Wednesday, July 24, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
प्रदेश में 3 दिन भारी बारिश के आसार, 13 जिलों में ऑरेंज अलर्टकर्नाटक: BJP कार्यालय के बाहर भारी पुलिस बल तैनातपाकिस्तान से PoK पर बात होगी: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंहमध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की Z कैटेगरी की सुरक्षा बरकरार रहेगीदिल्ली के सदर बाजार में 5 मंजिला इमारत गिरी, कोई हताहत नहींपंजाब: जिलाधिकारियों को नोटिस जारी, अगले 3 दिन राज्य में भारी बारिश के लिए तैयार रहने को कहाहरियाणा लोक। सेवा आयोग का एग्जाम जो आज होना था वो एक दिन पहले खट्टर सरकार ने कैंसल कर दिया:करण सिंह दलालहरियाणा किलोमीटर स्कीम के घोटाले को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल,उनके मंत्री और बड़े अफ़सर के खिलाफ हम हाई कोर्ट में जाएंगे और उनको सजा दिलवाकर चैन से बैठूंगा:करण सिंह दलाल
 
Haryana

BHASKAR EDIT- राजनीतिक दलों को जब तक कुछ खोने का डर नहीं होगा, आचार संहिता यूं ही टूटती रहेगी।

May 16, 2019 05:55 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR MAY 16

चुनाव आयोग को 17वीं लोकसभा के इस चुनाव को आगामी चुनाव में केस स्टडी की तरह लेना चाहिए। क्या लोकसभा के चुनाव सात चरणों में होने चाहिए? इस बार चुनाव में गाली-गलौज, वाद-विवाद, तर्क-वितर्क, मारपीट और तोड़फोड़ की घटनाओं को देखने से शायद यही स्पष्ट होता है कि चुनाव तीन या चार दौर से लंबे नहीं होने चाहिए। लंबे दौर के इस चुनाव कार्यक्रम की वजह से प्रधानमंत्री और राहुल गांधी जैसे नेताओं को एक-एक राज्य में दस से बारह चुनावी सभाएं, रोड शो करने का अवसर मिला। स्थानीय नेता तो हर संसदीय क्षेत्र में दो से चार सभाएं करने में कामयाब हो गए। जितना लंबा समय उतना ही दुरुपयोग। चुनाव आचार संहिता की जिस तरह धज्जियां उड़ीं शायद ही इससे पहले ऐसी नौबत आई हो। सबसे महत्वपूर्ण बात यह रही कि चुनाव आयोग कई मामलों में फैसला लेने की स्थिति में असहाय, असमजंस में नज़र आया। नेताओं के मुंह से निकलने वाले विवादास्पद बयानों को छोड़ भी दें तो इस बार नेताओं द्वारा चुनाव आचार संहिता को खुलेआम तोड़ा-मरोड़ा गया। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच में जिस तरह की जमीनी जंग देखने को मिली उससे चुनाव आयोग की क्षमता और साख पर सवाल उठे। इस बार चुनाव में जातिवाद, क्षेत्रवाद, वर्गवाद के आधार पर जैसा पक्षपात देखने को मिला शायद ही पहले कभी दिखा हो। राजनीतिक दलों ने तो एक तरह से चुनाव आयोग की पूरी अनदेखी ही की, क्योंकि चुनाव आयोग सख्ती से पेश नहीं आया। बड़ी-से-बड़ी सजा यानी 72 घंटे के बैन से भी बात नहीं बनी। चुनाव आयोग की सख्ती का खौफ तो था ही नहीं आया, आयोग खुद कहीं-न-कहीं सातों चरणों के दबाव में नज़र आया। चुनाव आयोग राजनीतिक दलों के खर्च पर ही कड़ाई करता तो शायद चुनाव कुछ नए फॉर्मेट में नज़र आता लेकिन, हुआ बिल्कुल उल्टा। पार्टियों ने आयोग की हर कड़ाई का रास्ता ढ़ूंढ़ रखा था। लोकसभा चुनाव में अगर चुनाव आयोग जैसी संस्थाओं की विश्वसनीयता पर सवाल खड़े होने लगे तो आगे स्थिति और खराब होगी। बिना भय नेताओं की सेहत पर कोई असर नहीं होता। हर राज्य की अपनी एक कहानी है। ऐसे में चुनाव आचार संहिता के पालन का एक ही मूलमंत्र होना चाहिए- कड़ाई। राजनीतिक दलों को जब तक कुछ खोने का डर नहीं होगा, आचार संहिता यूं ही टूटती रहेगी।

Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
प्रदेश में 3 दिन भारी बारिश के आसार, 13 जिलों में ऑरेंज अलर्ट हरियाणा लोक। सेवा आयोग का एग्जाम जो आज होना था वो एक दिन पहले खट्टर सरकार ने कैंसल कर दिया:करण सिंह दलाल
हरियाणा किलोमीटर स्कीम के घोटाले को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल,उनके मंत्री और बड़े अफ़सर के खिलाफ हम हाई कोर्ट में जाएंगे और उनको सजा दिलवाकर चैन से बैठूंगा:करण सिंह दलाल
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल भष्टाचार में संग्लन है:करण सिंह दलाल
चंडीगढ़:करण सिंह दलाल ने हरियाणा किलोमीटर स्कीम को लेकर खट्टर सरकार पर निशाना साधा
कुलदीप बिश्नोई के डायमंड कारोबार को लेकर घर और प्रतिष्ठानों पर छापे
गुरुग्राम: छत्तीसगढ़ के पूर्व सीएम रमन सिंह सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती PANIPAT - मॉडल टाउन के पॉल ट्रांसपोर्टर घराने को मिला था प्रदेश में 60 बसें चलाने का ठेका, 20 के रेट में धांधली का केस दर्ज हरियाणा उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष बीके कुठियाला भगोड़े घोषित KALKA-अवैध कॉलोनी के लिए काटी डीपीसी, फिर भी नहीं सुधरा भू-माफिया