Wednesday, May 22, 2019
Follow us on
Haryana

गु‌ड़गांव सीट पर पिछली बार की तुलना में 1 लाख 28 हजार 258 अधिक वोटर्स ने किया मत का प्रयोग

May 14, 2019 05:46 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR MAY 14
गु‌ड़गांव सीट पर पिछली बार की तुलना में 1 लाख 28 हजार 258 अधिक वोटर्स ने किया मत का प्रयोग
विश्लेषण : 9 विधानसभाओं में बादशाहपुर में हुई सबसे ज्यादा वोटिंग, 2 लाख 42 हजार 606 ने डाले वोट

गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र में इस बार 3.20 लाख वोट बढ़ने का भी वोटिंग में कोई खास अंतर नहीं रहा। इस बार कुल 14 लाख 48 हजार 905 मतदाताओं ने वोट डाले जो कि वर्ष 2014 के चुनाव से महज 1,28,258 अधिक है। पिछली बार कुल 13 लाख 20 हजार 647 वोट पड़े थे, जिसमें से 22 प्रत्याशी हिस्सेदार थे और हार-जीत में 2 लाख 74 हजार 722 वोटों का अंतर था। विजेता रहे भाजपा प्रत्याशी राव इंद्रजीत को कुल 6 लाख 44 हजार 780 वोट मिले थे, जबकि इनेलो के जाकिर हुसैन ने 3 लाख 70 हजार 058 मत प्राप्त किये थे।
बादशाहपुर में पड़े वोटों पर सब की नजर
पिछले चुनाव की तरह ही इस बार भी सब की नजर बादशाहपुर विधानसभा क्षेत्र के परिणाम पर रहेगी। गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र के सभी 9 हलकों में से सबसे अधिक 2 लाख 42 हजार 606 वोट बादशाहपुर हलके में पड़े हैं। यहां से जीत दर्ज करने वाले प्रत्याशी के लिए आगे का रास्ता आसान हो सकता है। पिछले चुनाव में इस हलके में 2 लाख 10 हजार 817 वोट पड़े थे, जिसमें से विजेता प्रत्याशी को 1 लाख 30 हजार 918 वोट मिले थे, जबकि दूसरे नंबर पर प्रत्याशी को 18 हजार 876 मत मिले थे। इस हलके में अन्य प्रत्याशियों को भी अपेक्षाकृत अधिक वोट मिले थे। बादशाहपुर में कांग्रेस के राव धर्मपाल को 22 हजार 193 वोट और आप से प्रत्याशी योगेंद्र यादव को 21 हजार 670 वोट मिले थे।
फिरोजपुर-झिरका के रणयाली के बूथ नंबर 154 पर 92.03% वोटिंग
2014 में विजेता रहे भाजपा के उम्मीदवार राव इंद्रजीत को कुल 6 लाख 44 हजार 780 वोट मिले थे
गुड़गांव में इस बार बढ़े 18 हजार 916 नए वोट
दूसरे नंबर पर गुड़गांव हलका है, जिसमें कुल 2 लाख 11 हजार 504 वोट पड़े हैं, जोकि पिछले चुनाव की तुलना में महज 18 हजार 916 वोट अधिक हैं। पिछले चुनाव में इस हलके में 1 लाख 92 हजार 588 वोट पड़े थे, जिसमें से विजेता को 1 लाख 25 हजार 164 वोट मिले थे। इसी तरह से पटौदी हलके में इस बार 1 लाख 56 हजार 679 वोटों में 24 प्रत्याशियों की हिस्सेदारी होगी। इस हलके में पिछली बार 1 लाख 39 हजार 171 वोटों में 22 प्रत्याशियों की हिस्सेदारी थी।
सोहना में 1 लाख 54 हजार 38 वोटों पर लड़ाई
सोहना विधानसभा क्षेत्र में कुल 1 लाख 54 हजार 38 वोटों पर लड़ाई है, जोकि पिछले चुनाव से महज 12 हजार 357 वोट अधिक है। इसलिए इस हलके में भी पहले जैसी ही स्थिति रहेगी।
नूंह में महज 21 हजार 121 वोट की वृद्धि
उधर, मेवात के अंतर्गत नूंह हलके में इस बार 1 लाख 18 हजार 417 वोट पड़े हैं, जोकि पिछली बार से महज 4180 वोट अधिक हैं। हालांकि, पिछली बार इस हलके में विजेता इंद्रजीत को महज 21 हजार 121 वोट ही मिले थे, जबकि इनेलो प्रत्याशी जाकिर को 69 हजार 175 मत मिले थे।
राजकीय कन्या महाविद्यालय में स्ट्रांग रूम की सुरक्षा में खड़े तैनात जवान।
पिछली बार की तुलना में फिरोजपुर में 2823 वोट ज्यादा
इसी तरह से फिरोजपुर झिरका में भी कोई खास अंतर नहीं दिखाई दे रहा है। इस हलके में पिछली बार जहां 1 लाख 35 हजार 467 वोट पड़े थे, वहीं इस बार 1 लाख 38 हजार 290 मत पड़े। पिछले चुनाव की तुलना में इस बार महज 2823 वोट अधिक पड़े हैं।
पिछली बार से पुन्हाना में कम पड़े 4376 वोट
मेवात के पुन्हाना में स्थिति विपरीत है। यहां पिछले चुनाव की तुलना में इस बार 4376 वोट कम पड़े हैं। पिछले चुनाव में इस हलके में कुल 1 लाख 11 हजार 569 वोट पड़े थे, जबकि इस बार केवल 1 लाख 07 हजार 193 वोटों पर संतोष करना पड़ा है।
जिले में 62.20 प्रतिशत मतदाताओं ने एपिक का किया प्रयोग
फिरोजपुर झिरका| जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त पंकज ने बताया कि चुनाव में जिले की तीनों विधानसभाओं का औसत मतदान 67.33% रहा है। नूंह में 71.92%, फिरोजुर-झिरका में 66.94% व पुन्हाना में मतदान 63.23% रहा। उन्होंने बताया कि फिरोजपुर-झिरका विधानसभा के गांव के रणयाली के बूथ नंबर 154 का मतदान 92.03 % रहा है जो पूरे विधानसभा क्षेत्र सहित पूरे जिले में पहले नंबर पर रहा है। वहीं नूंह विधान सभा के गांव भंडगा का बूथ नंबर 127 का मतदान 91.98% रहा है जो नूंह विधान सभा में पहले स्थान पर है इसी प्रकार पुन्हाना विधान सभा क्षेत्र के गांव गुबराढ़ी बूथ नंबर 13 का मतदान 84.19% रहा है जो पुन्हाना विधान सभा क्षेत्र में पहले नंबर पर है। इसी तरह पुन्हाना विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम मतदान सिंगार गांव के बूथ नंबर 109 पर 45.44% रहा है व फिरोजपुर विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम मतदान गांव नगीना बूथ नंबर 64 में 45.90% रहा जबकि नूंह विधान सभा में सबसे कम मतदान गांव घासेड़ा के बूथ नंबर 60 में 54.21% रहा।
बावल और रेवाड़ी में पिछली बार से अधिक मतदान
बावल में 1 लाख 57 हजार 29 वोट पड़े हैं, जोकि 2014 की तुलना में 23,194 वोट अधिक हैं। पिछले वर्ष इस हलके में कुल 1 लाख 33 हजार 835 वोट पड़े थे। रेवाड़ी में भी यही स्थिति रही। इस बार रेवाड़ी हलके में कुल 1 लाख 63 हजार 486 वोट पड़े, जोकि पिछली बार की तुलना में 22 हजार 564 वोट अधिक हैं।
9 विस में वर्ष 2019 व 2014 पड़े वोटों पर एक नजर
विधानसभा क्षेत्र वर्ष 2019 वर्ष 2014 अंतर
बावल 157029 133835 23194 बढ़े
रेवाड़ी 163486 140922 22564 बढ़े
पटौदी 156679 139171 17508 बढ़े
बादशाहपुर 242606 210817 31789 बढ़े
गुड़गांव 211504 192588 18916 बढ़े
सोहना 154038 141681 12357 बढ़े
नूंह 118417 114237 21121 बढ़े
फिरोजपुर झिरका 138290 135467 2823 बढ़े
पुन्हाना 107193 111567 4376 घटे
कुल 1448905 1320647 128258 बढ़े
डीएलएफ फेस-3 कम्युनिटी सेंटर में बने केंद्र में महज 33.68% वोटिंग
गुड़गांव| इस बार बादशाहपुर विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम वोटिंग बूथ नंबर 83 डीएलएफ फेस-3 कम्युनिटी सेंटर में महज 33.68 फीसदी हुई। इस बूथ पर कुल 766 मतदाताओं में से महज 258 ने अपने अधिकार का प्रयोग किया, जिसमें 132 पुरूष और 126 महिला शामिल हैं। इस बार गवर्नमेंट प्राइमरी स्कूल सेक्टर-14 में सबसे अधिक 83.81 फीसदी वोटिंग हुई। इस बूथ पर कुल 562 मतदाताओं में से 471 ने मत देने के अपने अधिकार का प्रयोग किया।
श्रीराम स्कूल में सुधार
बादशाहपुर विधानसभा क्षेत्र स्थित बूथ नंबर 86 श्रीराम स्कूल ब्लॉक 5 में 57.66 फीसदी वोटिंग हुई। इस बूथ पर कुल 1273 मतदाताओं में से 734 ने वोट डाले। वर्ष 2014 के चुनाव में इस बूथ पर महज 27.99 फीसदी वोटिंग हुई थी

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
मीडिया मैंनेजमैंट - चुनावी नतीजे HARYANA- खनन माफिया ने पुलिस और सिंचाई विभाग की टीमों को बंधक बनाकर दी धमकी, बोले- दोबारा दिखे तो जिंदा नहीं जा पाओगे कांग्रेस की चिट्‌ठी पर निर्भर करेगा किरण का नेता प्रतिपक्ष बनना, स्पीकर ने मांगा पार्टी का प्रस्ताव HCS EXAM RESULT-जनरल कैटेगरी की कटऑफ 130.31 और ईएसएम एससी की सबसे कम 72.01 रही खनन माफिया ने पोकलेन मशीन से खोद डाली 10 फुट गहरी जमीन खनन अधिकारी की शिकायत पर केस दर्ज AMBALA-हर माह Rs.1.26 करोड़ खर्च, 1100 में से 200 स्वीपर रोजाना मार रहे फरलो, विज कराएंगे घोटाले की जांच Haryana FORMER MLA faces two fresh FIRS for forging docs in 2009 HARYANAStray cattle count up, gaushalas in Haryana reel under space shortage, fund crunch FridaysForFuture: Gurgaon students join global stir against climate crisis Haryana performs better than Punjab on key fiscal parameters