Sunday, June 07, 2020
Follow us on
BREAKING NEWS
बिहार: अमित शाह की डिजिटल रैली के विरोध में RJD समर्थकों ने पीटी थालीअब दिल्ली सरकार के अधीन अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवासियों का होगा इलाजदिल्ली से सटे इलाकों के लिए खोल दिए जाएंगे सभी बॉर्डरदिल्ली में कल से खुलेंगे धार्मिक स्थल, मॉल और रेस्टोरेंट, होटल पर पाबंदी जारीपानीपत में नेशनल हाईवे व प्रशासन की नाकामी आई सामने, हाईवे बना जलाशयहरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता आज दोपहर 1 बजे पंचकूला अपने निवास से सम्पर्क अभियान का शुभारंभ करेंगेअमित शाह की बिहार में डिजिटल रैली आज, RJD विरोध में मनाएगी गरीब अधिकार दिवसलॉकडाउन में नौकरी गंवाने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए मोदी सरकार ने तैयार किया मेगा प्लान
Chandigarh

किरण खेर को नोटिस मिलने के 22 घंटे बाद ईडी की 6 साल 4 दिन पुराने मामले में कार्रवाई-पवन बंसल के भांजे के 89.98 लाख रु. किए अटैच

May 08, 2019 05:42 AM

COURTESY DAINIK BHASKAR MAY 8

किरण खेर को नोटिस मिलने के 22 घंटे बाद ईडी की 6 साल 4 दिन पुराने मामले में कार्रवाई-पवन बंसल के भांजे के 89.98 लाख रु. किए अटैच
असलियत: कोर्ट में 6 साल पहले से जमा है पूरी रकम | बंसल का आरोप- बौखला गई हैं खेर, इसलिए किया ईडी का मिसयूज

सोमवार शाम को अपने भाषण में रेलगेट का नाम यूज करने पर इलेक्शन कमीशन ने भाजपा की कैंडिडेट किरण खेर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। इस नोटिस के 22 घंटे बाद ही पवन बंसल के भांजे विजय सिंगला की गिरफ्तारी के मामले में इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने हलचल मचा दी। ईडी का ट्वीट जारी हुआ कि पवन बंसल के भांजे के 89.98 लाख रुपए अटैच कर लिए गए हैं। रेल भर्ती में हुई गिरफ्तारी के पूरे 6 साल 4 दिन बाद ईडी ने बंसल के भांजे के 89.98 लाख रुपए अटैच किए हैं।
इसके बाद कांग्रेस ने तुरंत आरोप लगाया कि बीजेपी ने ईडी का मिसयूज किया है। बाद में असलियत सामने आई कि 6 साल पहले जो रिश्वतखोरी का पैसा पकड़ा गया था, उसे अटैच किया गया है। पैसा भी वह जो पहले ही कोर्ट के मालखाने में 6 साल से जमा है। यानि केस का फैसला आने पर यह पैसा ईडी जब्त कर लेगी। इसी मामले में मंगलवार शाम को पवन बंसल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। कहा कि शहर के लोग मुझे कह रहे थे कि आप जीत रहे हो, लेकिन मैं मानता नहीं था। अब ईडी से पुराने मामले में जानबूझकर जिस तरह ट्वीट करवाकर मेरा नाम घसीटा गया है, उससे विपक्षी भी जान चुके हैं कि मैं जीत रहा हूं। किरण खेर बूरी तरह से बौखला गई हैं और इस तरह के हथकंडे अपना रही हैं। बंसल नेे कहा कि केस कोर्ट में है, मुझे न सीबीआई और न कोर्ट ने आरोपी बनाया। बीजेपी वाले अलग से कोर्ट भी गए, कोर्ट ने भी उनकी अपील खारिज की। इसके बाद एकाएक ईडी का इलेक्शन से 12 दिन पहले इस तरीके से मामला उठाना कई सवाल पैदा उठाता है। नाम लिखना ही था तो सिर्फ विजय सिंगला का नाम लिखते, जानबूझकर मेरा नाम धकेला गया है। इसके खिलाफ कोर्ट भी जाऊंगा।
पवन बंसल ने किरण खेर पर ईडी के दुरुपयोग का आरोप लगाया।
रेलवे भर्ती मामले पर कोई जांच नहीं कर रहा ईडी
रेलवे भर्ती में हुई रिश्वतखोरी के मामले की कोई जांच ईडी के पास है ही नहींं। उस मामले में चार्जशीट जारी हो चुकी है। मामला कोर्ट में पेंडिग हैं। ईडी बस मनी लाॅन्डरिंग के मामले की जांच कर रही है और न ही उनके पास पवन बंसल के खिलाफ कोई जांच पेंडिग है।
रेलवे भर्ती पर... बंसल का कहना है कि जिस महेश कुमार की रेलवे मेंबर इलेक्ट्रिकल पोस्ट को लेकर विवाद था, उस पोस्ट को मैं पहले ही भर चुका था। खुद सीबीआई ने यह बात मानी है। जो पोस्ट मैं पहले ही भर चुका था, उसके नाम पर अगर कोई गलत डिमांड करता है तो उसका नतीजा उसे ही भुगतना होगा।
शर्म आनी चाहिए खेर को, जो इस तरह अपनी साख बचाने के लिए ईडी का इस्तेमाल कर रही हैं। मैंने इलेक्शन कमीशन को शिकायत दे दी है। मैं आज तक बेदाग रहा हूं। इस बार जीता तो संसद में खुद इनके बीच में जाकर बोलूंगा कि इस मुद्दे पर बहस करें। 5 सालों में शहर की जनता का कोई काम नहीं हुआ। पवन बंसल
भाजपा कैंडिडेट ने भेजा डिपार्टमेंट को जवाब
कोई वाॅयलेशन नहीं तो वापस लिया जाए शोकाॅज नोटिस
चंडीगढ़ | किरण खेर ने इलेक्शन डिपार्टमेंट के शोकाॅज नोटिस पर जवाब भेजकर कहा है कि ये नोटिस वापस लिया जाए, क्योंकि उन्होंने वाॅयलेशन नहीं की है। एडवोकेट पंकज चांदगोठिया की तरफ से शिकायत की गई थी, जिसकी वेरिफिकेशन करने के बाद इलेक्शन डिपार्टमेंट की तरफ से किरण खेर को शोकाॅज नोटिस भेजा गया था। शिकायत थी कि खेर ने सोशल मीडिया पर चंडीगढ़ के लिए मेट्रो या मोनोरेल की जरूरत के बारे में लिखते हुए रेलगेट का जिक्र किया था। इस पर अब खेर की तरफ से डिस्ट्रिक्ट नोडल आॅफिसर चंडीगढ़ कम एडिशनल कमिश्नर एमसी चंडीगढ़ को रिप्लाई फाइल किया गया। लिखा कि जिस लाइन को लेकर कंप्लेंट की गई है, उसमें किसी भी तरह से रेलवे स्कैम में किसी भी नाम की तरफ नहीं बताया गया है। साथ ही रेलगेट शब्द से भी किसी के नाम को किसी भी तरह से नहीं जोड़ा गया है

Have something to say? Post your comment