन खिसकती नजर आई है। लोकसभा चुनाव के नतीजों ने साबित किया कि पार्टी में कोई बड़ा अंदरूनी संकट है, जिसे नजरअंदाज किया जा रहा है। आज के दौर में चुनाव लड़ने के लिए जिस कुशल प्रबंधन और प्रफेशनलिज्म की जरूरत है उसका कांग्रेस में अभाव दिखता है। पिछले कुछ वर्षों में शायद ही कभी पार्टी ने व्यापक सदस्यता अभियान चलाया हो या कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण के लिए कोई कार्यशाला या शिविर आयोजित किए हों या उन्हें एकजुट करने के लिए किसी भी तरह की पहल की हो। आलाकमान ने नीचे तक अपना संगठनात्मक ढांचा खड़ा करने में कोई रुचि नहीं दिखाई। पहले पार्टी में कई ऐसे जमीनी नेता हुआ करते थे, जिनकी क्षेत्र या राज्य से ऊपर पहचान हुआ करती थी। उनकी बातों का एक असर हुआ करता था और वे अपने दम पर अपनी पार्टी को वोट दिलाया करते थे। पर अब ऐसे नेताओं का अकाल हो गया है। कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार पूरी तरह गांधी परिवार पर आश्रित हो गए हैं। इस चुनाव में ही कई सीनियर नेताओं ने अपने क्षेत्र से भी दूरी बनाए रखी। दरअसल सोनिया गांधी के कमान संभालने के बाद पार्टी का चरित्र बहुत बदला है। इस पर शहरी संभ्रांत वर्ग का वर्चस्व हो गया है जो इसे एक गैर सरकारी संगठन की तरह चला रहा है। वह सिद्धांतों में जीने वाला एक तबका है जिसे अंदाजा ही नहीं कि देश का सामाजिक यथार्थ कितना बदल चुका है। कांग्रेस अर्थशास्त्रियों के मशविरे से किसानों के लिए योजना तो बनाती है, लेकिन उसके पास ऐसा कोई नेता नहीं है जो किसानों के साथ रोज उठता-बैठता हो और उनका दुख-दर्द पूछता हो। कांग्रेस जनता से संवाद के नए तरीके नहीं ढूंढ पाई। आज सोशल मीडिया के इस दौर में जनता तक अपनी बात पहुंचाने के लिए नए सूत्रों, नए मुहावरों की जरूरत है, जिसे बीजेपी ने बेहतर समझा है। कांग्रेस ने मोदी को जुमलेबाज तो कहा, पर उनके जुमलों की काट नहीं खोज पाई। सोशल मीडिया जैसे प्लैटफॉर्म पर कभी कांग्रेस की मुखर उपस्थिति नजर नहीं आई। कांग्रेस अपनी पहचान को लेकर भी दुविधा में है। उसे तय करना होगा कि वह अपना धर्मनिरपेक्ष स्वरूप बरकरार रखे या उदार हिंदुत्व अपनाए। क्या इन मुद्दों पर पार्टी में खुलकर बातचीत होगी या 2014 की तरह उन पर लीपापोती कर दी जाएगी/ अगर कांग्रेस को प्रासंगिक बने रहना है तो उसे आमूल-चूल बदलाव के लिए तैयार होना पड़ेगा।
कार्यसमिति की बैठक

Have something to say? Post your comment