Monday, May 20, 2019
Follow us on
National

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट : छाती से ऊपर का हिस्सा पड़ गया था नीला तड़के 2 से 4 के बीच हुई रोहित की हत्या

April 20, 2019 06:09 AM

COURTESY NBT APIRL 20

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट : छाती से ऊपर का हिस्सा पड़ गया था नीला
तड़के 2 से 4 के बीच हुई रोहित की हत्या

 

मैक्स अस्पताल की इमरजेंसी को कॉल किया गया, राेिहत की मां वहीं थीं
रोहित को मैक्स लाया गया, वहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर िदया
अगले दिन यानी मंगलवार शाम उन्हें देखा गया
रोहित सो गए, सोने से पहले उन्होंने डिनर भी किया था


सोमवार रात रोहित शेखर कोटद्वार से

वोट देकर घर लौटे थे
क्या हुआ था उस रात
एनबीटी ने शुक्रवार के अंक में ही जता दी थी हत्या की आशंका।
गुरुवार शाम को एम्स के पांच डॉक्टरों ने दी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट
File Photo
Maneesh.Aggarwal@timesgroup.com

 

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे एन. डी. तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या मंगलवार तड़के 2 से 4 बजे के बीच की गई थी। एम्स की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से यह बात सामने आई है। छाती से ऊपर का उनका शरीर गहरा नीला पड़ चुका था। नाक के आगे काफी सारा खून जमा था। वह डिफेंस कॉलोनी स्थित अपनी कोठी की पहली मंजिल पर एक छोटे से रूम के सिंगल बेड पर सीधे लेटे हुए मिले थे। घर के नौकरों और परिजनों से पुलिस के सवाल-जवाब में विरोधाभास मिला। पुलिस के सामने इस मामले में कई अनसुलझे रहस्य हैं, जिनसे पर्दा उठाना है।

मामले की जांच कर रही क्राइम ब्रांच इस सवाल का जवाब भी ढूंढ रही है कि सोमवार रात 11 बजे से मंगलवार शाम 4 बजे तक घर में किसी ने भी उनकी सुध क्यों नहीं ली/ शाम 4 बजे इस घटना के बारे में पता लग गया था तो फिर मेडिकल हेल्प लेने में 41 मिनट क्यों लगे। शाम 4:41 बजे मैक्स साकेत को फोन किया गया।

कोठी में लगे सीसीटीवी में यह दिखाई दे रहा है कि मंगलवार शाम 4 बजे जब रोहित के बारे में सबसे पहले नौकर भोगिंदर मंडल को पता लगा। इसके बाद घर में अफरातफरी मची। रोहित को कोठी की पहली मंजिल से नीचे लाया गया। उनकी पत्नी उन्हें सीपीआर देती दिखाई दे रही हैं, लेकिन यह प्रयास बहुत अधिक नहीं किए गए लग रहे थे। मामले की जानकारी तुरंत पुलिस और अस्पताल को क्यों नहीं दी गई।

पुलिस को जांच करने से क्यों रोका/

सबसे पहले मौके पर पहुंची डिफेंस कॉलोनी पुलिस को घरवालों ने लगातार जांच करने से रोका। घर वाले पुलिस से लगातार कहते रहे कि रोहित को तो हार्ट अटैक हुआ है। आप लोग क्यों आए हैं/ पुलिस की कोई जरूरत नहीं है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि जब मामला संदिग्ध था तो फिर घरवालों ने पुलिस को जांच करने से क्यों रोका। उन्हें कैसे पता चला कि रोहित शेखर का हार्ट फेल हुआ है।

शक है कि कोई जहरीली चीज दी गई

रोहित शेकर का शरीर छाती से ऊपर गहरा नीला पड़ गया था। दोनों कंधे काले हो गए थे। इससे यह शक गहराता है कि हत्या करने से पहले क्या उन्हें कोई जहरीला पदार्थ दिया गया था। जांच करने वाली टीम की कहना है कि आमतौर पर इस तरह से शरीर का रंग जब काला या गहरा नीला पड़ता है तो इसमें पॉइजनिंग के चांस काफी अधिक होते हैं। शक है कि हत्या करने में आसानी हो इस वजह से रोहित को पहले जहर दिया गया हो।

पेट में नहीं था चिकन : एम्स में हुए रोहित के शव के पोस्टमॉर्टम में डॉक्टर्स को उनके पेट से रोटी, चावल और दाल मिली है। खाना पूरी तरह पचा नहीं था। पुलिस ने जब नौकरों और मेड से पूछताछ की तो एक मेड ने पुलिस को बताया था कि उन्हें चिकन भी परोसा गया था। ऐसे में सवाल उठता है कि चिकन कहां गया/ क्योंकि वहां किसी प्लेट में कोई लेग पीस नहीं मिला।

रोहित वाले कमरे की फुटेज नहीं

कोठी की पहली मंजिल के जिस रूम में रोहित का शव मिला। केवल उस रूम के गेट को छोड़ते हुए कोठी के लगभग तमाम हिस्सों में सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जाती थी। पुलिस ने जब्त की सीसीटीवी फुटेज में काफी चीजें देखी हैं। एक भी फुटेज में रोहित के कमरे के अंदर आने-जाने वाली कोई फुटेज नहीं हुई है। बताया जाता है कि उनके कमरे को कवर करने वाले कैमरे का एंगल मुड़ा हुआ था। यह जानबूझकर किया गया या अनजाने में पता नहीं।

अलग-अलग बयान: घर के नौकरों और परिजनों से पुलिस पूछताछ में कई बयानों में विरोधाभास मिले। एक नौकर ने कहा कि साहब नशे में थे तो दूसरे ने कहा कि नहीं साहब तो शराब पीते ही नहीं थे। सीसीटीवी कैमरे में रोहित के पैर लड़खड़ाते साफ नजर आ रहे थे और साथ में एक नौकर शराब की बोतल लिए भी सीढ़ियों पर उनके साथ चढ़ता नजर आया। इसके अलावा उनके कमरे में जाने के टाइमिंग में भी फर्क आया है। मामले में 10 से अधिक लोगों से पूछताछ की जा चुकी है। इसमें घर के नौकर और परिजन शामिल हैं।

खून से सने थे तकिया और गद्दा

कमरे को देखकर साफ था कि यहां काफी खून निकला था। हालांकि, पुलिस के जाने से पहले रोहित को नीचे उतार लिया गया था। रूम को देखने से पता लगता है कि इसमें रखे तकिये और गद्दे पर खूब सारा खून भरा ही था। साथ ही वहां नीचे बहुत सारे खून से भीगे टिशू पेपर पड़े थे। ऐसे में लगता है कि हत्या के दौरान रोहित की नाक से खून बहना शुरू हुआ हो। इसे रोकने या हटाने के लिए यह सब इस्तेमाल किया गया हो। पुलिस ने यह सब जब्त कर लिया है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More National News
PM मोदी कल शाम 4 बजे मंत्रियों के साथ बीजेपी मुख्यालय में करेंगे बैठक ममता-चंद्रबाबू की मुलाकात पूरी, 45 मिनट तक चली बातचीत तमिलनाडु के मुख्य चुनाव अधिकारी को मिली बम से उड़ाने की धमकी कमलनाथ 22 दिन मुख्यमंत्री रहेंगे इस पर भी सवाल: कैलाश विजयवर्गीय परीक्षाओं में श्रेष्ठ प्रदर्शन - लड़कियों के आगे बढ़ने में नया अवरोध । महाराष्ट्र: मुंबई-पुणे हाईवे पर दो बसों में टक्कर, 2 की मौत, 20 घायल पीएम मोदी के बायोपिक की आज बीजेपी मुख्यालय में होगी विशेष स्क्रीनिंग तमिलनाडु: ई पलानीस्वामी बोले- एग्जिट पोल के नतीजे थोपे गए हैं लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान पेड न्यूज के 647 मामले: चुनाव आयोग एमजे अकबर #MeToo मानहानि मामले में आज सुनवाई