Wednesday, June 19, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
Haryana to construct bridge over Ghaggar River in sectors 26-27 and 20-21 in Panchkula Now in Haryana ‘Anath Ashram’ will be knowns as Jagganath Ashram.HARYANA to construct A Helipad at AIIMS, Badsa in district Jhajjar for the convenience of patients हरियाणा विधान सभा ,एचपीएससी,हाई कोर्ट , अधीनस्थ न्यायालयों में काम करने वाले एम्प्लाइज को राज्य सरकार के कर्मचारी के रूप में नहीं माना जा सकता है, इसलिए उन्हें हरियाणा सरकार के किसी अन्य विभाग में स्थानांतरण के आधार पर नियुक्त नहीं किया जा सकता हैहरियाणा सरकार ने रेवाड़ी जिला में धारूहेड़ा के नाम से नया खंड बनाने की मंजूरी दे दी डी.एस.ढेसी ने आज यहां प्रदेश में रिजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के द्वारा लागू की जाने वाली रेल नेटवर्क परियोजनाओं की समीक्षा कीजेजेपी के टपरीवास सेल का विस्तार, कई महत्वपूर्ण नियुक्तियां प्रदेश स्तर पर 18 पदाधिकारियों और 3 जिला प्रधानों की नियुक्तिदिल्ली सरकार ने बिहार सरकार को चमकी से निपटने में मदद का दिया ऑफर
Haryana

जींद में प्रश्नपत्रों की खुली थी सील, नरवाना में पुलिस ने भीड़ कंट्रोल करने को लाठी घुमाई तो भगदड़ मचने से बच्ची की 2 अंगुलियां टूटीं नियम 134ए के टेस्ट में अव्यवस्था

April 15, 2019 07:11 AM


COURTESY DAINIK BHASKAR APRIL 15

जींद में प्रश्नपत्रों की खुली थी सील, नरवाना में पुलिस ने भीड़ कंट्रोल करने को लाठी घुमाई तो भगदड़ मचने से बच्ची की 2 अंगुलियां टूटीं
नियम 134ए के टेस्ट में अव्यवस्था : 1 लाख से ज्यादा बच्चों ने कराया था रजिस्ट्रेशन, 80 फीसदी से ज्यादा ने दी परीक्षा, 18 को आएगा रिजल्ट
प्रश्नपत्र खुले मिलने पर डिप्टी डायरेक्टर के सामने शिक्षक नहीं दे सके संतुष्टजनक जवाब, उच्चाधिकारियों को शिकायत की
भास्कर टीम | हरियाणा
प्रदेशभर में रविवार को नियम 134ए के तहत दूसरी से 12वीं कक्षा तक निजी स्कूलों में मुफ्त दाखिले के लिए परीक्षा हुई। इसमें परीक्षा केंद्रों पर अव्यवस्था सामने आई। जींद के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय डिफेंस काॅलोनी (गोल स्कूल) में परीक्षा से पहले ही डिप्टी डायरेक्टर के निरीक्षण के दौरान प्रश्न पत्र बिना सील लगे मिले। मामले से उच्चाधिकरियों को अवगत करा दिया गया है। इधर, नरवाना कस्बे के आर्य कन्या स्कूल में नियम 134ए की असेसमेंट परीक्षा देकर बाहर आई बच्चों की भीड़ को पुलिस कर्मियों ने लाठी घुमाकर कंट्रोल करने का प्रयास किया। इससे बच्चे डर गए और उनमें अफरा-तफरी मच गई। इसी दौरान 10 साल की छात्रा पायल नीचे गिर गई। छात्रा की एक हाथ की दो अंगुलियों में फैक्चर हो गया।
उधर, हिसार के बीईओ सेकंड कार्यालय ने शनिवार को विद्यार्थियों को एडमिट कार्ड ही जारी नहीं किए। एेसे में रविवार को परीक्षा देने का इंतजार कर रहे करीब 580 स्टूडेंट्स को परेशानियों का सामना करना पड़ा। हालांकि परिजनों के विरोध के बाद बच्चों को परीक्षा में बैठाया गया। गौरतलब है कि रविवार को परीक्षा के लिए प्रदेशभर से 1 लाख से ज्यादा छात्रों ने आवेदन किए थे, लेकिन समय पर नहीं पहुंच पाने और दाखिला प्रक्रिया लेट होने के कारण करीब 80 फीसदी स्टूडेंट ही परीक्षा देने पहुंचे।
बच्चों के साथ अभिभावकों का भी 'परीक्षा' : प्रदेशभर में बच्चों की संख्या के हिसाब से नहीं किए थे पुख्ता इंतजाम, जूझना पड़ा परेशानियों से

नरवाना | आर्य कन्या स्कूल में भगदड़ मचने से घायल हुई छात्रा पायल।
: रोल नंबर न मिले तो रो पड़ीं बच्चियां
पानीपत | माॅडल संस्कृति स्कूल में देरी से परीक्षा शुरू हुई। राेल नंबर न मिलने पर बच्चे राे पड़े।
कलायत में भाई के दाखिले के लिए परीक्षा देने पहुंची 5वीं की छात्रा, शिक्षकों ने अभिभावकों को चेतावनी देकर छोड़ा
कलायत के राजकीय कन्या प्राथमिक पाठशाला में एक छात्र के स्थान पर छात्रा को परीक्षा देते पकड़ लिया गया। खंड शिक्षा अधिकारी परनीता मधोक ने बताया कि परीक्षा शुरू होते ही परीक्षार्थी की पहचान के लिए जब आधार कार्ड से मिलान किया जा रहा था तो ड्यूटी पर तैनात शिक्षक तब हैरान रह गए तब तीसरी कक्षा के एक छात्र के स्थान पर उसकी बहन कक्षा 5वीं की छात्रा परीक्षा देने के लिए पहुंची थी। उस छात्रा ने कुछ ही पेपर हल किया था। अभिभावकों को स्कूल में बुलाया और छात्रा को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया।
दाखिले के लिए फर्जीवाड़ा
: अभिभावकों की भीड़ के बीच फंसी रही डीईईओ की गाड़ी
हिसार | गंगवा के गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल के गेट पर जमा अभिभावकाें की भीड़ बीच जिला माैलिक शिक्षा अधिकारी की गाड़ी फंस गई, जिसे निकालने में पुलिस के पसीने छूट गए।
जद्दोजहद बाकी
55 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य, फिर भी निजी स्कूल में दाखिले की गारंटी नहीं
इस टेस्ट में 55 प्रतिशत अंक लेने वाले बच्चे क्वालीफाई माने जाएंगे। हालांकि अधिकारियों की मानें तो यह प्रतिशतता दाखिले की गारंटी नहीं है। बल्कि केवल क्वालीफाई के लिए है। इसके बाद स्कूल में सीटों की स्थिति देखी जाएगी। यदि उस स्कूल में सीटों की संख्या जितने ही बच्चे हुए या इससे कम हुए तो दाखिला हो जाएगा। यदि सीट कम और क्वालीफाई बच्चे ज्यादा हुए प्रतिशतता देख प्राथमिकता दी जाएगी।
: बच्ची न मिली तो भर आईं मां की आंखें
करनाल | राजकीय स्कूल में परीक्षा देने के बाद बच्ची न मिली महिला रोने लग गई।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
Haryana to construct bridge over Ghaggar River in sectors 26-27 and 20-21 in Panchkula Now in Haryana ‘Anath Ashram’ will be knowns as Jagganath Ashram. HARYANA to construct A Helipad at AIIMS, Badsa in district Jhajjar for the convenience of patients
हरियाणा विधान सभा ,एचपीएससी,हाई कोर्ट , अधीनस्थ न्यायालयों में काम करने वाले एम्प्लाइज को राज्य सरकार के कर्मचारी के रूप में नहीं माना जा सकता है, इसलिए उन्हें हरियाणा सरकार के किसी अन्य विभाग में स्थानांतरण के आधार पर नियुक्त नहीं किया जा सकता है
हरियाणा सरकार ने रेवाड़ी जिला में धारूहेड़ा के नाम से नया खंड बनाने की मंजूरी दे दी डी.एस.ढेसी ने आज यहां प्रदेश में रिजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के द्वारा लागू की जाने वाली रेल नेटवर्क परियोजनाओं की समीक्षा की जेजेपी के टपरीवास सेल का विस्तार, कई महत्वपूर्ण नियुक्तियां प्रदेश स्तर पर 18 पदाधिकारियों और 3 जिला प्रधानों की नियुक्ति
कार स्नैचर्स गिरफतार, वाहन बरामद
HARYANA TRANSFERS 3 HCS OFFICERS
Haryana fixes Standard terms and conditions for appointment of Chairman , Deputy Chairman and Vice Chairman of Bodies other than PSUs, Statutory